ट्रम्प के खिलाफ न्याय बाधित करने का मामला


trump

वाशिंगटन : भारतीय मूल के पूर्व शीर्ष अमेरिकी संघीय अभियोजक प्रीत भरारा ने दावा किया है कि रूसी जांच में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की कथित दखलंदाजी को लेकर उनके खिलाफ न्याय को बाधित करने का मामला चलाने के लिए पर्याप्त सबूत हैं। भरारा ने यह भी आरोप लगाया कि उन्हें पद से हटाने से पहले ट्रम्प ने उनके साथ एक रिश्ता विकसित करने की कोशिश की और यह ठीक वैसा ही तरीका था, जो उन्होंने एफबीआई के निदेशक जेम्स कोमी को हटाने से पहले अपनाया। भरारा उन 45 अटॉर्नियों में से एक हैं, जिन्हें ट्रम्प प्रशासन ने इस साल की शुरूआत में इस्तीफा देने के लिए कहा था।

भरारा ने एबीसी न्यूज से कहा, मुझे लगता है कि ट्रम्प के खिलाफ मामला शुरूकरने के लिए पर्याप्त सबूत हैं। मेरा मानना है कि कानून में कयास लगाने वाले सभी लोगों को पता होना चाहिए कि कोई भी यह नहीं जानता कि न्याय बाधित करने का मामला साबित होने लायक है या नहीं। ट्रम्प द्वारा हटाए जाने के बाद पहली बार टीवी को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कहा, मुझे यह भी लगता है कि जो मैं एक तीसरे पक्ष के तौर पर और सरकार से बाहर रहने के दौरान देख रहा हूं, उसके अनुसार यह कहने का कोई आधार नहीं है कि न्याय में बाधा नहीं डाली गई।