वर्जीनिया : अमेरिका के वर्जीनिया में एक स्मारक हटाने को लेकर राष्ट्रवादियों और विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प में कम से कम एक लोग मारे गए हैं और 30 अन्य घायल हो गये वहीं विमान अधिकारियों के मुताबिक वर्जीनिया राज्य पुलिस के एक हेलिकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त हो जाने से दो अन्य लोगों की भी मौत हो गयी।

Source

वर्जीनिया के गवर्नर टेरी मेकएयुलिफ्फे ने बताया कि यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि हेलिकॉप्टर हिंसक झड़पों की वजह से दुर्घटनाग्रस्त हुई है या नहीं। उन्होंने बताया कि घटना के बाद क्षेत्र में आपातकाल की घोषणा की गयी है और रैली को रोक दिया गया है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी घटना की निंदा की है।

Source

श्री मेकएयुलिफ्फे ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, “मेरे पास सभी गोरे नस्लवादियों और नाजियों के लिए एक संदेश है। हमारा संदेश बेहद साधारण और सरल है-‘अपने घर जाओ’। आप सभी की यहां कोई जरुरत नहीं है। शर्म करो।”

Source

चेरलोट्टेसविल्ले पुलिस प्रमुख अल थॉमस ने बताया कि हिंसक झड़प के दौरान एक 32 वर्षीय महिला की मौत हुई है और पांच लोगों को गंभीर चोट लगी है वहीं कार चढ़ाने की घटना में चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गये। उन्होंने बताया कि रैली के दौरान भीड़ में लोगों के उपर कार चढ़ाने वाले चालक को गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस इसे आपराधिक हत्या मान कर घटना की जांच कर रही है। उल्लेखनीय है कि शुक्रवार रात को सैकड़ों की संख्या में गोरे लोगों के समर्थन में हाथों में टार्च लिए एक गुट वर्जीनिया विश्वविद्यालय परिसर में आ गया और शनिवार सुबह इन लोगों के विरोध में एक अन्य गुट के बीच झड़प शुरू हो गयी।

नफरत और कट्टरता को रोकना होगा : ट्रंप
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने देश के लोगों से वर्जीनिया के चेरलोट्टेसविल्ले में हिंसक झड़प के मद्देनजर नफरत और कट्टरता से उपर उठने की अपील की है। वर्जीनिया में राष्ट्रवादियों और विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच अमेरिका में गृहयुद्ध के दौरान दासता खत्म करने का प्रयास करने वाले एक नायक के स्मारक को लेकर झड़प हुई जिसमें एक व्यक्ति मारा गया।

Source

श्री ट्रंप ने पत्रकारों से कहा,”हम कई तरफों से हिंसा, नफरत और कट्टरता की इस घटना की मजबूती से निंदा करते हैं।” उन्होंने इससे पहले घटना की निंदा करते हुए ट्वीट कर कहा, “हम सभी को अवश्य ही एक साथ रहना चाहिए और सभी तरह की हिंसा की निंदा करनी चाहिए। अमेरिका में इस तरह की हिंसा की कोई जगह नहीं है।”