गुरुवार को चीन की सेना ने आरोप लगाया कि एक भारतीय ड्रोन चीन के हवाई क्षेत्र में घुस गया और उसके बाद वह दुर्घटना का शिकार हो गया। बता दें कि ये मामला तब सामने आया है जब 11 दिसंबर को चीन के विदेश मंत्री वांग यी भारत दौरे पर आने वाले हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने वेस्टर्न थियेटर कमांड के ज्वाइंट स्टाफ विभाग के कॉम्बैट ब्यूरो के उप प्रमुख झैंग शुइली के हवाले से कहा, ‘एक भारतीय यूएवी (अन्मैन्ड एरियल वेहिकल) ने चीन के हवाई क्षेत्र में प्रवेश किया और प्रवेश करते ही वह दुर्घटना का शिकार हो गया।

चीन बॉर्डर पर तैनात चीनी सैनिकों ने इस बात की पुष्टि की है। झैंग के अनुसार, ‘भारत के इस कदम से चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता का उल्लंघन हुआ है और हम इसका कड़ा विरोध करते हैं। हम अपने मिशन और जिम्मेदारी को पूरा करेंगे और चीन की राष्ट्रीय संप्रभुता और सुरक्षा की रक्षा करेंगे।’

डोकलाम विवाद के बाद से ही भारत और चीन के बीच रिश्तों में खटास चल रही है। अभी पिछले माह नवंबर में ही चीन और भारत के अधिकारियों ने बीजिंग में भारत-चीन मामलों पर परामर्श व समन्वय कार्यतंत्र (डब्ल्यूएमसीसी) के 10वें चरण में सीमा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की थी। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में बताया कि दोनों देशों ने भारत-चीन सीमा के सभी पक्षों की स्थितियों की समीक्षा की और द्विपक्षीय संबंधों में सुधार के लिए सीमा क्षेत्र पर शांति बनाए रखने पर सहमत हुए।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।