BREAKING NEWS

मिस्र के साथ भारत के नए सिरे से संबंध - 2 विकासशील देशों का एक परिप्रेक्ष्य◾कुश्ती विवाद में सूत्रों का दावा : खेल मंत्रालय निगरानी समिति में शामिल कर सकता है और सदस्य◾उपराष्ट्रपति धनखड़ ने मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी से की मुलाकात◾दिल्ली में अगले कुछ दिन भी छाये रहेंगे बादल, 29 जनवरी को हल्की बारिश की संभावना◾गणतंत्र दिवस समारोह : कर्तव्य पथ पर भारत की सैन्य ताकत, सांस्कृतिक धरोहर, नारी शक्ति का प्रदर्शन◾विश्व के नेताओं ने गणतंत्र दिवस की बधाई दी◾अभिनेता अन्नू कपूर गंगा राम अस्पताल में भर्ती, हालत स्थिर◾जम्मू-कश्मीर में जी20 की बैठक ‘मानवता के दुश्मनों के लिए संदेश’ : उपराज्यपाल मनोज सिन्हा◾सुप्रीम कोर्ट पहुंची शैली ओबेरॉय, MCD मेयर चुनाव को लेकर दाखिल की याचिका◾मिस्र के राष्ट्रपति अब्दुल फतेह अल सीसी ने गणतंत्र दिवस पर देखी भारत की ताकत◾Republic Day 2023: पुतिन ने देश को गणतंत्र दिवस की दी बधाई, कहा- भारत का योगदान महत्वपूर्ण◾JNU में BBC डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग पर विदेश राज्य मंत्री का बयान, कहा- 'किसी को भी भारत की संप्रभुता को रौंदने की अनुमति नहीं'◾74th Republic Day: पाक रेंजर्स ने BSF को खिलाई मिठाइयां, अटारी वाघा बॉर्डर पर गणतंत्र दिवस का जश्न◾ BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन के फैसले पर अमेरिका ने तोड़ी चुप्पी, कहा- 'हम मीडिया की स्वतंत्रता का समर्थन करते हैं'◾Republic Day : कर्तव्य पथ पर भारत ने दिखाई अपनी ताकत, जमीन पर टैंकों की दहाड़, 'आसमान में गरजा राफेल'◾जेपी नड्डा के बेटे की जयपुर में हुई शादी, 28 जनवरी को बिलासपुर में होगा रिसेप्शन◾बिहटा में भीषण सड़क हादसा, स्कॉर्पियो ने 6 को रौंदा, दो की हुई मौत◾गणतंत्र दिवस परेड में दिखा स्वदेशी हथियारों की झलक, भारतीय तोप से 21 तोपों की सलामी◾बसंत पंचमी 2023: इन तीन छात्रों पर बरसेगी मां सरस्वती की कृपा,मिलेगी सफलता,बना खास योग करें ये उपाय◾ रामचरित मानस विवाद पर आग बगूला हुए रामभद्राचार्य कहा - स्वामी प्रसाद सठिया गए ◾

तालिबान राज में पाकिस्तानी मुद्रा का होगा इस्तेमाल? अफगान नागरिकों की मांग- ऐसा करने पर किया जाए दंडित

