कोलंबो : श्रीलंका के पूर्व राष्ट्रपति एवं नवनियुक्त प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे संसद में बहुमत के जादुई आंकड़े 113 से अब भी दूर हैं। संसद के सदन में बहुमत साबित करने से कुछ दिन पहले शुक्रवार को उनके प्रवक्ता ने यह जानकारी दी।

प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे को बरख्वास्त कर राजपक्षे को नया प्रधानमंत्री नियुक्त करने के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना के कदम के बाद से श्रीलंका में संवैधानिक संकट जारी है।

भारत को घेरने के लिये चीन की नई चाल : अब म्यांमार में भी रणनीतिक बंदरगाह बनाने का किया सौदा

‘यूनाइटेड पीपुल्स फ्रीडम एलायंस‘ (यूपीएफए) के प्रवक्ता केहेलिया रम्बुकवेला ने राजपक्षे का समर्थन करने वाले सांसदों की कुल संख्या प्रकट किए बिना पत्रकारों से कहा, ‘‘अभी हमें 105 से 106 सांसदों का समर्थन हासिल है।’’

सिरिसेना ने पहले एक जनसभा में दावा किया था कि उन्हें 225 सदस्यीय सदन में 113 सांसदों का समर्थन हासिल है।