दो दशक में पहली बार पाकिस्तानी कैबिनट में शामिल हुआ हिन्दू मंत्री


नई दिल्‍ली : पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी के कैबिनेट ने शुक्रवार को शपथ ली और इस बार कैबिनेट में हिंदू सांसद दर्शन लाल को भी शामिल किया गया। दर्शन लाल पाकिस्तान सरकार में पिछले 2 दशक से ज्यादा समय में शामिल किए जाने वाले पहले हिंदू हैं। राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने 47 सांसदों को कैबिनेट मंत्री की शपथ दिलाई, इनमें से 19 राज्यमंत्री हैं।

इस नए मंत्रिमंडल में 28 संघीय और 18 राज्य मंत्री हैं। एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि हिन्‍दू मंत्री दर्शन लाल को चार पाकिस्तानी प्रांतो के बीच समन्वय की जिम्मेदारी सौंपी गई है। 65 वर्षीय दर्शन लाल सिंध के घोटकी जिले के मीरपुर मैथेलो शहर में डॉक्टर हैं। 2013 में वह दूसरी बार पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) के टिकट पर अल्पसंख्यकों की आरक्षित सीट से नेशनल एसेंबली के लिए चुने गए थे।

पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के नेतृत्व वाली सरकार में रक्षा मंत्री रहे ख्वाजा मुहम्मद आसिफ नए विदेश मंत्री होंगे। 2013 में पीएमएल-एन के सत्ता में आने के बाद से पाकिस्‍तान में कोई भी पूर्णकालिक विदेश मंत्री नहीं था। पूर्व योजना मंत्री अहसान इकबाल आंतरिक मंत्रालय का प्रभार संभालेंगे। अंतिम पूर्णकालिक विदेश मंत्री हीना रब्बानी खार थीं, जिन्होंने पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) की पिछली सरकार में अपनी सेवाएं दी थी। नवाज सरकार में सरताज अजीज विदेश मंत्री के रूप में सेवाएं दे रहे थे, क्योंकि वह प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के विशेष सलाहकार थे।

आसिफ के अलावा, पूर्व योजना मंत्री एहसान इकबाल मुख्य रूप से गृह मंत्रालय का कार्यभार संभालेंगे, जो पहले चौधरी निसार अली खान के पास था। शरीफ के मंत्रिमंडल में गृह मंत्री रह चुके वरिष्ठ पार्टी नेता चौधरी निसार ने एक अगस्त को गठित हुई नई सरकार का हिस्सा बनने से इनकार कर दिया है। इसहाक डार वित्तमंत्री बने रहेंगे, जबकि परवेज मलिक नए वाणिज्य मंत्री बनाए गए हैं।

मलिक ने खुर्रम दस्तगीर खान की जगह ली है. खान को रक्षा मंत्री बनाया गया है। अब्बासी के मंत्रिमंडल में दानियल अजीज, फैसलाबाद के तलाला चौधरी, रहीमयार खान के अरशद लोगारी और टोबा टेक सिंह के जुनैद अनवर चौधरी नए चेहरे हैं. सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब, कानून मंत्री जाहिद हमीद, राजधानी प्रशासन व विकास प्रभाग के प्रभारी तारिक फैजल चौधरी अपने पद पर बने रहेंगे।

गौरतलब है कि पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने नवाज शरीफ को बीते हफ्ते पनामा पेपर्स लीक मामले में भ्रष्टाचार का दोषी मानकर प्रधानमंत्री पद से बर्खास्त कर दिया था. इसके बाद शाहिद खाकन अब्बासी को नया प्रधानमंत्री बनाया गया है।