BREAKING NEWS

कर्नाटक सरकार ने खत्म किया कोरोना का वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन ये पाबंदी लागू ◾नेशनल वॉर मेमोरियल में जल रही लौ में मिली इंडिया गेट की अमर जवान ज्‍योति◾UP चुनाव को लेकर बढ़ाई गई टीकाकरण की रफ्तार, मतदान ड्यूटी करने वालों को दी जा रही ‘एहतियाती’ खुराक ◾भाजपा से बर्खास्त हरक सिंह रावत ने थामा कांग्रेस का दामन, पुत्रवधू भी हुई शामिल◾त्रिपुरा ना सिर्फ नयी बुलंदियों की तरफ बढ़ रहा है बल्कि "ट्रेड कॉरिडोर’’ का केंद्र भी बन रहा है : PM मोदी ◾ASP ने जारी किया घोषणापत्र, कृषि ऋण माफी और ‘मॉब लिंचिंग’ निरोधक आदि कानून लाने का किया वादा ◾UP चुनाव: योगी को मिलेगा ठाकुर समुदाय का समर्थन? जानें SP, BSP और कांग्रेस की क्या है प्रतिक्रिया ◾LG ने वीकेंड कर्फ्यू खत्म करने का प्रस्ताव ठुकराया, निजी दफ्तरों में 50% उपस्थिति पर सहमति जताई◾यूपी : चुनाव के बाद गठबंधन को लेकर बोली प्रियंका गांधी-पार्टी इस बारे में करेगी विचार ◾15 साल से कम उम्र के बच्चों के टीकाकरण में लगेगा समय, भूषण बोले- वैज्ञानिक डेटा आने के बाद होगा फैसला ◾कांग्रेस ने जारी किया ‘युवा घोषणापत्र’, दुरुस्त होगी भर्ती की प्रक्रिया, राहुल ने किया ‘नया UP’ बनाने का वादा ◾दिल्ली में टला कोरोना का खतरा? जैन बोले- नियंत्रण में स्थिति, 3-4 दिन में मिल सकती है प्रतिबंधों में और राहत ◾गोवा चुनाव : BJP के साथ रहेंगे या थामेंगे AAP का दामन? उत्पल आज करेंगे प्रेस कॉन्फ्रेंस◾इंडिया गेट पर लगेगी सुभाष चंद्र बोस की भव्य प्रतिमा, PM मोदी ने ट्वीट कर किया ऐलान◾गुजरात : PM मोदी ने सोमनाथ मंदिर के पास बने सर्किट हाउस का किया उद्घाटन, कमरे से दिखाई देगा 'सी व्यू'◾UP चुनाव में BJP ने सियासी रण में उतारे दिग्गज सितारें, शाह और नड्डा घर-घर जाकर करेंगे पार्टी का प्रचार ◾अपर्णा का अखिलेश को जवाब, BJP में शामिल होने के बाद मुलायम सिंह से लिया आशीर्वाद◾CM फेस को लेकर हुआ कांग्रेस का पोल दे सकता है विवाद को जन्म, सिद्धू को पछाड़ टॉप पर चन्नी, जानें रिजल्ट ◾चुनाव से पूर्व राजनीति ले रही दिलचस्प मोड़, योगी के खिलाफ उनके प्रतिद्वंदी की पत्नी को मैदान में उतारेगी SP? ◾CM योगी का अखिलेश पर निशाना, बोले- पलायन नहीं प्रगति और दंगा मुक्त प्रदेश चाहती है यूपी की जनता ◾

तालिबान राज में पाकिस्तानी मुद्रा का होगा इस्तेमाल? अफगान नागरिकों की मांग- ऐसा करने पर किया जाए दंडित