अफगानिस्तान में तालिबान आतंकवादियों का शासन शुरू हो चुका है, साथ ही अब वहां पर आतंक की सरकार का गठन भी हो गया है। ऐसे में सरकार को चलाने के लिए धन की जरूरत तो होगी ही, लेकिन तालिबान का राज शुरू होने से पहले ही अफगानिस्तान का खजाना खाली हो चुका है। दूसरी तरफ, अफगान नागरिक इस बात पर जोर दे रहे हैं कि किसी को भी पाकिस्तानी मुद्रा का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए और इसका इस्तेमाल करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए।
कई लोगों ने एक पाकिस्तानी अखबार की एक रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है जिसमें कहा गया है कि अफगानिस्तान में व्यापारिक सौदे पाकिस्तानी रुपये पर आधारित होने चाहिए। पाकिस्तानी अखबार डेली जंग ने एक रिपोर्ट में देश के वित्त मंत्री शौकत तरीन के हवाले से कहा कि अफगानिस्तान को डॉलर के भंडार की कमी का सामना करना पड़ा और यही कारण होगा कि अफगानिस्तान पाकिस्तानी रुपये में लेनदेन करेगा।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अंतरार्ष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) और विश्व बैंक द्वारा अफगानिस्तान को भुगतान निलंबित करने के बाद तरीन ने यह बयान दिया। पाकिस्तान के सबसे 'चौंकाने वाले' वित्त मंत्री ने सीनेट की आर्थिक समिति को बताया है कि चूंकि अफगानिस्तान में इन दिनों डॉलर की तरलता खत्म हो रही है, अफगानिस्तान के साथ व्यापार रुपये (पाकिस्तानी रुपये) में हो सकता है।
यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अतीत में, पाकिस्तान की सीमा से लगे देश के कई शहरों में, मुख्य व्यापार एक्सचेंज पाकिस्तानी रुपये पर आधारित थे, जिसे कई प्रतिक्रियाओं के साथ मिला था। शौकत ने कहा कि अफगानिस्तान की स्थिति पर कड़ी नजर रखी जा रही है और पाकिस्तान अफगान अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने में मदद के लिए एक टीम भेजेगा।

ईराक के प्रधानमंत्री मुस्तफा अल-कदीमी ने बताया कैसे होगा देश की समस्याओं का समाधान, आप भी जान लीजिए

अफगानों ने 'अफगानी हमारी राष्ट्रीय पहचान है' शीर्षक से एक सोशल मीडिया अभियान शुरू किया। अधिकांश सोशल मीडिया कार्यकर्ताओं ने नारे साझा किए, जैसे- 'हम अफगानिस्तान के निवासी हैं, अफगानी हमारी राष्ट्रीय पहचान है और अफगानी मुद्रा का उपयोग करना हमारी राष्ट्रीय जिम्मेदारी है।' सोशल मीडिया यूजर अब्दुल करीम ने एक ट्वीट में कहा, मैं अपना देश खुद बनाऊंगा, इसलिए मैं अपने देश की मुद्रा का उपयोग करूंगा। अफगानिस्तान में हर लेनदेन अफगान मुद्रा पर होना चाहिए।

एक अन्य सोशल मीडिया यूजर मोहम्मद सईद ने तालिबान को संबोधित करते हुए कहा, अफगानियों का अस्तित्व पूरी तरह से आप पर निर्भर है, अगर यहां (अफगानिस्तान) अफगानी की जगह पाकिस्तानी रुपये आए, तो इसकी जिम्मेदारी आप पर होगी और अफगान आपको जवाबदेह ठहराएंगे। कई तालिबान समर्थक लोगों ने भी इस मुद्दे पर प्रतिक्रिया व्यक्त की।
उनमें से एक, हम्माद अफगान ने एक ट्वीट में कहा, यदि आप अपने भविष्य को रोशन करना चाहते हैं और एक समृद्ध अफगानिस्तान बनाना चाहते हैं, तो आपको हमारी राष्ट्रीय मुद्रा (अफगानी) को बढ़ावा देना चाहिए। तालिबान समर्थक अफगान शेख अब्दुल हामिद हम्मासी ने कहा, अगर कोई राष्ट्रीय पहचान और अफगानपन को महत्व देता है, तो उन्हें लेनदेन के लिए अफगान मुद्रा का उपयोग करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि तालिबान को सभी अधिकारियों, व्यापारियों और लोगों को यह स्पष्ट करना चाहिए कि अगर उन्होंने पाकिस्तानी रुपये का इस्तेमाल किया तो उन्हें दंडित किया जाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि कई अन्य लोगों ने भी इसी तरह के विचार रखे और कहा कि विदेशी मुद्रा का इस्तेमाल करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए।