BREAKING NEWS

पुणे : दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता में से एक सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया में लगी आग◾अरुणाचल प्रदेश में गांव बनाने की रिपोर्ट पर चीन ने तोड़ी चुप्पी, कहा- ‘हमारे अपने क्षेत्र’ में निर्माण गतिविधियां सामान्य ◾चुनाव से पहले बंगाल में फिर उठा रोहिंग्या मुद्दा, दिलीप घोष ने की केंद्रीय बलों के तैनाती की मांग◾ट्रैक्टर रैली पर किसान और पुलिस की बैठक बेनतीजा, रिंग रोड पर परेड निकालने पर अड़े अन्नदाता ◾डेजर्ट नाइट-21 : भारत और फ्रांस के बीच युद्धाभ्यास, CDS बिपिन रावत आज भरेंगे राफेल में उड़ान◾किसानों का प्रदर्शन 57वें दिन जारी, आंदोलनकारी बोले- बैकफुट पर जा रही है सरकार, रद्द होना चाहिए कानून ◾कोरोना वैक्सीनेशन के दूसरे चरण में प्रधानमंत्री मोदी और सभी मुख्यमंत्रियों को लगेगा टीका◾दिल्ली में अगले दो दिन में बढ़ सकता है न्यूनतम तापमान, तेज हवा चलने से वायु गुणवत्ता में सुधार का अनुमान ◾देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 15223 नए केस, 19965 मरीज हुए ठीक◾TOP 5 NEWS 21 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विश्व में आखिर कब थमेगा कोरोना का कहर, मरीजों का आंकड़ा 9.68 करोड़ हुआ ◾राहुल गांधी ने जो बाइडन को दी शुभकामनाएं, बोले- लोकतंत्र का नया अध्याय शुरू हो रहा है◾कांग्रेस ने मोदी पर साधा निशाना, कहा-‘काले कानूनों’ को खत्म क्यों नहीं करते प्रधानमंत्री◾जो बाइडन के शपथ लेने के बाद चीन ने ट्रंप को दिया झटका, प्रशासन के 30 अधिकारियों पर लगायी पाबंदी ◾आज का राशिफल (21 जनवरी 2021)◾PM मोदी ने शपथ लेने पर जो बाइडेन और कमला हैरिस को दी बधाई ◾केंद्र सरकार के प्रस्ताव पर किसान नेताओं का रुख सकारात्मक, बोले- विचार करेंगे ◾लोकतंत्र की जीत हुई है : अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने पहले भाषण में कहा ◾जो बाइडेन बने अमेरिका के 46 वें राष्ट्रपति ◾कमला देवी हैरिस ने अमेरिका की उपराष्ट्रपति के रूप में शपथ लेकर रचा इतिहास ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मुजफ्फरपुर मामला : कोर्ट ने ब्रजेश ठाकुर की याचिका पर CBI से 18 जनवरी तक मांगा जवाब

दिल्ली की एक कोर्ट ने मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में कई लड़कियों के कथित यौन और शारीरिक शोषण मामले के मुख्य आरोपी ब्रजेश ठाकुर की याचिका पर सीबीआई से 18 जनवरी तक जवाब मांगा है। याचिका में दावा किया गया है कि मामले में गवाहों के बयान विश्वसनीय नहीं हैं। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सौरभ कुलश्रेष्ठ याचिका पर सुनवाई कर रहे थे। 

याचिका में दावा किया गया है कि अभियोजन पक्ष के गवाहों द्वारा पेश किया गया मामला ‘‘झूठा, गढ़ा हुआ और मनगढ़ंत’’ है। इससे पहले कोर्ट ने मामले पर फैसला तीसरी बार 20 जनवरी तक टाल दिया था। याचिका में कहा गया है कि सीबीआई ने आठ जनवरी को सुप्रीम कोर्ट में स्थिति रिपोर्ट दायर की जिसमें कहा गया कि आश्रय गृह की कुछ लड़कियां जीवित हैं। 

भगवान राम का प्रमाण मांगने वालों को अब अपना प्रमाण देने में परेशानी : गिरिराज सिंह

इनके बारे में माना जा रहा था कि इनकी कथित तौर पर हत्या कर दी गई है। वकील पी. के. दुबे के जरिए दायर की गई ठाकुर की याचिका में दावा किया गया है कि आश्रय गृह यौन शोषण मामले में अभियोजन पक्ष के गवाह विश्वसनीय नहीं है और हत्या के आरोपों की जांच उनके बयानों पर आधारित है। याचिका में कहा गया है कि निष्पक्ष मुकदमे के लिए ये तथ्य प्रासंगिक और आवश्यक हैं। 

याचिका में कहा गया है, ‘‘यह जिक्र करना मुनासिब होगा कि हत्या के आरोपों की जांच दुष्कर्म पीड़िताओं के बयानों पर आधारित हैं जो मामले में अभियोजन के गवाह हैं। उन्होंने कोर्ट में आरोपी के खिलाफ झूठे आरोप लगाए।’’ कोर्ट ने पहले 14 जनवरी तक आदेश टाल दिया था क्योंकि न्यायाधीश छुट्टी पर थे और इससे पहले फैसले को एक महीने तक टाल दिया था क्योंकि तिहाड़ केंद्रीय कारागार में बंद 20 आरोपियों को राष्ट्रीय राजधानी में सभी छह जिला कोर्ट में वकीलों की हड़ताल के कारण कोर्ट में लाया नहीं जा सका था। 

कोर्ट ने दुष्कर्म करने और नाबालिगों के साथ दुष्कर्म करने की आपराधिक साजिश के आरोपों के लिए ठाकुर समेत अन्य आरोपियों के खिलाफ 20 मार्च 2018 को आरोप तय किए थे। आरोपियों में आठ महिलाएं और 12 पुरुष हैं।