BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

विश्व बैंक का अनुमान भारत की GDP में 9.6% की आ सकती है गिरावट, आर्थिक स्थिति बेहद खराब

कोरोना वायरस महामारी तथा इसकी रोकथाम के लिये लगाये गये लंबे समय के लॉकडाउन के चलते चालू वित्त वर्ष में भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 9.6 प्रतिशत की गिरावट आ सकती है। विश्वबैंक ने गुरूवार को यह अनुमान जाहिर किया। विश्वबैंक ने कहा कि भारत की आर्थिक स्थिति इससे पहले के किसी भी समय की तुलना में काफी खराब है। उसने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के कारण कंपनियों व लोगों को आर्थिक झटके लगे हैं। इसके साथ ही महामारी के प्रसार को थामने के लिये देश भर में लगाये गये लॉकडाउन का भी प्रतिकूल असर पड़ा है।

विश्वबैंक ने अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के साथ सालाना बैठक से पहले जारी हालिया दक्षिण एशिया आर्थिक केंद्र बिंदु रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया है। रिपोर्ट में विश्वबैंक ने दक्षिण एशिया क्षेत्र में 2020 में 7.7 प्रतिशत की आर्थिक गिरावट आने की आशंका जाहिर की है। इस क्षेत्र में पिछले पांच साल के दौरान सालाना छह प्रतिशत के आसपास की वृद्धि देखी गयी है। ताजी रिपोर्ट में कहा गया, ‘‘मार्च 2020 में शुरू हुए चालू वित्त वर्ष में भारत की जीडीपी में 9.6 प्रतिशत की गिरावट आने का अनुमान है। ’’हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि 2021 में आर्थिक वृद्धि दर वापसी कर सकती है और 4.5 प्रतिशत रह सकती है।

विश्वबैंक ने कहा कि आबादी में वृद्धि के हिसाब से देखें तो प्रति व्यक्ति आय 2019 के अनुमान से छह प्रतिशत नीचे रह सकती है। इससे संकेत मिलता है कि 2021 में आर्थिक वृद्धि दर भले ही सकारात्मक हो जाये, लेकिन उससे चालू वित्त वर्ष में हुए नुकसान की भरपाई नहीं हो सकेगी। दक्षिण एशिया के लिये विश्वबैंक के मुख्य अर्थशास्त्री हेंस टिमर ने एक कांफ्रेंस कॉल में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने अभी तक जो भी देखा है, भारत में स्थिति उससे बदतर है। यह भारत के लिये एक अप्रत्याशित स्थिति है।’’

आपको बता दें कि इस साल की दूसरी तिमाही यानी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (जून तिमाही) में भारत की जीडीपी में 25 प्रतिशत की गिरावट आयी है। विश्व बैंक ने रिपोर्ट में कहा कि कोरोना वायरस और इसकी रोकथाम के उपायों ने भारत में आपूर्ति व मांग की स्थिति को गंभीर रूप से बाधित किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिये 25 मार्च से देशव्यापी पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की थी। इस लॉकडाउन के कारण करीब 70 प्रतिशत आर्थिक गतिविधियां, निवेश, निर्यात और खपत ठप्प हो गयी थी। इस दौरान केवल आवश्यक वस्तुओं और सेवाओं जैसे कृषि, खनन, उपयोगिता सेवाओं, कुछ वित्तीय और आईटी सेवाओं तथा सार्वजनिक सेवाओं को संचालित करने की अनुमति थी।

विश्वबैंक ने कहा कि गरीब परिवारों और कंपनियों को सहारा देने के बाद भी गरीबी दर में कमी की गति यदि रुकी नहीं भी है तो सुस्त जरूर हुई है। टिमर ने कहा, ''हमने सर्वे में देखा है कि कई लोगों की नौकरी चली गयी है। गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) में वृद्धि हो रही है। ये सभी ऐसी कमजोरियां हैं, जिनसे भारत को जूझना है।'' उन्होंने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था महामारी के पहले से ही धीमी हो रही थी।एक सवाल के जवाब में टिमर ने कहा कि भारत सरकार ने सीमित संसाधनों और सीमित वित्तीय साधन के साथ जो किया है, वह बहुत प्रभावशाली है।