शाहिद खकान अब्बासी बने पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री


नवाज शरीफ के इस्तीफा देने के बाद आज को शाहिद खाकान अब्बासी पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री चुन लिया गया । पाकिस्‍तान के नेशनल असेंबली में प्रधानमंत्री चुनाव में विपक्ष में विवाद के कारण सत्‍तारूढ़ पाकिस्‍तान मुस्‍लिम लीग-नवाज (पीएमएल एन) के उम्‍मीदवार खाकान अब्‍बासी की जीत आसान हो गई थी। सहयोगियों के समर्थन से पीएमएल-एन के पास अनिवार्य 172 की संख्‍या की तुलना में अधिक सदस्‍य थे और एक संयुक्त उम्मीदवार को देने में विपक्षी पार्टियों की विफलता से चुनाव में जीत इनके ही पाले में रही। शरीफ के बेहद करीबी माने जाने वाले अब्बासी उनकी मंत्रिमंडल में पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक संसाधन मंत्री भी रहे हैं। बता दे कि वह सिर्फ 45 दिन तक इस पद पर रहेंगे।

शाहिद खाकान अब्बासी के पक्ष में 221 वोट पड़े। जबकि शेख रशीद अहमद को 33 वोट मिले। वहीं नावेद कमर के पक्ष में 47 वोट पड़े। साहिबज़ादा तारिकुल्ला को महज 4 वोट मिले।

विश्वासमत हासिल करने के बाद अंतरिम प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने पार्टी नेतृत्व का शुक्रिया अदा किया। साथ ही उन्होंने कहा ”मैं पाकिस्तान तहरीक-ए इंसाफ और इमरान खान का भी शुक्रगुजार हूं, जो हमें हर दिन गालियां देते हैं। ”

बता दे कि विपक्ष के नेता सैयद खुर्शीद शाह की अध्‍यक्षता में हुए ज्‍वाइंट मीटिंग के दौरान एक संयुक्‍त उम्‍मीदवार चुनने में असफल रहे चार विपक्षी पार्टियों के पांच उम्‍मीदवारों ने अपना नामांकन पत्र भरा था। अब्‍बासी के खिलाफ नामांकन भरने वालों में पाकिस्‍तान पीपुल्‍स पार्टी के सैय्यद खुर्शीद शाह और सैय्यद नावेद कमर, पाकिस्‍तान तहरीक-ए-इंसाफ के उम्‍मीदवार आवामी मुस्‍लिम लीग के शेख राशिद अहमद, जमात-ए-इस्‍लामी के साहिबजादा तारिकुल्‍ला, और मुताहिदा कौमी मूवमेंट के किश्‍वर जेहरा थे।

जानिए कौन हैं अब्बासी

59 वर्ष के अब्बासी रावलपिंडी से सांसद रहते हैं। अब्बासी ने कैलिफोर्निया और जार्ज वाशिंगटन यूनीवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है। उन्होंने कई साल इसी क्षेत्र में काम भी किया. अपने पिता की एक दुर्घटना में मौत होने के बाद 1988 में उन्होंने अपना राजनीतिक करियर शुरू किया।

अब्बासी पाकिस्तान के सबसे धनी सांसदों में से हैं। वे एयरब्लू कंपनी के मालिक हैं। साथ ही उनका रेस्त्रां बिजनेस भी है। उनकी संपत्ति करीब 1.5 बिलियन डॉलर के ऊपर बताई जाती है।
अब्बासी पूर्व ISI चीफ मुहम्मद रियाज अब्बासी के दामाद हैं। 2013 से 2017 के बीच अब्बासी नवाज शरीफ सरकार में पेट्रोलियम मंत्री थे. इससे पहले गिलानी सरकार में वे कुछ समय के लिए कामर्स मिनिस्टर भी रहे हैं।