सना : हैजा महामारी यमन देश में एक वायरस की तरह फैल रहा है जिससे तकरीबन 800 लोगों की जानें चली गई है सूत्रों के हवाले से बताया जा रहा है कि हैजा महामारी से प्रभावित लोगों की संख्या करीब 1 लाख तक पहुंच गई है।


विश्व स्वास्थ्य संगठन ( WHO ) और यमन के एक स्वास्थ्य अधिकारी ने यह सूचना दी है कि यमन में विद्रोहियों द्वारा शासित सना सरकार में अवर स्वास्थ्य सचिव ने कहा है कि बीते अप्रैल के बाद से इस बीमारी से 96,000 से अधिक लोग संक्रमित हुए और कम से कम 746 लोगों की मौत हो गई।

हैजा के फैलने के लिये उन्होंने हूती विद्रोहियों के खिलाफ सऊदी के नेतृत्व वाले 2 साल पुराने अभियान को जिम्मेदार ठहराया। इस लड़ाई से बुनियादी सुविधाओं
को नुकसान पहुंचा और दवाइयों की कमी हुई।  WHO का कहना है कि हैजा महामारी के संदिग्ध मामलों की संख्या बढ़कर 1,01,820 हो गई और 7 जून तक मरने वालों की संख्या 791 थी।  यूनीसेफ के साथ एक संयुक्त बयान में  बताया कि इनमें से 46 % मामले 15 वर्ष से नीचे के बच्चों के संक्रमित होने के हैं।

यमन में यूनीसेफ के प्रतिनिधि डॉ. एम रेलानो का कहना है कि हैजा की महामारी बच्चों के लिये खराब स्थिति को बेहद खराब कर रही है। जिन बच्चों की मौत हैजा महामारी से हुई है, उनमें से कई बच्चे कुपोषण का शिकार थे।

यमन के चिकित्सा अधिकारियों ने नाम नहीं बताने की शर्त पर बताया कि संयुक्त अरब अमीरात से सहायता विमान के जरिये हैजा इलाज से संबंधित लगभग 50 टन सामग्री सरकारी बलों द्वारा नियंत्रित दक्षिणी अदन शहर पहुंचीं।