BREAKING NEWS

भारत में होने जा रहा कोरोना की तीसरी लहर का आगाज? ओमीक्रॉन के खतरे के बीच मुंबई लौटे 109 यात्री लापता ◾देश में आखिर कब थमेगा कोरोना महामारी का कहर, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के इतने नए मामलों की हुई पुष्टि ◾लोकसभा में न्यायाधीशों के वेतन में संशोधन की मांग वाले विधेयक पर होगी चर्चा, कई दस्तावेज भी होंगे पेश ◾PM मोदी के वाराणसी दौरे से पहले 'गेरुआ' रंग में रंगी गई मस्जिद, मुस्लिम समुदाय में नाराजगी◾ओमीक्रॉन के बढ़ते खतरे के बीच दिल्ली फिर हो जाएगी लॉकडाउन की शिकार? जानें क्या है सरकार की तैयारी ◾यूपी : सपा और रालोद प्रमुख की आज मेरठ में संयुक्त रैली, सीट बटवारें को लेकर कर सकते है घोषणा ◾दिल्ली में वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज, प्रदूषण को कम करने के लिए किया जा रहा है पानी का छिड़काव ◾विश्व में वैक्सीनेशन के बावजूद बढ़ रहे है कोरोना के आंकड़े, मरीजों की संख्या हुई इतनी ◾सदस्यीय समिति को अभी तक सरकार से नहीं हुई कोई सूचना प्राप्त,आगे की रणनीति के लिए आज किसान करेंगे बैठक ◾ पीएम मोदी आज गोरखपुर को 9600 करोड़ रूपये की देंगे सौगात, खाद कारखाना और AIIMS का करेंगे लोकार्पण◾रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने भारत को एक बहुत बड़ी शक्ति, वक्त की कसौटी पर खरा उतरा मित्र बताया◾पंजाब के मुख्यमंत्री ने पाकिस्तान के साथ सीमा व्यापार खोलने की वकालत की◾महाराष्ट्र में आए ओमिक्रॉन के 2 और नए केस, जानिए अब कितनी हैं देश में नए वैरिएंट की कुल संख्या◾देश में 'ओमिक्रॉन' के बढ़ते प्रकोप के बीच राहत की खबर, 85 फीसदी आबादी को लगी वैक्सीन की पहली डोज ◾बिहार में जाति आधारित जनगणना बेहतर तरीके से होगी, जल्द बुलाई जाएगी सर्वदीय बैठक: नीतीश कुमार ◾कांग्रेस ने पंजाब चुनाव को लेकर शुरू की तैयारियां, सुनील जाखड़ और अंबिका सोनी को मिली बड़ी जिम्मेदारी ◾दुनिया बदली लेकिन हमारी दोस्ती नहीं....रूसी राष्ट्रपति पुतिन से मुलाकात में बोले PM मोदी◾UP चुनाव को लेकर प्रियंका ने बताया कैसा होगा कांग्रेस का घोषणापत्र, कहा- सभी लोगों का विशेष ध्यान रखा जाएगा◾'Omicron' के बढ़ते खतरे के बीच MP में 95 विदेशी नागरिक हुए लापता, प्रशासन के हाथ-पांव फूले ◾महबूबा ने दिल्ली के जंतर मंतर पर दिया धरना, बोलीं- यहां गोडसे का कश्मीर बन रहा◾

बिहार : उपचुनाव को लेकर सियासी गर्मी जारी, चुनाव का रिजल्ट तय करेगा चिराग चिराग का सियासी कद

बिहार की राजनीति में अभी होने वाले उपचुनाव को लेकर जबरदस्त चर्चा है। बिहार में 2 विधानसभा सीटों पर 30 अक्टूबर को उपचुनाव होने हैं। इस उपचुनाव में सत्ता पक्ष और मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की साख दांव पर तो होगी ही, इस उपचुनाव में लोजपा के सांसद पशुपति कुमार पारस और चिराग पासवान की सियासी साख की भी परीक्षा होगी।

