वन बेल्ट,वन रोड के जरिए चीन अपनी पहुंच पूरब से लेकर पश्चिम तक बढ़ाना चाहता है। दक्षिण चीन सागर में चीन की विस्तारवादी नीति किसी से छिपी नहीं है। इसके साथ ही चीन भारत के पड़ोसी देशों में अपनी दखल को बढ़ाकर दबाव बनाने की कोशिश में है। आपको बता दे कि हिंद और प्रशांत महासागर क्षेत्र में उथल-पुथल के जरिये चीन अपने पड़ोसी देशों में असंतोष पैदा कर रहा है।

अमेरिकी संसद में पेश बजट रिपोर्ट में पेंटागन ने कहा है कि सैन्य आधुनिकीकरण और आर्थिक नीतियों के बल पर चीन अपने पड़ोसी मुल्कों पर प्रभाव बढ़ा रहा है। उल्लेखनीय है कि अमेरिका में पेंटागन द्वारा रक्षा बजट प्रस्ताव पेश किया जाता है। इस बजट की अवधि एक अक्टूबर 2018 से 30 सितंबर 2019 तक रहेगी।

पेंटागन के अनुसार, चीन की सेना दीर्घकालिक नीतियों पर काम कर रहा है, ताकि दुनिया से अमेरिकी असर को कम किया जा सके और उसका प्रभाव बढ़े। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ऐसी परिस्थितियों में अमेरिकी को सुपरपावर बने रहने के लिए अपनी नीतियों पर पुनर्विचार करने की जरूरत है। साथ ही साथ राष्ट्रीय सुरक्षा को नए सिरे से गढ़ना होगा।

इस बजट रिपोर्ट में कहा गया है, ‘चूंकि चीन अपनी आर्थिक और सैन्य उन्नति को जारी रखते हुए एक राष्ट्रव्यापी दीर्घकालिक रणनीति के तहत आने वाले समय में अमेरिका को दरकिनार करते हुए हिंद-प्रशांत क्षेत्र में अपना प्रभुत्व बढ़ाने में जुटा है.’ रिपोर्ट में कहा गया कि चीन का यह कदम भविष्य में अमेरिका की वैश्विक प्राथमिकता प्राप्त करने की योजना में अड़ंगा है।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।