BREAKING NEWS

PM मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प से फोन पर की 30 मिनट बातचीत, बिना नाम लिए PAK को बनाया निशाना ◾TOP 20 NEWS 19 August : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾आरक्षण विरोधी मानसिकता त्यागे संघ : मायावती◾कश्मीर पर भारत की नीति से घबराया पाकिस्तान, अगले तीन साल पाकिस्तानी सेना प्रमुख बने रहेंगे बाजवा◾चिदंबरम ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- सब सामान्य तो महबूबा मुफ्ती की बेटी नजरबंद क्यों◾कांग्रेस ने बीजेपी और RSS को बताया दलित-पिछड़ा विरोधी◾गृहमंत्री अमित शाह से मिले अजीत डोभाल, जम्मू कश्मीर के हालात पर हुई चर्चा◾RSS अपनी आरक्षण-विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है : मायावती ◾गहलोत बोले- कांग्रेस ने देश में लोकतंत्र को मजबूत रखा जिसकी वजह से ही मोदी आज PM है ◾बैंकों के लिए कर्ज एवं जमा की ब्याज दरों को रेपो दर से जोड़ने का सही समय: शक्तिकांत दास◾राजीव गांधी की 75वीं जयंती: देश भर में कार्यक्रम आयोजित करेगी कांग्रेस◾दलितों-पिछड़ों को मिला आरक्षण खत्म करना BJP का असली एजेंडा : कांग्रेस ◾उन्नाव कांड: SC ने CBI को जांच पूरी करने के लिए 2 हफ्ते का समय और दिया, वकील को 5 लाख देने का आदेश◾अयोध्या भूमि विवाद मामले पर आज सुप्रीम कोर्ट में नहीं हुई सुनवाई ◾जम्मू-कश्मीर में पटरी पर लौटती जिंदगी, 14 दिन बाद खुले स्कूल-दफ्तर◾बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा का 82 साल की उम्र में निधन◾सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की पत्रकार तरुण तेजपाल की रेप आरोप रद्द करने की अपील◾उत्तरकाशी में बादल फटने से 17 की मौत, हिमाचल प्रदेश में बचाए गए 150 पर्यटक◾योगी सरकार का मंत्रिमंडल विस्तार टला, ये है वजह◾प्रियंका बोली- मंदी पर सरकार की चुप्पी खतरनाक, इसका जिम्मेदार कौन है?◾

बिहार

बिहार में केवल लोकसभा चुनाव के लिए बना था महागठबंधन : प्रेमचंद्र

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं बिहार में विधान परिषद के सदस्य प्रेमचंद्र मिश्रा ने आज कहा कि राज्य में केवल लोकसभा चुनाव के लिए महागठबंधन का गठन हुआ था और अब वर्ष 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव के पूर्व समान विचारधारा वाले दलों का नया गठबंधन आकार लेगा। 

श्री मिश्रा ने यहां कहा कि इस वर्ष संपन्न हुये लोकसभा चुनाव के लिए बिहार में महागठबंधन बना था, जिसमें कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा (हम), राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) शामिल थी। उन्होंने कहा कि यह महागठबंधन सिर्फ लोकसभा चुनाव के लिए ही बना था और अब इसके सभी घटक दल अपने अनुसार राजनीतिक गतिविधियां चलाने के लिए स्वतंत्र हैं। 

श्री मिश्रा ने कहा, ‘‘बिहार में वर्ष 2020 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व समान विचारधारा वाले दल मिलकर एक नया गठबंधन बना सकते हैं। बिहार में अब महागठबंधन अस्तित्व में नहीं है।’’ इससे पूर्व हम के अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने अभी हाल ही में वर्ष 2020 का बिहार विधानसभा चुनाव अपने दम पर लड़ने की घोषणा करते हुए कहा था कि महागठबंधन और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) दोनों ने ही उनकी पार्टी को अब तक ठगा है।

श्री मांझी ने कहा था कि पार्टी के गठन के बाद से अबतक हुए चुनाव में वह जिस भी गठबंधन में रहे उन्हें ठगा ही गया है। जब पार्टी राजग के साथ थी तब वर्ष 2015 के विधानसभा चुनाव में भी उन्हें ठगा गया। इसके बाद वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में महागठबंधन में भी उनकी पार्टी को उतनी सीट नहीं दी गई जितनी की वह हकदार थी। उन्होंने कहा कि पार्टी के अधिकांश नेताओं का मानना है कि पार्टी को स्वतंत्र पहचान के लिए अपने दम पर ही चुनाव लड़ना चाहिए। 

हम के अध्यक्ष ने कहा, ‘‘पार्टी जब अपने दम पर चुनाव लड़गी तभी पता चलेगा कि उसका कितना वोट है।’’ उन्होंने कहा कि इस बार के लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी को तालमेल के तहत महागठबंधन ने तीन सीट दी थी लेकिन सही मायने में तीन में से सिर्फ एक सीट पर उनकी पार्टी का उम्मीदवार था शेष दो सीटों में से एक पर कांग्रेस और एक पर राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रत्याशी को हम की टिकट से चुनाव लड़या गया। इससे पार्टी कार्यकर्ताओं में काफी नाराजगी थी। 

वहीं, लोकसभा चुनाव का परिणाम में राजद का बिहार में खाता तक नहीं खुलने के बाद से चुनाव की कमान संभालने वाले पार्टी नेता तेजस्वी प्रसाद यादव राजनीतिक गतिविधियों में नहीं दिख रहे हैं। वह इस बार बिहार विधानमंडल के मॉनसून सत्र के दौरान केवल दो दिन ही सदन की कार्यवाही में उपस्थिति रहे। इसको लेकर भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उनका मजाक भी उड़या था। 

इस बीच राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवानंद तिवारी ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी प्रसाद यादव के लोकसभा चुनाव के बाद से राजनीतिक गतिविधियों में शामिल नहीं रहने को लेकर कहा था कि यह श्री यादव के करियर के लिए ठीक नहीं है। उन्हें अपने पिता एवं राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव की तरह ही चुनौतियों का सामना करना चाहिए।