पाकिस्तान के पहले वायु सेना प्रमुख असगर खान का निधन


इस्लामाबाद  : पाकिस्तानी वायु सेना के पहले प्रमुख और वरिष्ठ राजनेता असगर खान का लंबी बीमारी के बाद कल निधन हो गया। वह 96 वर्ष के थे। पारिवारिक सूत्रों के अनुसार अबोटाबाद स्थित उनके पैतृक गांव नावा शहर में आज उनको सुपुर्द ए खाक किया जाएगा। श्री खान का जन्म 1921 में भारत के जम्मू कश्मीर में हुआ था। श्री खान ने 1940 में भारतीय वायु सेना से अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद वह पाकिस्तान चले गये जहां वह मात्र 35 वर्ष की आयु में पाकिस्तानी वायु सेना के सबसे युवा प्रमुख बना दिये गये।

वायु सेना से सेवानिवृत्त होने के बाद राजनीति में प्रवेश किया तथा जनरल अयुब खान के तानाशाही शासन के दौरान 1960 में जुल्फिकार अली भुट्टो की जेल से रिहाई को लेकर हुए आंदोलन में भी भाग लिया। दिलचस्प बात यह है कि वह 1977 के चुनाव में भुट्टो का विरोध करने वाले पाकिस्तान राष्ट्रीय गठबंधन के नेताओं में भी शामिल थे।

श्री खान ने तहरीक-ए-इस्तक्लाल नामक राजनीतिक पार्टी का भी गठन किया गया था जिसे विपक्ष के नेता इमरान खान के नेतृत्ववाली तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी में विलय कर दिया गया। पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत श्री खान की ही पार्टी से की थी लेकिन बाद में वह मुस्लिम लीग में शामिल हो गये।

श्री खान को 1996 में सुप्रीम कोर्ट में दायर की गयी उस याचिका के लिए भी जाना जाता है जिसमें उन्होंने नवाज शरीफ समेत कई राजनेताओं पर 1990 के चुनाव के दौरान बेनजीर भुट्टो को हराने के लिए खुफिया एजेंसी इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) से पैसे लेने का आरोप लगाया था। वह पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के भी अध्यक्ष भी रहे थे।

 देश और दुनिया का हाल जानने के लिए जुड़े रहे पंजाब केसरी के साथ