अफगानिस्तान में तालिबान आतंकवादियों का शासन शुरू हो चुका है, साथ ही अब वहां पर आतंक की सरकार का गठन भी हो गया है। ऐसे में सरकार को चलाने के लिए धन की जरूरत तो होगी ही, लेकिन तालिबान का राज शुरू होने से पहले ही अफगानिस्तान का खजाना खाली हो चुका है। दूसरी तरफ, अफगान नागरिक इस बात पर जोर दे रहे हैं कि किसी को भी पाकिस्तानी मुद्रा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए और इसका इस्तेमाल करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए।
कई लोगों ने एक पाकिस्तानी अखबार की एक रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है जिसमें कहा गया है कि अफगानिस्तान में व्यापारिक सौदे पाकिस्तानी रुपये पर आधारित होने चाहिए। पाकिस्तानी अखबार डेली जंग ने एक रिपोर्ट में देश के वित्त मंत्री शौकत तरीन के हवाले से कहा कि अफगानिस्तान को डॉलर के भंडार की कमी का सामना करना पड़ा और यही कारण होगा कि अफगानिस्तान पाकिस्तानी रुपये में लेनदेन करेगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अंतरार्ष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक द्वारा अफगानिस्तान को भुगतान निलंबित करने के बाद तरीन ने यह बयान दिया। पाकिस्तान के सबसे 'चौंकाने वाले' वित्त मंत्री ने सीनेट की आर्थिक समिति को बताया है कि चूंकि अफगानिस्तान में इन दिनों डॉलर की तरलता खत्म हो रही है, अफगानिस्तान के साथ व्यापार रुपये (पाकिस्तानी रुपये) में हो सकता है।
यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अतीत में, पाकिस्तान की सीमा से लगे देश के कई शहरों में, मुख्य व्यापार एक्सचेंज पाकिस्तानी रुपये पर आधारित थे, जिसे कई प्रतिक्रियाओं के साथ मिला था। शौकत ने कहा कि अफगानिस्तान की स्थिति पर कड़ी नजर रखी जा रही है और पाकिस्तान अफगान अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में मदद के लिए एक टीम भेजेगा।

ईराक के प्रधानमंत्री मुस्तफा अल-कदीमी ने बताया कैसे होगा देश की समस्याओं का समाधान, आप भी जान लीजिए

अफगानों ने 'अफगानी हमारी राष्ट्रीय पहचान है' शीर्षक से एक सोशल मीडिया अभियान शुरू किया। अधिकांश सोशल मीडिया कार्यकर्ताओं ने नारे साझा किए, जैसे- 'हम अफगानिस्तान के निवासी हैं, अफगानी हमारी राष्ट्रीय पहचान है और अफगानी मुद्रा का उपयोग करना हमारी राष्ट्रीय जिम्मेदारी है।' सोशल मीडिया यूजर अब्दुल करीम ने एक ट्वीट में कहा, मैं अपना देश खुद बनाऊंगा, इसलिए मैं अपने देश की मुद्रा का उपयोग करूंगा। अफगानिस्तान में हर लेनदेन अफगान मुद्रा पर होना चाहिए।

एक अन्य सोशल मीडिया यूजर मोहम्मद सईद ने तालिबान को संबोधित करते हुए कहा, अफगानियों का अस्तित्व पूरी तरह से आप पर निर्भर है, अगर यहां (अफगानिस्तान) अफगानी की जगह पाकिस्तानी रुपये आए, तो इसकी जिम्मेदारी आप पर होगी और अफगान आपको जवाबदेह ठहराएंगे। कई तालिबान समर्थक लोगों ने भी इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया व्यक्त की।
उनमें से एक, हम्माद अफगान ने एक ट्वीट में कहा, यदि आप अपने भविष्य को रोशन करना चाहते हैं और एक समृद्ध अफगानिस्तान बनाना चाहते हैं, तो आपको हमारी राष्ट्रीय मुद्रा (अफगानी) को बढ़ावा देना चाहिए। तालिबान समर्थक अफगान शेख अब्दुल हामिद हम्मासी ने कहा, अगर कोई राष्ट्रीय पहचान और अफगानपन को महत्व देता है, तो उन्हें लेनदेन के लिए अफगान मुद्रा का उपयोग करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि तालिबान को सभी अधिकारियों, व्यापारियों और लोगों को यह स्पष्ट करना चाहिए कि अगर उन्होंने पाकिस्तानी रुपये का इस्तेमाल किया तो उन्हें दंडित किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि कई अन्य लोगों ने भी इसी तरह के विचार रखे और कहा कि विदेशी मुद्रा का इस्तेमाल करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए।