BREAKING NEWS

पूर्व मुख्यमंत्री के सहयोगी पर आय से अधिक संपत्ति का मामला, अन्नाद्रमुक आगबबूला◾ राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार पर फिर साधा निशाना, UP गेट पर लगी बैरिकेडिंग के लिए किसे ठहराया जिम्मेदार ?◾पाकिस्तान ने फिर संयुक्त राष्ट्र मंच का दुरूपयोग किया, भारत ने करारा प्रहार किया ◾49 दिन बाद आया पूर्व अफगान राष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह का ट्वीट, पाकिस्तान पर करारा वार किया◾ड्रग्स मामले में अभिनेत्री अनन्या पांडे से दो दिन में 6 घंटे पूछताछ, NCB ने सोमवार को फिर बुलाया◾प्रियंका गांधी और अखिलेश यादव का फ्लाइट में हुआ आमना-सामना, संक्षिप्त में हुई बातचीत◾जम्मू कश्मीर: आतंकवाद पर तेज प्रहार करने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाबल की तैनाती, सड़कों पर बंकरों की वापसी◾सरकार का दावा- प्याज की कीमतें कम, सरसों के तेल की कीमतों में फिलहाल राहत नहीं◾वैक्सीन विदेशों में न भेजती सरकार, तो 6 महीने पहले 100 करोड़ डोज लग जातीं: मनीष सिसोदिया◾पंजाब: रंधावा ने अमरिंदर को घेरा, कहा- कैप्टन ने मुद्दा उठाया और तैनात हो गई BSF, डीजीपी से कराएंगे जांच ◾BKU ने उत्तर प्रदेश चुनाव से पहले नई कार्यकारी परिषद की घोषणा की, जादौन ने जिला अध्यक्षों का ऐलान किया◾गोवा में अपनी राजनीति चमकाने के लिए ममता करेंगी दो दिवसीय दौरा, विधानसभा चुनाव को लेकर होगी चर्चा◾ताइवान के मुद्दे पर आमने-सामने दो महाशक्तियां, अमेरिका बोला- हमला किया तो चीन भुगतेगा अंजाम ◾PM मोदी के देश के नाम संबोधन पर बोली कांग्रेस-'नीम-हकीम खतरा-ए-जान'◾राहुल का केंद्र पर तंज, कहा- ‘मेड इन इंडिया’ सिर्फ एक ‘जुमला’, दोहरी जुबान में बात कर रही सरकार ◾मोदी के दोस्त रोजाना कमा रहे हैं करोड़ों, वहीं 97 फीसदी देशवासियों की आय में आई गिरावट : प्रियंका ◾अचानक आई आपदा के बाद उत्तराखंड में मौसम हुआ साफ, पूरी तरह से बहाल हुई चारधाम यात्रा◾मुंबई : 60 मंजिला रिहायशी इमारत के 19वें फ्लोर पर लगी आग, एक की मौत◾बांग्लादेश : रोहिंग्या रिफ्यूजी कैंप में फायरिंग से सात लोगों की मौत◾मलिक के आरोपों पर बोले वानखेड़े- आप बड़े मंत्री हैं और मैं अदना सा सरकारी सेवक, करवा लें जांच ◾

बच्चों में कोरोना से गंभीर बीमारी और मृत्यु का जोखिम बहुत कम, UK की स्टडी में दावा

विश्व इस समय कोरोना महामारी से जूझ रहा है। करोड़ों की संख्या में लोग इस बीमारी का सामना कर रहे है। संक्रमण से रोजाना मरने वालों की संख्या में भी बढ़ोतरी हो रही है। ब्रिटेन में सार्वजनिक स्वास्थ्य आंकड़ों के व्यापक विश्लेषण में दावा किया गया है कि  बच्चों और किशोरों में कोविड-19 से गंभीर बीमार होने और मृत्यु होने का खतरा बहुत कम होता है। हालांकि, अनुसंधानकर्ताओं ने पाया कि कोरोना वायरस संक्रमण होने से उन युवाओं के गंभीर रूप से बीमार होने की आशंका हो सकती है, जो पहले से गंभीर समस्याओं से जूझ रहे हैं।

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन (यूसीएल), यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल, यूनिवर्सिटी ऑफ यॉर्क और यूनिवर्सिटी ऑफ लिवरपूल के अनुसंधानकर्ताओं की रिपोर्ट में 18 साल से कम उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण की नीति भी सुझाई गयी है। इनमें कुल तीन अध्ययनों का विश्लेषण किया गया। एक अध्ययन में पता चला कि इंग्लैंड में 18 साल से कम उम्र के 251 लोगों को फरवरी 2021 तक कोविड-19 के उपचार के लिए गहन चिकित्सा इकाई में भर्ती कराया गया था। अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार, इससे पता चला कि ब्रिटेन में 47,903 लोगों में से एक किशोर के सार्स-सीओवी-2 से संक्रमित होने की और आईसीयू में भर्ती कराने की आशंका थी।

एक अन्य अध्ययन में बताया गया कि इंग्लैंड में कोविड-19 से 25 बच्चों और किशोरों की मृत्यु हो गयी। यानी 4,81,000 लोगों में से किसी एक को या दस लाख में दो लोगों को संक्रमण से मौत का खतरा था। दोनों अध्ययनों के प्रमुख अध्ययनकर्ता प्रोफेसर रसेल वाइनर ने कहा, ‘‘ये नये अध्ययन दिखाते हैं कि सार्स-सीओवी-2 से गंभीर रोग या मृत्यु का खतरा बच्चों और किशोरों में बहुत कम है।’’ तीसरे अध्ययन में 55 शोधपत्रों का विश्लेषण करने के बाद उक्त दोनों अध्ययनों के समान ही निष्कर्ष निकाले गये।

सीमावर्ती साम्बा जिले में 4 लोगों की संदिग्ध गतिविधियों के बाद सुरक्षा बलों ने अभियान किया शुरू