आईएस के खतरे से निपटने में मदद करे अलगाववादी, माओवादी: दुतार्ते


मनीला : फिलीपींस के राष्ट्रपति रोड्रिगो दुतार्ते ने देश के मुस्लिम अलगावादियों और माओवादियों के नेतृत्व वाले विद्रोहियों से इस्लामिक स्टेट (आईएस) से जुडे आतंकवादी संगठन के खिलाफ संघर्ष में मदद करने की अपील की है। इस्लामिक आतंकवाद के बढते खतरे से निपटने में मदद मांगते हुये श्री दुतार्ते ने कहा कि आतंकवाद हम सब का दुश्मन है। आईएस से जुड़ी इस लड़ाई में साथ देने वालों को भुगतान भी किया जायेगा। श्री दुतार्ते ने कहा कि लड़ाकों और सैनिकों के साथ मिलकर लडऩे का विचार अलगाववादी समूहों में से एक के नेता से आया था।

जोलो द्वीप पर सेना के शिविर में पहुंचे श्री दुतार्ते ने कहा कि वे कम्युनिस्ट और अलगाववादी विद्रोहियों से अपील करता हूं कि वे आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में सरकार और सेना का साथ दे। उन्होंने कहा, ” हम उनसे उसी तरह का व्यवहार करेंगे जैसा की सेना के साथ करते है। उन्हें सेना की तरह वेतन और दूसरी सुविधायें भी मिलेंगी।”

राष्ट्रपति दुतार्ते यह प्रस्ताव मोरो इस्लामिक लिबरेशन फ्रंट और मोरो नेशनल लिबरेशन फ्रंट के अलावा कम्युनिस्ट न्यू पीपल्स आर्मी (एनपीए) को देते हुये कहा कि गुरिल्ला युद्ध छोड कर वे सरकार का साथ दे। श्री दुतार्ते ने कहा कि वह मुस्लिम और माओवादी विद्रोहियों को सेना में समायोजित करने के लिए एक सेना की नई इकाई का गठन भी कर सकते है।

विद्रोहियों के सेना में आने से सेना होगी मजबूत
उन्होंने कहा विद्रोहियों के सेना में आने से सेना मजबूत होगी क्योकि विद्रोहियो को स्थानीय इलाकों में युद्ध का अनुभव और निपुणता है। पिछले सप्ताह दक्षिणी फिलीपींस के मरावी में आतंकवादियों ने प्रमुख सड़कों और पुलों पर कब्जा कर लिया है और मजबूती से डटे हुये है। सेना की जवाबी कार्रवाई में साठ आतंकवादियों, 15 सुरक्षा बलों और नौ नागरिकों को की मौत हुई है, जबकि हजारों लोग विस्थापित हो गए हैं।