 चिराग पासवान ने दोनों सीटों के लिए प्रत्याशी की घोषणा की

चाचा पशुपति पारस जहां सत्ताधारी गठबंधन राजग के साथ खड़े हैं वहीं भतीजा चिराग पासवान ने दोनों सीटों के लिए प्रत्याशी की घोषणा कर दी है।लोजपा के संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के निधन के बाद ही पार्टी दो गुटों में बंट गई। एक गुट में चिराग पासवान अलग-थलग पड़ गए तो बाकी चार सांसद उनके चाचा और सांसद पशुपति पारस के साथ चले गए। बाद में पशुपति पारस को केंद्रीय कैबिनेट में भी शामिल कर लिया गया है। इस बीच दोनों के बीच लगातार तनातनी बरकरार है।'

चुनाव आयोग ने दोनों गुटों को अलग-अलग नाम और चुनाव चिह्न् दे दिए

इस बीच, चुनाव आयोग ने दोनों गुटों को अलग-अलग नाम और चुनाव चिह्न् दे दिए। चिराग वाले धड़े का नाम लोक जनशक्ति पार्टी (रामविलास) किया गया है और उन्हें हेलिकॉप्टर चुनाव चिह्न् दिया। वहीं उनके चाचा और केंद्रीय मंत्री पशुपति कुमार पारस की पार्टी का नाम राष्ट्रीय लोक जनशक्ति पार्टी और चुनाव चिन्ह सिलाई मशीन आवंटित कर दिया गया।

पशुपति पारस ने राजग के समर्थन देने का किया ऐलान 

पशुपति पारस ने तो राजग के समर्थन देने का ऐलान कर दिया लेकिन चिराग की पार्टी ने दोनों सीटों के लिए प्रत्याशियों की घोषणा कर दी।माना जा रहा है कि चिराग इस चुनाव में पिता का नाम और अपने समर्थकों के बूते अपना राजनीतिक कद बढ़ाने की कोशिश करेंगे। कहा जा रहा है कि इस उपचुनाव में उनका प्रत्येक फैसला उनकी सियासी कुशलता को तो मापेगा ही चुनाव परिणाम से उनके सियासी कद और उनके मिल रहे समर्थन को भी तय कर देगा।

 विधानसभा चुनाव में चिराग ने एकला चलो की नीति अपनायी थी  

उल्लेखनीय है कि पिछले साल हुए बिहार विधानसभा चुनाव में चिराग ने एकला चलो की नीति अपनाते हुए अकेले चुनाव मैदान में उतरने का निर्णय लिया था। उस चुनाव में लोजपा को भले एक ही सीट मिली थी, लेकिन माना जाता है कि जदयू को लोजपा के प्रत्याशी के कारण काफी नुकसान उठाना पड़ा। जदयू राज्य में तीसरे नंबर की पार्टी बन गई। हालांकि इसका लाभ सीधे लाभ विपक्षी दलों के महाठबंधन को हुआ।

पशुपति कुमार पारस के लिए भी उपचुनाव अहम 

वैसे, कहा जा रहा है कि इस उपचुनाव के नतीजे न केवल चिराग के राजनीतिक भविष्य और प्रदेश की राजनीति में उनकी हैसियत को भी तय कर देंगे, बल्कि उनके चाचा पशुपति कुमार पारस के लिए भी यह चुनाव अहम है। पारस सार्वजनिक मंचों से कहते रहते हैं कि वे रामविलास के राजनीति के उतराधिकारी हैं। ऐसे में चुनाव परिणाम उनकी सियासी हैसियत भी तय कर देगा।

चाचा, भतीजा के लिए यह चुनाव फाईनल से कम नहीं 

बहरहाल, दो सीटों पर हो रहा चुनाव भले ही उपचुनाव हो, लेकिन इन चाचा, भतीजा के लिए यह चुनाव फाईनल से कम नहीं है। अब देखने वाली बात होगी दोनों एक-दूसरे के प्रति कैसे मोर्चा संभालते हैं और रामविलास पासवान के समर्थकों को कौन कितना अपने पाले में ला पाता है। उल्लेखनीय है कि लोजपा (रामविलास) ने तारापुर विधानसभा क्षेत्र से जहां चंदन सिंह को अपना प्रत्याशी बनाया है वहीं कुशेश्ववरस्थान क्षेत्र से अंजू देवी पार्टी की प्रत्याशी होंगी।

लखीमपुर खीरी : पीड़ित परिवारों से मुलाकात के बाद बोलीं प्रियंका-न्याय के लिए जारी रखूंगी अपनी लड़ाई