अपनी ओबीओआर पहल को पूरा करने का ”प्रयास करेगा” चीन


वाशिंगटन : अमेरिका के एक शीर्ष खुफिया अधिकारी ने कहा कि चीन अपनी महत्वाकांक्षी ‘वन बेल्ट वन रोड’ परियोजना के पूरा करने के लिए खासकर एशिया प्रशांत क्षेत्र में सक्रिय विदेश नीति अपनाना जारी रखेगा। नेशनल इंटेलिजेंस के निदेशक डेविड कोट्स ने कल कांग्रेस के समक्ष सुनवाई के दौरान सीनेट सलेक्ट कमेटी के सदस्यों से कहा, ”चीन का मानना है कि उसके हितों को आगे बढ़ाने के लिए मजबूत सेना एक अहम तत्व हैं। वह ढांचागत विकास परियोजनाओं के जरिए एशिया में अपने रणनीतिक प्रभाव एवं आर्थिक भूमिका को बढ़ाने के अपनी महत्वाकांक्षी ‘वन बेल्ट वन रोड’ पहल को पूरा करने के मकसद से प्रयास जारी रखेगा।” उन्होंने कहा कि चीन एक सक्रिय विदेश नीति का पालन करना जारी रखेगा।

कोट्स ने कहा, ”पूर्वी चीन सागर एवं दक्षिण चीन सागर में प्रतिद्वंद्वी क्षेत्रीय दावों, ताईवान के साथ संबंधों और पूर्वी एशिया में उसके आर्थिक संबंधों के मद्देनजर वह एशिया प्रशांत क्षेत्र में ऐसा करेगा।” उन्होंने कहा कि चीन अंतरराष्ट्रीय आर्थिक मामलों में अपनी वैश्विक मौजूदगी बढ़ाने के लिए एशियन इंफ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक और अपनी ‘वन बेल्ट वन रोड’ परियोजना को लेकर आगे बढऩे की कोशिश करेगा।

कोट्स ने कहा कि पैदा होती समस्याओं के प्रति वैश्विक प्रतिक्रिया में चीन की भूमिका बढ़ेगी, जैसा कि संयुक्त राष्ट्र शांतिरक्षा अभियानों में चीन की भागीदारी, आतंकवाद के खिलाफ उसका सहयोग बढऩे और चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे के तौर पर पाकिस्तान एवं अफ्रीका में उसका ढांचागत निर्माण बढऩे से दिखाई देता है।

(भाषा)