BREAKING NEWS

मुस्लिम विरोधी बयानबाजी से भाजपा को कोई फायदा नहीं होने वाला, जयंत चौधरी ने सरकार पर लगाया आरोप ◾UP विधानसभा चुनाव: BJP प्रचार अभियान में इन शहरों को दे रही तवज्जों, हिंदुत्व के एजेंडे पर दिखाई दे रहा फोकस◾दिल्ली में लगाई गई पाबंदियों का कोरोना के प्रसार पर हुआ असर, अस्पतालों में भर्ती होने वालों की संख्या स्थिर : जैन ◾अनुराग ठाकुर का सपा पर तंज, बोले- समाजवाद का असली खेल या तो प्रत्याशी को जेल या फिर बेल◾क्या है BJP की सबसे बड़ी कमियां? जनता ने दिया जवाब, राहुल बोले- नफरत की राजनीति बहुत हानिकारक ◾खुद PM मोदी ने हमें दिया है ईमानदारी का सर्टिफिकेटः अरविंद केजरीवाल◾UP : कोरोना की स्थिति नियंत्रित,CM योगी ने लोगों से की अपील- भीड़ में जाने से बचें और सावधानी बरतें◾देशव्यापी टीकाकरण अभियान का एक वर्ष पूरा हुआ, पीएम मोदी समेत इन दिग्गज नेताओं ने ट्वीट कर दी बधाई ◾Lata Mangeshkar Health Update: जानें अब कैसी है भारत की कोयल की तबीयत, डॉक्टर ने दिया अपडेट ◾यूपी के चुनावी दंगल में AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की पहली सूची, सभी मुस्लिम चेहरे को तरजीह, देखें लिस्ट◾गोवा में AAP को बहुमत नहीं मिला तो पार्टी गैर-भाजपा के साथ गठबंधन बनाने के बारे में सोचेगी : CM केजरीवाल◾UP चुनाव की टक्कर में OBC का चक्कर, जानें किसके सिर पर सजेगा जीत का ताज और किसे मिलेगी मात ◾योगी सरकार के पूर्व मंत्री दारासिंह चौहान ने ज्वाइन की साइकिल, कुछ दिन पहले ही छोड़ा था बीजेपी का साथ ◾टीकाकरण अभियान का एक साल पूरा, नड्डा बोले- असंभव कार्य को संभव किया और दुनिया ने देश की सराहना की ◾पीएम मोदी की सुरक्षा चूक मामले में की जा रही राजनीति सही नहीं : मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा◾राजस्थान: कोरोना की बढ़ती रफ्तार से सरकार चिंतित, मंत्री बोले- लोगों को कोविड प्रोटोकॉल का करना होगा पालन ◾टिकट न मिलने से नाखुश SP कार्यकर्ता ने की आत्मदाह की कोशिश, प्रदेश मुख्यालय के बाहर मची खलबली ◾कोरोना से जंग में ब्रह्मास्त्र बनी वैक्सीन, टीकाकरण को पूरा हुआ 1 साल, करीब 156.76 करोड़ लोगों को दी खुराक ◾यूपी चुनाव: अखिलेश ने चला सामाजिक न्याय का दांव, भाजपा जनकल्याणकारी योजनाओं और हिंदुत्व के भरोसे◾CBSE की तैयारी, कोरोना लहर बीतने के बाद बोर्ड परीक्षा की बारी,शिक्षा मंत्रालय तैयारियों को लेकर सतर्क◾

WHO ने ओमिक्रॉन कोविड वैरिएंट को लेकर सभी देशों को सतर्क रहने को कहा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने शनिवार को दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र के देशों से निगरानी बढ़ाने, सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को मजबूत करने और टीकाकरण कवरेज को बढ़ाने की अपील की है, क्योंकि कोविड का एक नया वैरिएंट तेजी से उभर रहा है। कोविड-19 का नया वैरिएंट महामारी के अन्य वैरिएंट के मुकाबले कहीं ज्यादा संक्रामक बताया जा रहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे लेकर देशों को आगाह किया है। डब्ल्यूएचओ ने इस वायरस को ग्रीक शब्द के साथ ओमिक्रॉन नाम दिया है।

नया स्ट्रेन वायरस  पिछले म्यूटेंट से अधिक खतरनाक 

वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने कहा है कि नया स्ट्रेन वायरस के पिछले म्यूटेंट (उत्परिवर्तन) की तुलना में पुन: संक्रमण का अधिक जोखिम पैदा कर सकता है। डब्ल्यूएचओ दक्षिण-पूर्व एशिया क्षेत्र की क्षेत्रीय निदेशक डॉ. पूनम खेत्रपाल सिंह ने एक बयान में कहा, हालांकि हमारे क्षेत्र के अधिकांश देशों में कोविड-19 मामलों में गिरावट आ रही है, मगर दुनिया की अन्य जगहों पर मामलों में वृद्धि हो रही है, जो कि चिंताजनक है। एक नए वैरिएंट की पुष्टि निरंतर जोखिम की याद दिलाती है और इसलिए हमें वायरस से बचाव और इसके प्रसार को रोकने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास जारी रखने की आवश्यकता है।

देशों को निगरानी और अनुक्रमण (सीक्वेंसिंग) बढ़ाना चाहिए। उन्हें सकुर्लेटिंग वैरिएंट्स (परिसंचारी रूपों) और प्रतिक्रिया क्षमताओं पर अपडेटिड जानकारी के आधार पर अंतर्राष्ट्रीय यात्रा के माध्यम से आने वाले लोगों के जोखिम का आकलन करना चाहिए और तदनुसार उपाय करने चाहिए। क्षेत्रीय निदेशक ने कहा, प्रसारण को रोकने के लिए व्यापक और अनुरूप सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों को जारी रखना चाहिए।

अधिक सर्तक रहने की जरूरत 

खेत्रपाल ने जोर देते हुए कहा कि लोगों को सबसे महत्वपूर्ण बात यह करनी चाहिए कि वे वायरस के संपर्क में आने के जोखिम को कम करें - मास्क पहनें और इसे नाक और मुंह को अच्छी तरह से ढकें; दूरी बनाए रखे; जहां हवादार जगह न हो या भीड़-भाड़ वाली जगहों से बचें। इसके साथ ही उन्होंने हाथ साफ रखने, खांसी और छींकते समय मुंह को कवर करने के अलावा टीका लगवाने पर भी जोर दिया।

उन्होंने कहा, अभी तक, क्षेत्र की 31 प्रतिशत आबादी पूरी तरह से टीकाकरण करा चुकी है, 21 प्रतिशत आंशिक रूप से टीकाकरण करा चुकी है, जबकि लगभग 48 प्रतिशत, या लगभग एक अरब लोगों को अभी तक कोविड-19 वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं मिली है।

वैक्सीन ना लगवाने पर खड़ी हो सकती हैं मुसिबत 

डॉ. खेत्रपाल ने आगाह करते हुए कहा कि जिन लोगों ने वैक्सीन नहीं ली है, उन्हें बीमारी के गंभीर परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं और इससे संक्रमण और आगे फैलने का खतरा भी बना रहता है।इसके साथ ही उन्होंने सलाह दी है कि टीका लगवाने के बाद भी, सभी को संक्रमित होने से बचने के सभी प्रयास करने होंगे।

फिलहाल शोधकर्ता यह समझने के लिए काम कर रहे हैं कि यह वैरिएंट कितना पारगम्य (फैल सकने वाला) या विषाणुजनित है, और यह निदान, चिकित्सा विज्ञान और टीकों को कैसे प्रभावित कर सकता है।

सबसे पहले नए वैरिएंट ने दक्षिण अफ्रीका में दस्तक दी थी  

बता दें कि यह वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था। वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि इसकी संक्रमण की दर बहुत तेज हो सकती है और मरीजों में गंभीर लक्षण विकसित हो सकते हैं। वैज्ञानिकों का मानना है कि इस नए वैरिएंट में कई 10 म्यूटेशन हो सकते हैं। म्यूटेट होने का मतलब है कि वायरस के जेनेटिक मटेरियल में बदलाव होना। वहीं दूसरी ओर फाइजर एंड बायोटेक, मॉडर्ना, जॉनसन एंड जॉनसन और एस्ट्राजेनेका सहित प्रमुख वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों ने शुक्रवार को कहा कि वे अपने शॉट्स को वायरस के एक नए और अत्यधिक तेज म्यूटेंट स्ट्रेन के प्रति प्रभावशाली होने के बारे में जांच का काम कर रहे हैं।