BREAKING NEWS

PFI से पहले RSS पर प्रतिबंध लगाया जाना चाहिए था - लालू◾IND vs SA (T20 Match) : भारत ने पहले टी20 मैच में दक्षिण अफ्रीका को 8 विकेट से हराया◾Ukraine crisis : यूक्रेन संकट का स्वरूप अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए ‘घोर चिंता’ का विषय - भारत◾Uttar Pradesh: फरार नेता हाजी इकबाल की अवैध खनन से अर्जित करोड़ों की सम्पत्ति कुर्क◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : प्रियंका संभाले पार्टी की कमान, सांसद खालिक ने दिया बेतुका तर्क ◾सीडीएस नियुक्ति :चौहान ने सर्जिकल स्ट्राइक में निभाई थी अहम भूमिका, रिटायर होने के बाद भी केंद्र ने सौंपी जिम्मेदारी ◾महंगाई की जड़ 'मोदी'! कांग्रेस का BJP पर कटाक्ष- केंद्र की दमन नीतियों के कारण गरीब का हो रहा शोषण ◾रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल अनिल चौहान होंगे देश के नए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ ◾पाकिस्तान में चीनी नागरिक की हत्या, डेंटल क्लीनिक में मरीज बनकर दाखिल हुआ था हमलावर ◾केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा संगठन पर प्रतिबंध लगाने के निर्णय को स्वीकार करते है: PFI ◾पीएम मोदी ने कहा- 80 करोड़ लोगों को गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार से मिलेगा फायदा◾गुजरात विधानसभा चुनाव : हीरा कारोबारी ने जॉइन की बीजेपी, पूर्व में कर्मचारियों को 'आप' से दूर रहने के लिए कहा था ◾Gold today Price: खुशखबरी-खुशखबरी! त्यौहारों से पहले सस्ता हुआ सोना, फटाफट इतने में खरीदे 10gm Gold ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में दिग्विजय सिंह की एंट्री, मुकाबला कड़ा होने की आशंका ◾गुलाम अली, बिप्लब देब ने राज्यसभा की सदस्यता की शपथ ली◾Malali Masjid dispute: मस्जिद VS मंदिर! मलाली मस्जिद पर अदालत 17 oct को सुनाएगी फैसला, जानें मामला ◾श्रीलंका से भारत तक खूनी कृत्यों में लिप्त हैं पीएफआई, जघन्य आतंकी घटनाओं में रहा हैं शामिल ◾10 हजार करोड़ के निवेश से बदलेगी दिल्ली समेत तीन प्रमुख रेलवे स्टेशनों की काया, सरकार ने तैयार किया प्लान◾AAP विधायक अमानतुल्लाह खान को एक लाख के निजी बॉन्ड पर मिली जमानत◾मुख्तार अब्बास नकवी का आरोप, बोले: कुछ लोग PFI पर प्रतिबंध को लेकर भी कर रहे सियासी नुकसान का गुणा-भाग ◾

डब्ल्यूएचओ ने चेताया-ओमीक्रोन सामान्य जुकाम नहीं! चरमरा सकती है स्वास्थ्य व्यवस्था

ओमीक्रोन में सामान्य सर्दी-जुकाम जैसे लक्षण होने की खबरों के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बुधवार को चेताते हुए कहा कि यह सामान्य जुकाम नहीं है और इसे हल्के में नहीं लिया जाना चाहिए।यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन एनालिसिस के मुताबिक, ओमिक्रॉन वैरिएंट के चार सबसे आम लक्षण खांसी, थकान, रक्त का जमाव (कंजेशन) और नाक बहना हैं। यूके आधारित एक हालिया अध्ययन ने इस श्रेणी में मतली और भूख न लगने को भी जोड़ा है।

डेल्टा की तुलना में ओमिक्रॉन की वजह से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम कम होता है

