BREAKING NEWS

एफसी कोहली का 96 वर्ष की आयु में निधन; प्रधानमंत्री समेत कई हस्तियों ने जताया शोक◾PM मोदी 28 नवंबर को पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा◾प्रधानमंत्री द्वारा तीसरे ग्लोबल रिन्यूबल एनर्जी इन्वेस्टर्स मीट एक्सपो का शुभारंभ, शिवराज हुए शामिल◾सड़क परियोजनाओं की मिली सौगात, सड़कें बेहतर होंगी तो लगेंगे उद्योग, मिलेगा रोजगार : नितिन गडकरी ◾दिल्ली में वेंटिलेटर के साथ केवल 205 ICU बेड उपलब्ध, 60 अस्पतालों में कोई बेड नहीं खाली : सत्येंद्र जैन◾BJP बाहरी लोगों की पार्टी है, बंगाल को ‘दंगा प्रभावित गुजरात’ नहीं बनने देंगे : CM ममता◾पूर्वी लद्दाख से सैनिकों की वापसी को लेकर चीन, भारत में सैन्य और कूटनीतिक बातचीत जारी : चीनी सेना◾किसानों के आंदोलन के कारण डीएमआरसी की सेवाएं पड़ोसी शहरों से कल रहेंगी स्थगित ◾किसानों के ‘दिल्ली चलो’ मार्च रोकने को शिरोमणि अकाली दल ने बताया पंजाब का '26/11'◾बिहार में भाजपा विधायक ललन कुमार पासवान ने लालू प्रसाद के खिलाफ दर्ज कराई FIR◾री-इनवेस्ट उद्घाटन सत्र : भारत में नवकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेशकों के लिये काफी अवसर - पीएम मोदी ◾किसानों को रोकने पर खट्टर और कैप्टन के बीच जुबानी जंग, हरियाणा CM बोले-MSP पर दिक्कत हुई तो छोड़ दूंगा राजनीति◾फोन कॉल कांड के बाद लालू प्रसाद यादव केली बंगले से रिम्स के पेइंग वार्ड में किये गए शिफ्ट◾केजरीवाल सरकार ने दिल्ली HC से कहा- जरूरत पड़ने पर लगाया जा सकता है नाइट कर्फ्यू◾3 दिसंबर को आंदोलनकारी किसानों से मुलाकात करेंगे केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर◾रोशनी लैंड स्कैम : अनुराग ठाकुर बोले- भ्रष्टाचारी नेताओं ने जम्मू-कश्मीर जैसे स्वर्ग को बना दिया था नर्क◾किसान आंदोलन पर पक्ष और विपक्ष के नेताओं के बीच राजनीतिक घमासान◾सरकारी निर्णयों को मांपने में राष्ट्रहित हो सर्वोपरि, राजनीति हावी होने से देश का नुकसान: PM मोदी ◾पैतृक गांव में सुपुर्दे-खाक हुए अहमद पटेल, राहुल गांधी समेत कई दिग्गज कांग्रेस नेता रहे मौजूद ◾मुंबई हमले के जख्म को भारत भूल नहीं सकता, अब नीति से देश कर रहा आतंक का मुकाबला : PM मोदी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बिहार चुनाव : इस बार नीतीश की राह नहीं है आसान, इन 5 मुख्यमंत्री पद के दावेदारों से है टक्कर

बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर चुनावी मैदान में उतरे सभी राजनीतिक दल राज्य की सत्ता तक पहुंचने के लिए पुरजोर कोशिश में जुटे हैं। सभी दलों की चाहत सत्ता में भागीदारी की है। 

चुनाव को लेकर दल हो या गठबंधन अपने नेता या मुख्यमंत्री का चेहरा सामने रख चुनावी मैदान में ताल ठोंक रहे हैं। कई मुख्यमंत्री पद के प्रत्याशी तो खुद चुनावी मैदान में योद्धा भी बने हैं। इस चुनाव में जहां सत्ता तक पुहंचने के लिए विभिन्न पार्टियों ने चार अलग-अलग गठबंधन बनाकर चुनावी मैदान में हैं वहीं बिहार के मुख्यमंत्री बनने का सपना संजोए छह मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार भी हैं। 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के मुख्यमंत्री का चेहरा हैं वहीं राष्ट्रीय जनता दल (राजद) नेतृत्व वाले विपक्षी दल के महागठबंधन राजद नेता तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री बनाने के दावे के साथ चुनावी मैदान में है। तेजस्वी खुद राघोपुर से चुनावी मैदान में उतरे हैं। इस चुनाव में एक बार फिर भाजपा और जदयू साथ मिलकर चुनावी मैदान में हैं और मुख्यमंत्री का चेहरा नीतीश कुमार हैं। वैसे, इस चुनाव में नीतीश के रास्ते इतने आसान नहीं है। इस चुनाव में छह मुख्यमंत्री के चेहरे हैं।  

चिराग पासवान के समर्थन में आए तेजस्वी, कहा- CM नीतीश ने की नाइंसाफी, नहीं किया अच्छा व्यवहार

पिछले चुनाव से राज्य की सियासी परिसिथतियां भी बदली हैं। पिछली बार 2015 में विधानसभा चुनाव के जदयू और राजद ने साथ महागठबंधन बनाकर जब चुनाव लड़ा था तब महागठबंधन की ओर से नीतीश कुमार का चेहरा मुख्यमंत्री के लिए सामने रखा गया था, जबकि राजग प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के चेहरे के साथ चुनाव लड़ा और चुनाव परिणाम आने के बाद मुख्यमंत्री तय करने की बात कही थी। 

लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) अपने अध्यक्ष चिराग पासवान को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर रखा है, हालांकि चिराग ने अब तक खुद को मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी सार्वजनिक रूप से घोषित नहीं किया है। वैसे, लोजपा इस चुनाव में अकेले 143 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात करते हए आर-पार की लड़ाई लड़ रही है। 

तेजस्वी और नीतीश के अलावा राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा), बसपा के साथ छह दलों का गठबंधन ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ्रंट ने पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा को मुख्यमंत्री पद का दावेदार बनाया है। इधर, जनअधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव को प्रगतिशील लोकतांत्रिक गठबंधन ने मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर चुनावी मैदान में जोर लगाए हुए है। 

CM योगी कल से करेंगे बिहार में चुनावी जनसभाओं की शुरुआत, 1 दिन में 3 रैली को करेंगे संबोधित

 इधर, इस चुनाव में प्लुरल्स पार्टी की प्रमुख पुष्पम प्रिया चौधरी भी खुद को मुख्यमंत्री प्रत्याशी घोषित कर चुनावी मैदान में है। पुष्पम प्रिया चौधरी ने स्थानीय समाचार पत्रों में विज्ञापन प्रकाशित करते हुए खुद को अगला मुख्यमंत्री घोषित कर रखा है। 

बहरहाल, सभी मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार सत्ता के शिखर पर पहुंचने के लिए चुनावी मैदान में खूब पसीना बहा रहे हैं। लेकिन इस लोकतंत्र में जनता किनके कामों और चेहरे पर मुहर लगाती है, यह तो 10 नवंबर को ही पता चलेगा जब चुनाव परिणाम आएंगे।