BREAKING NEWS

J&K News: जम्मू कश्मीर के कठुआ में सुरक्षाबलों ने पाकिस्तानी ड्रोन को मार गिराया गया◾'मन की बात' में बोले मोदी- देश में 'यूनिकॉर्न' कंपनियों की संख्या हुई 100, महामारी में भी बढ़ा स्टार्टअप और धन ◾नेपाल : 22 लोगों को लेकर जा रहा तारा एयरलाइन्स का विमान लापता, 4 भारतीय भी थे सवार, तलाश जारी ◾दिल्ली : साकेत कोर्ट के जज की पत्नी ने की आत्महत्या, कल से थी लापता, जांच में जुटी पुलिस ◾दिल्ली पुलिस कमिश्नर राकेश अस्थाना की फोटो का इस्तेमाल कर युवक को दी धमकी, स्पेशल सेल कर रही जांच ◾यूपी : कर्नाटक से अयोध्या जा रहे श्रद्धालुओं के वाहन की ट्रक से टक्कर, 6 की मौत, 10 घायल ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,828 नए केस, उपचाराधीन मामलों की संख्या हुई 17 हजार 87 ◾इंडोनेशिया : इंजन फेल होने से मकासर जलडमरूमध्य में डूबा जहाज, 25 लोग लापता, तलाश जारी ◾भारत के टीकाकरण अभियान की बिल गेट्स ने की तारीफ, दुनिया को सीख लेने की दी नसीहत ◾राज्यसभा को लेकर झारखंड के CM हेमंत सोरेन ने की सोनिया गांधी से की मुलाकात, मिल सकती है एक सीट ? ◾लिपुलेख, कालापानी को लेकर नेपाल ने फिर दोहराया बयान, PM देउबा बोले- जमीन वापस लेने के लिए है प्रतिबद्ध ◾आज का राशिफल ( 29 मई 2022)◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾ J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾

तालिबान का समर्थन करने वाला कतर क्यों हुआ तालिबान से खफा ?

अफगानिस्तान में बेहतर और समावेशी शासन देने के तालिबान के कथित दावों के बीच उसकी हरकतों से मानसिकता का असली चेहरा सामने आने लगा है। तालिबान को खुले दिल से समर्थन देने वाला देश कतर फिलहाल इस संगठन से काफी नाराज है। कतर के एक टॉप डिप्लोमैट ने कहा है कि लड़कियों की शिक्षा को लेकर तालि तालिबान का रवैया बेहद निराश करने वाला है और ये कदम अफगानिस्तान को और पीछे धकेल देगा। उनका ये भी कहना था कि अगर वाकई तालिबान को एक इस्लामिक सिस्टम अपने देश में चलाना है तो तालिबान को कतर से सीखना चाहिए। कतर के विदेश मंत्री शेख मोहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल थानी ने एक न्यूज कॉन्फ्रेंस में यूरोपियन फॉरेन पॉलिसी चीफ जोसेफ बोरेल के साथ बातचीत की और कई मुद्  सहित अफगानिस्तान में लड़कियों की एजुकेशन पर रोक को निराशाजनक बताया।  उन्होंने कहा कि हाल ही में अफगानिस्तान में जिस तरह के कदम उठाए गए हैं, दुर्भाग्यपूर्ण हैं। ये देखकर काफी निराशा हुई है कि ये कुछ ऐसे स्टेप्स लिए गए हैं जिससे अफगानिस्तान विकास की राह में काफी पीछे जा सकता है।

गौरतलब है कि अमेरिकी सेना के निकलने के बाद पिछले कुछ हफ्तों में अफगानिस्तान में उथल-पुथल मची है और कतर ने इस संवेदनशील समय में अफगानिस्तान की काफी मदद की थी. इसके अलावा हजारों विदेशियों और अफगानियों को भी इस देश से निकालने में मदद की थी. इसके अलावा, अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद वहां अपना उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भेजने वाला कतर दुनिया का पहला देश भी बना था 

महिलाओं के मुद्दों से कैसे डील करना है, तालिबान ये बात हमसे सीखे'

शेख मोहम्मद ने आगे कहा कि हमें लगातार तालिबान के साथ बात करने की जरूरत है और उनसे आग्रह करने की जरूरत है कि वे विवादित एक्शन से दूरी बनाए रखें। हम तालिबान को ये दिखाने की भी कोशिश कर रहे हैं कि एक इस्लामिक देश होकर कैसे कानूनों को चलाया सकता है और कैसे महिलाओं के मुद्दों के साथ डील किया जाता है। उन्होंने कहा कि एक उदाहरण कतर का है। ये एक मुस्लिम देश है हमारा सिस्टम इस्लामिक सिस्टम है लेकिन जब बात वर्क फोर्स या एजुकेशन की आती है तो कतर में पुरूषों के मुकाबले महिलाएं आपको ज्यादा मिलेंगी।  

शेख मोहम्मद ने तालिबान से ये भी उम्मीद जताई है कि वे पिछले कुछ सालों में अफगानिस्तान में जो प्रगति हुई है, उसे बनाए रखेंगे. उन्होंने इसके साथ ही अंतर्अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से भी अपील की है कि संवेदनशील हालातों से गुजर रहे अफगानिस्तान को अलग-थलग ना किया जाए। वही जोसेफ बोरेल ने भी शेख मोहम्मद के साथ  हामी भरते हुए कहा कि पिछले कुछ समय में अफगानिस्तान में जो चीजें हुई हैं, वो वाकई निराशाजनक हैं। लेकिन हम उम्मीद करते हैं कि अफगानिस्तानी सरकार बेहतर से काम करेगी और कतर तालिबान पर अपने मजबूत प्रभाव का इस्तेमाल कर अफगानी लोगों की बेहतरी के लिए काम करा पाएगा।