दक्षिण अफ्रीका, अमेरिका और यूके के कई अध्ययनों से पता चला है कि अत्यधिक संक्रमणीय वेरिएंट के कारण होने वाले संक्रमण आमतौर पर हल्के होते हैं, जिनमें अस्पताल में भर्ती होने की कम आवश्यकता होती है।डब्ल्यूएचओ की महामारी विज्ञानी डॉ. मारिया वान केरखोव ने एक ट्वीट में कहा, ओमीक्रोन आम कोल्ड नहीं है।उन्होंने कहा, हालांकि कुछ रिपोटरें में डेल्टा की तुलना में ओमिक्रॉन की वजह से अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम कम होता है, फिर भी बहुत से लोग संक्रमित हैं, बीमार हैं और अस्पताल में हैं और साथ ही ओमीक्रोन (और डेल्टा) से मर रहे हैं।

ओमीक्रोन आम कोल्ड नहीं है!

यूके ने कथित तौर पर ओमिक्रॉन वैरिएंट के कारण लगभग 14 मौतें दर्ज की हैं, जबकि अमेरिका और दक्षिण कोरिया में एक-एक मौत हुई है। मौतें मुख्य रूप से गैर-टीकाकरण वाले व्यक्तियों की हुईं हैं।डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने ट्विटर पर दोहराया, ओमीक्रोन आम कोल्ड नहीं है! स्वास्थ्य व्यवस्था चरमरा सकती है।उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा, बड़ी संख्या में रोगियों के परीक्षण, सलाह और निगरानी के लिए सिस्टम होना महत्वपूर्ण है, क्योंकि वृद्धि अचानक और भारी हो सकती है।

केरखोव ने कहा कि वैक्सीन इक्विटी सुनिश्चित करके हम संक्रमण को रोक सकते हैं और जीवन को बचा सकते हैं।इस बीच, डब्ल्यूएचओ ने मंगलवार को यह भी कहा कि उभरते हुए सबूतों से पता चलता है कि ओमीक्रोन ऊपरी श्वसन तंत्र को प्रभावित कर रहा है, जिससे पिछले वैरिएंट की तुलना में हल्के लक्षण दिखाई दे रहे हैं।डब्ल्यूएचओ के इंसीडेंट मैनेजर आब्दी महमूद ने जिनेवा स्थित पत्रकारों से कहा, हम अधिक से अधिक अध्ययनों को यह बताते हुए देख रहे हैं कि ओमिक्रॉन शरीर के ऊपरी हिस्से को संक्रमित कर रहा है। अन्य लोगों के विपरीत, यह गंभीर निमोनिया का कारण बन सकता है।

दुनिया भर में ओमीक्रोन के कारण बढ़ते संक्रमण से नए वेरिएंट्स का उदय हो सकता है

मीडिया रिपोटरें में कहा गया है कि साथ ही, वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने चेतावनी दी है कि दुनिया भर में ओमीक्रोन के कारण बढ़ते संक्रमण से नए वेरिएंट्स का उदय हो सकता है। इसने चेताया है कि जितना अधिक वेरिएंट फैलता है, उतना ही यह खुद को दोहरा सकता है और एक नया वेरिएंट भी सामने आ सकता है जो अधिक घातक हो सकता है।

फ्रांस ने आईएचयू नाम के एक नए वेरिएंट का पता लगाया है। नया वेरिएंट, 46 म्यूटेंट के साथ, पहले से ही 12 लोगों को संक्रमित कर चुका है, जिनमें टीकाकरण वाले और गैर टीकाकरण वाले लोग शामिल हैं। हालांकि यह ओमिक्रॉन की तुलना में अधिक जोखिम पैदा कर सकता है, जिसे अत्यधिक फैलने वाला, लेकिन संक्रमण में हल्का और डेल्टा वैरिएंट की तुलना में कम घातक बताया गया है। शोधकर्ताओं ने इसके बारे में बात करते हुए कहा है, सिर्फ 12 मामलों के आधार पर इस आईएचयू वेरिएंट की वायरोलॉजिकल, महामारी विज्ञान या नैदानिक विशेषताओं पर अटकलें लगाना जल्दबाजी होगी।

UP में कोरोना की मार, 10वीं कक्षा तक के स्कूल 16 जनवरी तक रहेंगे बंद,आज से बढ़ जायेगा नाईट कर्फ्यू का टाइम