BREAKING NEWS

बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾उन्नाव रेप पीड़िता की दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक : मायावती◾सीएम बनने के बाद PM मोदी से पहली बार मिले उद्धव ठाकरे, सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई रवाना हुए मोदी ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : सिल्ली में जीत का 'चौका' लगा पाएंगे सुदेश महतो?◾झारखंड: विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 20 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी ने की लोगों से वोट डालने की अपील ◾जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, सफदरजंग अस्पताल में हुई मौत◾महिलायें अपने हाथ में लें देश की बागडोर : प्रियंका गांधी वाड्रा◾हैदराबाद मुठभेड़ मामले में पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई : येदियुरप्पा◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने ताबड़तोड़ बैठकें कर जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की ◾TOP 20 NEWS 6 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

विदेश

पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में जल्द नियुक्त होंगी महिला न्यायाधीश

 khosa 2

पाकिस्तान के प्रधान न्यायाधीश (सीजेपी) असिफ सईद खोसा ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में जल्द ही महिला न्यायाधीशों की नियुक्ति की जाएगी। इसके साथ ही, उन्होंने कहा कि न्याय का कोई लिंग नहीं होता। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट के हवाले से मिली है। 

एक रिपोर्ट में सीजेपी खोसा के बयान का हवाला देते हुए कहा गया, "मैंने एक न्यायाधीश आयशा मलिक का नाम सुना, जिन्हें आयशा मलिक के रूप में पहचाना जाता है। मुझे लगा कि क्या न्याय की भी पत्नियां होती हैं। नहीं, वह एक सम्माननीय न्यायाधीश हैं और अकेले ही काफी हैं।" 

प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि समय के साथ पुरुष और महिला के बीच के फासले खत्म हो जाएंगे। शीर्ष कोर्ट महिलाओं को न्यायालय प्रणाली से जोड़ने की दिशा में काम कर रही है। उन्होंने आगे कहा कि सुप्रीम कोर्ट महिलाओं को सुरक्षा प्रदान करने की दिशा में प्रयासरत है। पुरुष प्रधान क्षेत्रों में महिलाओं के काम करने को लेकर उन्होंने सराहना की। 

विधानसभा उपचुनावों में जीत का जश्न मनाने के लिए ‘थैंक्सगिविंग’ रैलियां निकालेंगी ममता बनर्जी