धुर विरोधी मुल्क उत्तर कोरिया और दक्षिण कोरिया के रिश्तों में लंबे समय बाद सकारात्मक संकेत देखने को मिल रहे हैं। अगले माह दक्षिण कोरिया में शीतकालीन ओलंपिक में भाग लेने के लिए अपने एथलीट्स को भेजने के लिए उत्तर कोरिया राजी हो गया है। उत्तर कोरिया के अधिकारियों ने मंगलवार को साउथ कोरियाई प्रस्ताव को स्वीकार करते हुए फरवरी में होने जा रहे शीतकालीन ओलंपिक गेम्स में अपने एथलीट्स को भेजने की बात कही है।

एक रिपोर्ट के अनुसार , पहले सत्र की एक घंटे तक चली चर्चा के बाद उत्तर कोरिया ने पुष्टि की कि वह दक्षिण कोरिया में फरवरी में आयोजित होने वाले प्योंगचैंग खेलों में एथलीटों और समर्थकों सहित एक प्रतिनिधिमंडल भेजेगा। सियोल के उप एकीकरण मंत्री चुन हेई सुंग ने मीडिया को बताया कि उत्तर कोरियाई पक्ष ने एक उच्चस्तरीय प्रतिनिधिमंडल, राष्ट्रीय ओलंपिक समिति प्रतिनिधिमंडल, एथलीटों, समर्थकों, कलाकारों, पर्यवेक्षकों, एक टायक्वोंडो प्रदर्शन टीम और खेल पत्रकारों को भेजने का प्रस्ताव रखा है।

आपको बता दे कि दो वर्षों से अधिक समय के अंतराल के बाद अंतत: मंगलवार को उत्‍तर कोरिया व दक्षिण कोरिया के बीच वार्ता हुई है। यह वार्ता दोनों देशों की सीमा से सटे पनमुनजोम में आयोजित की गयी। बता दे कि उत्तर कोरिया का समूह सैन्य सीमांकन रेखा पर चलकर दक्षिण कोरिया स्थित पीस हाउस परिसर पहुंचा। दक्षिण कोरिया के एकीकरण मंत्री चो म्योंग ग्यों और उत्तर कोरिया के मुख्य प्रतिनिधि री सोन ग्वोन ने ‘पीस हाउस’ के प्रवेश पर और बाद में वार्ता की मेज पर एक दूसरे से हाथ मिलाया।

उत्‍तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रमों पर उभरे तनाव के महीनों बाद उम्‍मीद जगाने वाली यह प्रत्‍यक्ष वार्ता दक्षिण कोरियाई मंत्री(उत्‍तर के साथ संबंधों के इंचार्ज) चो यंग ग्‍योन व उनके उत्‍तर कोरियाई समकक्ष रि सोन-क्‍वोन के बीच संपन्‍न हुई। यह बैठक आगामी प्योंगचैंग शीतकालीन ओलंपिक खेलों में प्योंगयांग की भागीदारी सुनिश्चित करने और लंबे समय से तनावपूर्ण रहे द्विपक्षीय संबंधों को सुधारने के तरीके खोजने पर केंद्रित रही।

योन्हाप समाचार एजेंसी के अनुसार , एकीकरण (यूनीफिकेशन) मंत्री चो म्यांग ग्योन ने कहा कि हम अलग-अलग रह रहे परिवारों के मुद्दे और सैन्य तनाव को दूर करने के तरीकों पर बातचीत की तैयारी करेंगे।’ पिछले साल दोनों देशों के बीच तनाव तब और बढ़ गया जब उत्तर कोरिया ने अपने प्रतिबंधित शस्त्र कार्यक्रम पर बहुत तेज प्रगति की और बैलिस्टिक मिसाइल लांच की जो उसके मुताबिक अमेरिका को अपनी जद में ले सकती है।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।