अमरीकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने कहा है कि प्रकृति के साथ मनुष्यों की छेड़छाड़ इतनी बढ़ गई है कि इससे धरती का तापमान लगातार बढ़ता ही जा रहा है और यही कारण है कि पिछला साल यानि के 2017 को अब तक तीसरा सबसे गर्म साल रिकॉर्ड किया गया है। नासा के वैज्ञानिकों कहना है कि 2016 और 2015 के बाद 2017 अब तक का सबसे गर्म साल रहा है।

नासा ने दावा है कि उसका यह रिपोर्ट लगभग 167 साल के आंकड़े के आधार पर तैयार की गई है। नासा ने हाल ही में अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया था कि अल नीनो अंटार्कटिका की सालाना दस इंच बर्फ पिघला रहा है। नासा के वैज्ञानिकों का कहना था कि अल नीनो समंदर के गरम पानी का बहाव अंटार्कटिका की ओर कर रहा है, जिससे वहां बर्फ पिघल रही है जो कि तापमान बढ़ने का एक प्रमुख कारण हो सकता है।

अमेरिकी सरकार ने भी गत वर्ष नवंबर में एक रिपोर्ट जारी की थी जिसमें कहा गया था कि मानव गतिविधियों के कारण ही धरती का तापान बढ़ रहा है। विश्व मौसम संगठन का भी मानना है कि सबसे गरम वर्षों की रैंकिंग कोई बड़ी बात नहीं है। सबसे बड़ी बात यह देखना होगा कि समंदर की बर्फ जैसी अन्य जलवायु विशेषताओं पर क्या असर पड़ रहा है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें।