प्रवासियों को 5 साल तक कल्याणकारी मदद नहीं


वाशिंगटन: योग्यता आधारित आव्रजन प्रणाली के प्रति समर्थन की घोषणा करने के कुछ ही दिन बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि जब प्रवासी लोग अमेरिका आएंगे, तो उनके यहां पहुंचने के शुरूआती पांच साल में उन्हें कल्याणकारी मदद नहीं मिलेगी। ट्रंप ने कल देश के नाम दिए जाने वाले अपने साप्ताहिक वेब एवं रेडियो संदेश में कहा, ‘हमारे देश में आने पर आपको (प्रवासियों को) शुरूआती पांच साल तक कल्याणकारी मदद नहीं मिल सकती।

पिछले सप्ताहों, वर्षों और दशकों की तरह अब ऐसा नहीं हो सकता कि आप आएं और एकदम से कल्याणकारी मदद लेने लगें।’अमेरिका के राष्ट्रपति ने कहा, आपको कहना होगा कि आप पांच साल तक कल्याणकारी मदद नहीं मांगेंगे और हमारी कल्याणकारी मदद की प्रणाली का प्रयोग नहीं करेंगे।  जैसा कि मैंने कांग्रेस को दिए अपने संबोधन में भी कहा कि हमारे देश के लिए बड़े, निर्भीक और साहसी सपने देखने का समय आ गया है। ट्रंप ने इस सप्ताह की शुरूआत में कहा कि उन्होंने एक ऐसे ऐतिहासिक आव्रजन विधेयक की घोषणा की है, जो योग्यता आधारित ग्रीन कार्ड प्रणाली पर काम करता है और कल्याणकारी मदद के तंत्र के दुरुपयोग को खत्म करता है, बड़ी संख्या में होने वाले आव्रजन को रोकता है और अमेरिकी कर्मचारियों एवं अर्थव्यवस्था की रक्षा करता है।

मैक्रों-ट्रंप में मंत्रणा : व्हाइट हाउस ने बताया कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फ्रांस के अपने समकक्ष एमैनुएल मैक्रों के साथ उत्तर कोरिया से जुड़े साझा हितों, सीरिया तथा इराक में संकट सहित विभिन्न वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की। व्हाइट हाउस ने कल एक बयान में कहा कि ट्रंप और फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने फोन पर बातचीत की। इस बयान में कहा गया है, ट्रंप ने फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों से सीरिया तथा इराक के मौजूदा संकट और ईरान के बुरे व्यवहार का सामना करने के लिए, आपसी सहयोग बढ़ाने के तरीकों पर चर्चा की।

उन्होंने लीबिया में राजनीतिक स्थिरता स्थापित करने और अफ्रीका के साहेल क्षेत्र में आतंकवादी गतिविधियों से निपटने पर भी चर्चा की। व्हाइट हाउस ने कहा, वे इस बात पर सहमत हुए कि मादुरो शासन को वेनेजुएला में नागरिकों के अधिकारों को जरूर बहाल करना चाहिए और यूक्रेन में शांतिपूर्ण समझौते के लिए सभी पक्षों द्वारा मिन्स्क समझौते को लागू करने के महत्व को भी दोहराया। उन्होंने कहा कि अंत में उन्होंने उत्तर कोरिया से जुड़े साझा हितों पर चर्चा की।