पनामा पेपर जांच पैनल के समक्ष पेश होंगे नवाज


इस्लामाबाद : आज पाक के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ पमानागेट घोटाला मामले की जांच कर रहे दल के समक्ष पेश होंगे। इस दल की नियुक्ति सुप्रीम ने की है। संयुक्त जांच दल (Joint Investigation Team)के चीफ वाजिद जिया ने  प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को मामले से जुडे सभी कागजात ले कर आज 6 सदस्यीय दल के समक्ष तलब किया।

Source

पेशी से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सुबह अपने परिजनों और करीबी सहयोगियों से बातचीत की है । बताया जा रहा है कि विथ मंत्री इशहाक डार उनके साथ मौजूद रहेंगे।

Source

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपने पार्टी कार्यकर्ताओं से उन्हें इस्लामाबाद की न्यायिक अकादमी तक उनके साथ जाने अथवा वहां उनको लेने आने के लिए मना किया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के कजाख्स्तान से वापस लौटने के बाद उन्हें नोटिस जारी किया गया है।

उच्चतम न्यायालय ने पनामा पेपर मामले में 20 अप्रैल को संयुक्त जांच दल का गठन किया था और उसे प्रधानमंत्री, उनके बेटे और मामले से जुड़े किसी भी अथवा व्यक्ति से पूछताछ करने का अधिकार दिया था। यह दल धन शोधन मामले की इन्वेस्टीगेशन कर रहा है जिसके जरिए लंदन के Posh Park Lane Area में 4 अपार्टमेंट खरीदे गए थे।  हालांकि शरीफ ने इन आरोपों से इनकार किया है। संयुक्त जांच दल को 60 दिन के भीतर ये जांच पूरी करनी है।

Source

क्या है पनामा पेपर्स मामला

पनामा पेपर्स मामला ने इंटरनेशनल मंच पर इसने तहलका मचा रखा है । इस मामले में पनामा पेपर्स के नाम से लीक हुए Documents में जो नाम आये है, उससे हगंमा मच गया है। इन दस्तावेजों में लगभग 500 भारतीयों के नाम भी है, जिसमें राजनीतिक हस्तियों से लेकर फिल्मी सितारे और खिलाड़ियों का भी अपराधिक चिट्ठा शामिल है।

पनामा एक देश है जो मध्य अमेरिका में स्थिति है जहां मोजैक फोंसेका नामक एक फर्म है जिसका काम के धन को सफेद करना है । गौरतलब है कि इस पनामा पेपर्स के पीछे कई पत्रकारों की अंतर्राष्ट्रीय संघ की टीम काम कर रही थी। पनामा पेपर्स इस तरह से काम करने वाला अपने आप में दुनिया का एक बड़ा संगठन है। इस खुलासे के पीछे पिछले एक वर्ष से करीब 80 देशों के 100 से अधिक मीडिया संगठनों के 400 पत्रकारों ने दस्तावेजों का गहन शोध किया है।