BREAKING NEWS

चुनाव के बाद एग्जिट पोल के नतीजे, भाजपा ने राहुल को मारा ताना ◾पकिस्तान द्वारा डाक मेल सेवा पर रोक लगाने के लिए रवि शंकर प्रसाद ने की आलोचना ◾सम्राट नारुहितो के राज्याभिषेक समारोह में शामिल होने जापान पहुंचे राष्ट्रपति कोविंद ◾गृह मंत्री अमित शाह से मिले CM कमलनाथ, केंद्र से 6,600 करोड़ रुपये की सहायता मांगी ◾पाकिस्तान ने भारत के साथ डाक सेवा बंद की, भारत ने अंतरराष्ट्रीय नियमों का उल्लंघन बताया ◾सरकार ने सियाचिन को पर्यटकों के लिए खोलने का फैसला किया : राजनाथ सिंह ◾TOP 20 NEWS 21 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोले- अगर पाक ने घुसपैठ कराना बंद नहीं की तो सशस्त्र बल उसे मुहंतोड़ जवाब देते रहेंगे◾भारत करतारपुर पर 23 को करेगा एग्रीमेंट, आस्था के नाम पर श्रद्धालुओं से वसूली पर अड़ा पाक ◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग समाप्त, जानें किस-किस ने डाला वोट◾उपचुनाव : यूपी समेत 17 राज्यों में वोटिंग समाप्त, जानें कहां कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾हरियाणा विधानसभा चुनाव के लिए मतदान समाप्त, जानें कितने प्रतिशत हुआ मतदान◾आरे विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा- मेट्रो कंस्ट्रक्शन पर नहीं लगाई कोई रोक ◾BJP विधायक के वीडियो पर राहुल गांधी का तंज, कहा- पार्टी में सबसे ईमानदार व्यक्ति हैं बख्शीश सिंह◾संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवंबर से 13 दिसंबर तक चलेगा◾शरद पवार ने डाला वोट, लोगों से की लोकतांत्रिक अधिकार का इस्तेमाल करने की अपील◾संघ प्रमुख मोहन भागवत बोले- बीते 90 वर्षों से हमें निशाना बनाया जा रहा है ◾हरियाणा में मुकाबला सिर्फ BJP और कांग्रेस के बीच : भूपिंदर सिंह हुड्डा◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾

बिहार

बिहार :एक नाबालिग छात्र ने पारिवारिक कलह के चलते राष्ट्रपति और पीएम से मांगी इच्छा मृत्यु

बिहार के भागलपुर जिले  से एक दिल दहलाने वाली घटना सामने आई है। जिसमे एक नाबालिग  ने अपने परिवार  की कलह से परेशान  होकर लगभग दो महीने पहले  राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री सहित अन्य अधिकारियों को पत्र लिख कर इच्छा मृत्यु का अनुरोध किया था। जिसके बाद प्रधानमंत्री कार्यालय ने कार्यवाही करते हुए जिला प्रशासन से मामले की जांच करने को कहा है। 

कृष कुमार मित्रा भागलपुर जिले के कहलगांव थाना अंतर्गत महिषामुंडा गांव के निवासी मनोज कुमार मित्रा का बेटा है। कृष अपने पिता के साथ रहता है और स्कूल में 9वीं कक्षा का छात्र है। 

नाबालिग ने आगे  कहा है कि कक्षा में राष्ट्रपति के कार्यों को पढ़ाया गया है। वह उसी जानकारी के आधार पर इच्छा मृत्यु की अनुमति मांग रहा है। पत्र में छात्र ने कहा है कि वह पिता को खोना नहीं चाहता इसीलिए पिता से पहले खुद मरना चाहता है।

मुझे मां का प्यार कभी नहीं मिला। मां के रहते हुए भी मैं अनाथ की तरह तड़पता रहा हूँ । चार महीने की उम्र में पढ़ाई और तरक्की के लिए मां ने मुझे दादा-दादी के घर भेज दिया। पिता ने मां से अधिक प्यार दिया, लेकिन स्कूल में अन्य छात्रों की मां को देखने पर मैं  माँ  के लिए तरसता था।

सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय के निर्देश पर जिला प्रशासन मामले की जांच कर रहा है। कृष ने आरोप लगाया है कि मां की प्रताड़ना और उनके द्वारा मुकदमेबाजी किए जाने तथा असामाजिक तत्वों द्वारा  बार-बार धमकी दिए जाने से वह बहुत परेशान है। ऐसे में अब उसे जीने की कोई इच्छा नहीं है।

 

कैंसर से  झूज रहे  हैं कृष के पिता :

कृष के पिता मनोज, जो कि कैंसर से ग्रस्त हैं, वह देवघर में ग्रामीण विकास विभाग के जिला प्रबंधक  पद पर कार्य कर रहे  हैं और उनकी मां सुजाता  पटना में  इंडियन ओवरसीज बैंक में सहायक प्रबंधक के पद पर कार्य कर रही  हैं। 

मां को नौकरी मिली और पिता की नौकरी चली गई :

छात्र ने पांच पन्ने के पत्र में मां पर कई तरह के आरोप लगाए  है और पत्र में लिखा  है  कि 2011 में छात्र की मां को बैंक में नौकरी मिली। लेकिन नौकरी लगने के बाद मां पिता को और परेशान करने लगी। कुछ समय बाद मां की नौकरी का तबादला हो गया। इस बीच पिता की नौकरी चली गई । जिसके  बाद  मां ने पिता पर केस कर दिया। जिसके बाद  स्थानीय पुलिस पिता को  रोज परेशान करने लगी और पिता से रिश्वत भी ली।

मां के व्यवहार को परिवार के लोगों  ने बताया अनुचित:

कृष के पिता मनोज और मां के बीच एक  लंबे  समय से विवाद चल रहा है, जिसकी वजह से दोनों अलग-अलग  रह रहे हैं। कृष के दादा संजय कुमार मित्रा कहलगांव एनटीपीसी में वर्कमैन के पद से रिटायर हुए वे  हैं। कृष के दादा व उसके चाचा तथा अन्य परिवारवालों के लोगों ने भी कृष की मां का व्यवहार पूरी तरह गलत  बताया है। 

राष्ट्रीय बाल आयोग गंभीर :

इस नाबालिग के पत्र को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने गंभीरता से लिया है। आयोग के वरिष्ठ सलाहकार रमण कुमार गौड़ ने डीएम को पत्र भेजकर कहा है कि 29 अप्रैल 2019 को मामले की जांच कर 10 दिनों में रिपोर्ट मांगी गई थी, लेकिन अभी तक रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुई है। अब आयोग ने सात दिनों के अंदर जांच रिपोर्ट तैयार करके जमा कराने को कहा है।