BREAKING NEWS

केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾महाराष्ट्र, हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान आज , देशभर में 51 विधानसभा सीटों के लिए भी उपचुनाव◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾प्याज के मुद्दे पर भाजपा का केजरीवाल पर हमला, मुख्यमंत्री आवास का होगा घेराव◾सीमा पार तीन आतंकी शिविर ध्वस्त किये गए, 6-10 पाक सैनिक ढेर : सेना प्रमुख ◾PoK में भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : सेना ने LoC पार जैश, हिजबुल के 35 आतंकी मार गिराए◾30 अक्टूबर को जामिया के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति कोविंद होंगे मुख्य अतिथि◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए कल होगा मतदान, BJP लगातार दूसरे कार्यकाल की कोशिश में ◾वैश्विक आर्थिक जोखिमों के कारण बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत : सीतारमण ◾मनमोहन सिंह करतारपुर गलियारे के औपचारिक उद्घाटन में नहीं होंगे शामिल : सूत्र◾TOP 20 NEWS 20 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत की तरफ से गोलीबारी में हमारे 4 जवान शहीद, हमने भारतीय सेना के 9 सैनिकों को मार गिराया : PAK◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: योगी से मिले परिजन, पत्नी बोली- CM ने हर संभव कार्रवाई का दिया आश्‍वासन◾भारतीय सेना ने PoK में तबाह किए आतंकी कैंप, 5 पाकिस्तानी सैनिक ढेर◾अभिजीत बनर्जी को लेकर BJP पर राहुल ने साधा निशाना, कहा- ये बड़े लोग नफरत से अंधे हो गए है◾अभिजीत बनर्जी के नोबेल पुरस्कार को राजनीतिक चश्मे से न देखा जाए : मायावती◾क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं देश : निर्मला सीतारमण◾पाकिस्तान ने किया संषर्ष विराम का उल्लंघन, 2 सैनिक शहीद, 1 नागरिक की मौत◾तुर्की ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का दिया साथ, PM मोदी ने रद्द की यात्रा ◾ओवैसी बोले- एक दिन में 15 बोतल किया रक्तदान, हुए ट्रोल◾

विदेश

हम भारत की ऊर्जा सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने को प्रतिबद्ध : सऊदी अरब

सऊदी अरब ने अपने तेल संयंत्रों पर हुए अब तक के सबसे बड़े हमलों के बाद वैश्विक तेल आपूर्ति बाधित होने के बीच कहा है कि वह भारत की ऊर्जा सुरक्षा जरूरतों को पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ ही, वह बाजार की स्थिरता बनाये रखने के लिए अन्य तेल उत्पादकों के साथ रचनात्मक रूप से काम करेगा। 

सऊदी अरब के राजदूत डा. सऊद बिन मोहम्मद अल साती ने कहा कि उनका देश जमीनी स्थिति देखने और हमलों की जांच में शामिल होने के लिए संयुक्त राष्ट्र और अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों को आमंत्रित करेगा। 

यह पूछे जाने पर कि ईरान से तेल आयात पर प्रतिबंध के चलते उसकी भरपाई के लिए क्या सऊदी अरब भारत को तेल की आपूर्ति बढ़ाएगा, राजदूत ने कहा, ‘‘उनका देश भारत की ऊर्जा सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और अन्य स्रोतों से बाधाओं के चलते पैदा होने वाली किसी भी कमी को वह पूरा करेगा।’’ 

सऊदी तेल संयंत्रों पर हुए अब तक के सबसे बड़े हमले पर उन्होंने कहा कि सऊदी अरब में स्वयं की रक्षा करने तथा ‘‘इन आक्रमणों’’ का पूरी ताकत से जवाब देने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि उनका देश हमले के बाद रियाद का समर्थन करने और उसके साथ एकजुटता प्रदर्शित करने के लिए भारत की प्रशंसा करता है। 

उन्होंने कहा कि ये हमले एक तरह से ‘‘पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय के खिलाफ थे।’’ सऊदी अरब की राष्ट्रीय पेट्रोलियम कंपनी सऊदी अरामको के तेल संयंत्रों पर गत 14 सितम्बर को किये गए ड्रोन और मिसाइल हमलों के चलते उसका दैनिक तेल उत्पादन तकरीबन आधा ठप हो गया। इससे वैश्विक तेल बाजार पर गंभीर प्रभाव पड़ा और सऊदी अरब और ईरान के बीच तनाव उत्पन्न हो गया। 

सऊदी अरब भारत की ऊर्जा सुरक्षा का एक प्रमुख आधार है। सऊदी अरब भारत के कच्चे तेल का 17 प्रतिशत या उससे अधिक और भारत की एलपीजी आवश्यकताओं का 32 प्रतिशत का स्रोत है। अरामको के अबकैक और खुरैस संयंत्रों पर हमलों से शीर्ष तेल निर्यातक द्वारा तेल आपूर्ति में बाधा के चलते गत सप्ताह वैश्विक तेल कीमतों में 15 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हो गई थी। 

अल साती ने कहा कि वैश्विक ऊर्जा आपूर्ति के लिए जरूरी सऊदी पेट्रोलियम संयंत्रों पर ‘‘अभूतपूर्व हमले’’ से सऊदी अरामको का उत्पादन करीब 50 प्रतिशत बाधित हुआ। 

राजदूत ने कहा, ‘‘जांच चल रही है। सऊदी अरब संयुक्त राष्ट्र और अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों को जमीनी स्थिति देखने और जांच में शामिल होने के लिए आमंत्रित करेगा।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘सऊदी अरब अपनी सुरक्षा और स्थिरता सुनिश्चित करने के लिए उपुयक्त कदम उठाएगा। सऊदी अरब का यह दृढ़ता के साथ कहना है कि उसमें अपनी सरजमीं, अपने लोगों की रक्षा करने और इन हमलों का जोरदार तरीके से जवाब देने की क्षमता और संकल्प है।’’ 

यमन के हूती आतंकवादी समूह ने सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हुए अब तक के सबसे बड़े हमलों की जिम्मेदारी ली है। इस हमले से वैश्विक तेल आपूर्ति काफी प्रभावित हुई है। 

सऊदी अरब और उसके सहयोगी देश अमेरिका ने इन हमलों के लिए ईरान को जिम्मेदार ठहराया है लेकिन तेहरान ने आरोपों से इनकार किया है। 

राजदूत ने कहा, ‘‘सऊदी अरामको के खिलाफ यह हालिया हमला केवल सऊदी अरब के खिलाफ नहीं, बल्कि एक तरह से पूरे अंतरराष्ट्रीय समुदाय के खिलाफ था और यह वैश्विक अर्थव्यवस्था में बाधा उत्पन्न करने का जानबूझकर किया गया प्रयास था। इसलिए दोषियों को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘सऊदी अरामको का भारत के ऊर्जा क्षेत्र में प्रस्तावित निवेश हमारे द्विपक्षीय संबंध में रणनीतिक मील का पत्थर है, जैसे महाराष्ट्र में पश्चिमी तट रिफाइनरी और पेट्रोकेमिकल परियोजना में 44 अरब अमेरिकी डालर और रिलायंस के साथ दीर्घकालिक साझेदारी।’’ 

उन्होंने कहा कि विश्व के शीर्ष तेल उत्पादकों में शामिल सऊदी अरब बाजार की स्थिरता बनाये रखने के लिए ‘ओपेक’ के भीतर और उसके बाहर अन्य उत्पादकों के साथ रचनात्मक रूप से काम करना जारी रखेगा। इस तरह से उत्पादकों और उपभोक्ताओं दोनों के हितों की रक्षा होगी। 

ओपेक (आर्गेनाइजेशन ऑफ पेट्रोलियम एक्सपोर्टिंग कंट्रीज) 14 तेल उत्पादक देशों का समूह है। 

राजूदत ने कहा, ‘‘भारत ने हमारे तेल संयंत्रों पर हमलों की निंदा की और आतंकवाद के सभी स्वरूपों का विरोध करने का संकल्प दोहराया। एक मित्र एवं रणनीतिक साझेदार के तौर पर हम भारत द्वारा समर्थन एवं एकजुटता प्रदर्शित करने की प्रशंसा करते हैं।’’ 

उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में संकेत मिला है कि हमले में इस्तेमाल हथियार ईरानी थे और हमले के स्रोत का पता लगाने के लिए जांच जारी है। 

उन्होंने कहा, ‘‘सऊदी अरब इस घृणित अपराध की निंदा करता है, जो अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा को खतरा उत्पन्न करता है और दावे से कहता है कि इस हमले का प्राथमिक लक्ष्य ईरानी हथियारों का उपयोग करते हुए सऊदी अरामको पंपिंग स्टेशनों के खिलाफ हुए पिछले हमलों के अनुरूप है।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘सऊदी अरब अंतरराष्ट्रीय समुदाय का आह्वान करता है कि वह इस कृत्य के पीछे मौजूद देशों/लोगों की निंदा करने की अपनी जिम्मेदारी निभाये और वैश्विक अर्थव्यवस्था को खतरे में डालने वाले इस लापरवाह व्यवहार के खिलाफ दृढ़ और स्पष्ट रूख अपनाये।’’ 

राजदूत ने कहा कि सऊदी अरब क्षेत्र की सुरक्षा स्थिर रखने के लिए अपने साझेदारों और सहयोगियों के साथ काम करना जारी रखेगा। 

उन्होंने कहा, ‘‘हम भारत के साथ साझेदारी जारी रखने को उत्सुक हैं। सऊदी अरब ने भारत को एक मित्र एवं एक रणनीतिक साझेदार के तौर पर महत्व दिया है।’’ 

उन्होंने कहा कि ऐसे में जब हम साथ मिलकर नये क्षितिज तलाश रहे हैं, हमारे लोगों के बीच ऐतिहासिक संबंध हमारे मैत्रीपूर्ण और रणनीतिक संबंधों के आधार बने रहेंगे। 

पिछले कुछ वर्षों में सऊदी अरब के साथ भारत के संबंध प्रगाढ़ हुए हैं जो कि कई अन्य क्षेत्रों में सहयोग के अलावा ऊर्जा संबंधों पर आधारित हैं। सऊदी अरब के साथ भारत का द्विपक्षीय व्यापार 2017..2018 में 27.48 अरब अमेरिकी डालर था। इसके तहत सऊदी अरब उसका चौथा सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2016 में रियाद यात्रा ने द्विपक्षीय संबंधों को एक नयी दिशा दी। सऊदी अरब में 29.6 लाख से अधिक भारतीय नागरिक काम कर रहे हैं, जो देश में सबसे बड़ा प्रवासी समुदाय है।