BREAKING NEWS

LIVE : कांग्रेस मुख्यालय पहुंचा शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, निगमबोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार◾झारखंड : गुमला में डायन होने के शक में 4 लोगों की पीट-पीटकर हत्या◾कारगिल शहीदों की याद में दिल्ली में हुई ‘विजय दौड़’, लेफ्टिनेंट जनरल ने दिखाई हरी झंडी◾ आज सोनभद्र जाएंगे CM योगी, पीड़ित परिवार से करेंगे मुलाकात ◾शीला दीक्षित की पहले भी हो चुकी थी कई सर्जरी◾BJP को बड़ा झटका, पूर्व अध्यक्ष मांगे राम गर्ग का निधन◾पार्टी की समर्पित कार्यकर्ता और कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक थीं शीला दीक्षित : रणदीप सुरजेवाला ◾सोनभद्र घटना : ममता ने भाजपा पर साधा निशाना ◾मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾Top 20 News 20 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने शीला दीक्षित के निधन पर जताया दुख ◾

बिहार

पीएमसीएच में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल से स्वास्थ्य सेवाएं बाधित

बिहार के प्रतिष्ठित पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में जूनियर डॉक्टरों की जारी हड़ताल के कारण स्वास्थ्य सेवाएं बाधित हैं। 

परास्नातक परीक्षा में फेल करने के विरोध में पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गये। उनका आरोप है कि अस्पताल में मरीजों के हित का मुद्दा उठाने के कारण उन्हें दंडित किया गया है। हड़ताल के कारण पीएमसीएच के ओपीडी की सेवाएं पूरी तरह से ठप हैं। मरीजों को इलाज के लिए निजी अस्पतालों में जाना पड़ रहा है। 

वहीं, पीएमसीएच के शिक्षकों का कहना है कि जो विद्यार्थी गंभीरता से अध्ययन करेंगे वह उत्तीर्ण होंगे और जो पढ़ई पर ध्यान नहीं देंगे तो वह अवश्य फेल होंगे। 

इस बीच पीएमसीएच के अधीक्षक डॉ। राजीव रंजन प्रसाद ने बताया कि ओपीडी में प्रतिदिन लगभग 3000 मरीज आते हैं लेकिन हड़ताल के कारण यह संख्या घटकर 1280 रह गई है। उन्होंने बताया कि हड़ताल के कारण उत्पन्न स्थिति को संभालने के लिए बड़ संख्या में वरिष्ठ चिकित्सकों को ड्यूटी पर लगाये जाने के साथ ही उनके काम घंटे भी बढ़ये गये हैं। 

श्री प्रसाद ने बताया कि मरीजों के इलाज के लिए गैर चिकित्सीय विभाग के लोगों को ड्यूटी पर लगाया गया है। उन्होंने कहा कि मरीजों को किसी भी तरह की परेशानी से बचाने के लिए अस्पताल प्रबंधन सभी आवश्यक कदम उठा रहा है।