United Nations महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त पद के लिए चिली की पूर्व राष्ट्रपति मिशेल बाचेलेत को नामित किया है। वह यदि इस पद के लिए चुनी जाती हैं तो विवादित जेद राद अल हुसैन का स्थान लेंगी। गुटेरेस ने बुधवार को United Nations महासभा को उनका (बाचेलेत) का नामांकन भेजा। जेद का चार वर्षीय कार्यकाल इस महीने समाप्त हो रहा है और आम सभा के अध्यक्ष मिरोस्लाव लाजैक ने तीन अगस्त को एक सत्र का आयोजन कर उनके नामांकन पर विचार किया था।

जेद दूसरा कार्यकाल नहीं चाहते, हालांकि, इसके वह योग्य हैं। बाचेलेत का मार्च में चिली के राष्ट्रपति का दूसरा कार्यकाल समाप्त हुआ है। वह निजी तौर पर अगस्तो पिनोचेट की सैन्य तानाशाही के दौरान मानवाधिकारों के उल्लंघन का अनुभव ले चुकी हैं। बाचेलेत ने अमेरिका में सुरक्षा विषय में पढ़ाई की है और स्वास्थ्य एवं सुरक्षा मंत्री के रूप में भी काम कर चुकी हैं। बाचेलेत के सामने अब United Nations मानवाधिकार परिषद के कार्यालय की विश्वसनीयता को बहाल करने की पेचीदा चुनौती होगी। भारत ने भी कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन के मामले में जेद की एक रिपोर्ट जारी होने के मामले में उन पर पक्षपात का आरोप लगाया था। भारत ने इस रिपोर्ट की निंदा की थी।