BREAKING NEWS

Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾यासीन मलिक की सजा पर कुछ देर में फैसला, NIA ने सजा-ए-मौत का किया अनुरोध◾Sri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया ने नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, पीएम रानिल विक्रमसिंघे को सोपी यह कमान ◾पाकिस्तान में बन रहे गृह युद्ध के हालात... इमरान खान पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार, जानें पूरा मामला ◾SP के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे कपिल सिब्बल.. नामांकन दाखिल! डैमेज कंट्रोल में जुटे अखिलेश? ◾पेरारिवलन से MK स्टालिन की मुलाकात पर बोले राउत-ये हमारी संस्कृति और नैतिकता नहीं◾यूक्रेन के मारियुपोल में इमारत के भूतल में मिले 200 शव, डोनबास में जारी है पुतिन की सेना के ताबड़तोड़ हमले ◾हिंदू पक्ष ने Worship Act 1991 को बताया असंवैधानिक...., SC में नई याचिका हुई दायर, जानें क्या कहा ◾J&K : बारामूला मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 पाकिस्तानी आतंकी, पुलिस का 1 जवान शहीद ◾बिहार में फिर कहर बनकर टूटी जहरीली शराब, गया और औरंगाबाद में अब तक 11 की मौत◾राज्यसभा के लिए SP ने फाइनल किए नाम, सिब्बल के जरिए एक तीर से दो निशाने साधेंगे अखिलेश?◾केंद्रीय मंत्री के ट्विटर से गायब हुए मुख्यमंत्री... नीतीश संग जारी मतभेद पर RCP ने कही यह बात, जानें मामला ◾

अफगानिस्तान में आए जानलेवा तालिबान संकट के बीच खुली हवा में सांस लेने वाली नयी पीढ़ी का क्या होगा अंजाम

अफगानिस्तान में हालात पिछले दो दशकों में नाटकीय रूप की तरह पूरी तरह से बदल गए हैं। तालिबान या यहां तक कि पाकिस्तान इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) ने अमेरिकी सैनिकों की वापसी के बाद देश में सरकारी गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसका कोई हिसाब नहीं है।विदेश नीति निरीक्षकों ने बताया है कि युवा अफगान जो आमतौर पर 20 से 30 वर्ष के हैं अब एक अलग जिंदगी जीने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं जो आजाद, लोकतांत्रिक और खुल गए हैं।उन्हीं में से एक ने बताया कि सरकार की सख्ती मध्यम अवधि में भी उनका प्रबंधन करना आसान नहीं कर सकती है।

तालिबान के लिए, अफगानिस्तान के लोगों की स्वीकार्यता प्राप्त करने की सबसे बड़ी चुनौती है, जो अब अपनी आजादी के लिए इस्तेमाल की जाती है और उनके अधिकारों के प्रति जागरूक हैं जो पुरुष और महिला दोनों के लिए हैं।चूंकि तालिबान ने काबुल पर पूरी तरह से नियंत्रण कर लिया है, जिसे मुख्य चहरे मुल्ला अब्दुल गनी बरदार और शेर मोहम्मद अब्बास स्तानिकजई ने चित्रित किया था, उनके शासन की दूसरी पारी एक मध्यम और समावेशी होगी। हालांकि, तालिबान के उदारवादी चेहरे को आसानी से हटा दिया गया है। अनिवार्य रूप से तालिबान 2.0 केवल तालिबान 1.0 की दोहराव है जो ²ढ़ और आधुनिक विरोधी है। आईएसआई प्रमुख फैज हमीद ने काबुल में एक देखभाल करने वाली सरकार बनाने के लिए डेरा डाला था, जिसमें आतंकियों ने हक्कानी नेटवर्क को अपने मूल में दागा और अपराधी बना दिया।

संयुक्त राष्ट्र ब्लैकलिस्टेड मुल्लाह मोहम्मद हसन अखुंद के नेतृत्व वाली सरकार ने पहले ही एक फरमान को पास कर लिया है, जिसमें महिलाओं को घर पर रहने के लिए कहा जा रहा है।अफगानिस्तान परंपरागत रूप से अपनी प्रगतिशील सोच के लिए जाना जाता है, उसने 1964 में वहां रहने वाली महिलाओं को समानता का अधिकार दिया था। हालांकि 1990 के दशक में तालिबान शासन के तहत, इन अधिकारों को छीन लिया गया, फिर 2004 में उन्हें बहाल कर दिया गया।

विश्लेषक ने कहा, यह एक महत्वपूर्ण मोड़ है, जितनी जल्दी या बाद में देश एक गंभीर गृहयुद्ध में टूट जाएगा जिसके बाद देश के पुरुष और महिलाएं तालिबान शासन को स्वीकार नहीं करेंगे।विश्वविद्यालय की एक छात्रा रमजिया अब्देखिल ने हुर्रियत डेली न्यूज को बताया कि पिछले दो दशकों में अफगानिस्तान और अफगान महिलाओं में काफी बदलाव आया है।

उन्होंने कहा कि तालिबान को यह समझना चाहिए कि आज का अफगानिस्तान वैसा नहीं है जैसा उन्होंने 20 साल पहले शासन किया था। उस समय, उन्होंने जो कुछ भी करना चाहा, उन्होंने किया और हम चुप रहे। अब और नहीं, हम चुप नहीं रहेंगे। वे जो कहते हैं हम उसे स्वीकार नहीं करेंगे, हम बुर्का नहीं पहनेंगे और घर पर नहीं बैठेंगे।विशेष रूप से, देश भर में महिलाएं तालिबानियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रही हैं।

इसके अलावा, विश्व समुदाय अफगानिस्तान के घटनाक्रम पर करीब से नजर रखे हुए है। चीन और पाकिस्तान और कुछ अन्य लोगों के अलावा, विश्व समुदाय तालिबान के साथ काम करने की इच्छा दिखाने में आगे नहीं आया हैपिछली बार तालिबान को तत्काल मान्यता देने वाले मध्य पूर्व के कई देशों ने भी चुप्पी साध रखी है।

इतना ही नहीं, भारत सहित कई देशों ने वहां के लोगों और तालिबान शासन के बीच स्पष्ट अंतर किया है।विश्लेषकों ने कहा, आज के संदर्भ में तालिबान की गणना गलत हो सकती है, हमें अगले कुछ महीनों में सामने आने वाली स्थिति को  ध्यान से देखना होगा।

source-ians 

दिल्ली: पटाखों की बिक्री एवं इस्तेमाल पर लगी पाबंदी, केजरीवाल सरकार ने लिया बड़ा फैसला