BREAKING NEWS

संयुक्त किसान मोर्चा ने किया ऐलान-अन्नदाता सीमा विरोध स्थलों पर 30 जून को 'हूल क्रांति दिवस' मनाएंगे◾जम्मू-कश्मीर के सोपोर में मुठभेड़ के दौरान सेना ने 3 आतंकवादियों को किया ढेर◾योग दिवस पर बोले PM मोदी- कोरोना महामारी के दौरान योग उम्मीद की एक किरण बना हुआ है ◾BJP ने आप पर साधा निशाना, कहा - वैक्सीनेशन पर ध्यान न देकर गुजरात और पंजाब के दौरे कर रहे केजरीवाल◾जम्मू कश्मीर के सोपोर इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़◾WTC फाइनल (NZ vs IND) : डेवोन कॉनवे का अर्धशतक, न्यूजीलैंड के 2/101◾CM योगी आदित्यनाथ ने कोरोना संक्रमण के मद्देनजर अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को घर पर ही मनाने की अपील की◾PM मोदी के साथ सर्वदलीय बैठक का न्योता मिलने के बाद कश्मीर की पार्टियों में मंथन का दौर◾फारूक अब्दुल्ला ने केंद्र के वार्ता के न्योते पर जम्मू के NC नेताओं को चर्चा के लिए श्रीनगर बुलाया◾सत्ता के नशे में चूर मोदी सरकार लोगों के प्रति अपनी जिम्मेदारी पूरी तरह भूल चुकी है : सुरजेवाला ◾UP सरकार ने तय किया हाईस्कूल और इंटरमीडिएट परीक्षा का परिणाम फार्मूला◾अनलॉक की ओर बढ़ रहा UP, लगभग दो महीने बाद खुलेंगे रेस्टोरेंट व मॉल, जानेें कहा और कितनी दी गई रियायत ◾भाजपा पर बरसे अखिलेश, बोले- संकीर्ण राजनीति के चलते कोविड-19 टीकाकरण अभियान की गति हुई धीमी ◾केंद्रीय एजेंसियां सता रही, विधायक की उद्धव से अपील, कहा- बहुत देर होने से पहले भाजपा के साथ मेलमिलाप करना ही ठीक रहेगा◾दिल्ली में बीते चार महीने में सबसे कम कोरोना के नए मामले आए सामने, संक्रमण दर अब 0.17 फीसदी◾WHO की अपील- कोरोना को दोबारा जोर पकड़ने से रोकने के लिए स्वास्थ्य ढांचे को मजबूत बनाएं देश◾पशुपति पारस को उनके ही संसदीय क्षेत्र में घेरने की तैयारी में जुटे चिराग, हाजीपुर से निकालेंगे 'संघर्ष यात्रा'◾राज्यों के पास 3.06 करोड़ से अधिक कोरोना टीके उपलब्ध, अब तक 27 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन ◾राम मंदिर जमीन मामले में रणदीप सुरजेवाला की मांग- सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हो जांच◾दिल्ली में कल से 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलेंगे बार, कोरोना के दिशानिर्देशों का करना होगा पालन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

JDU ने की कुनबा बढ़ाने की तैयारी, बोर्ड की खाली सीटों पर मंथन जारी, पार्टी करेगी विश्वासपात्रों को 'पुरस्कृत'

बिहार विधानसभा चुनाव के बाद तीसरे नंबर की पार्टी बनी जनता दल (युनाइटेड) लगातार अपने कुनबे को बढ़ाने में जुटी है। इसे लेकर ना केवल संगठन को मजबूत किया जा रहा है बल्कि पुराने रूठे दोस्तों को भी मनाने का दौर जारी है। ऐसे में जदयू अब आयोग, निगम, बोर्ड की खाली पड़ी सीटों पर अपने विश्वासपात्रों को बैठाने के मंथन में जुटी हैं। पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव के बाद से जदयू ना केवल सोशल इंजीनियरिंग दुरूस्त कर जातिगत समीकरणों को साधने में जुटी है बल्कि एक बार फिर मुस्लिम, कुशवाहा और सवर्ण समुदाय के वोटरों को साधने में जुटी है।

बताया जा रहा है कि इसी कड़ी में बहुजन समाज पार्टी के एकमात्र विधायक जमां खान को न केवल जदयू की सदस्यता ग्रहण करवाई गई, बल्कि उनको मंत्री पद भी दिया गया। इसी तरह पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) विधानसभा चुनाव में भले ही एक भी सीट नहीं जीत सकी हो लेकिन नीतीश कुमार ने कुशवाहा वोट की अहमियत को समझते हुए ना केवल रालोसपा का जदयू में विलय करवाया बल्कि पूर्व केंद्रीय मंत्री को विधान पार्षद बनाकर संसदीय दल का अध्यक्ष बना दिया।

जदयू के एक नेता का दावा है कि मुख्यमंत्री और पार्टी के पूर्व अध्यक्ष नीतीश कुमार आयोग, निगम, बोर्ड की खाली पड़ी सीटों पर ऐसे विश्वासपात्रों को बैठाने को लेकर मंथन कर रहे है, जो संगठन को मजबूत कर सके और उसके सहारे वोटबैंक को भी मजबूत किया जा सके। बिहार के पूर्व मंत्री और विधान पार्षद नीरज कुमार भी कहते हैं कि मंत्रिमंडल के गठन के बाद आयोग, निगम, बोर्ड के रिक्त पदों को भरा जाना स्वभाविक प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि राज्य में गठबंधन की सरकार है। भाजपा की तरफ से इन पदों को भरे जाने को लेकर सूची आएगी, तभी आगे कुछ होगा। उनका मानना है कि अभी कई राज्यों में चुनाव हो रहे हैं। ऐसे में इस तरह की कवायद कोई नबड़ी बात नहीं है। इसके लिए गठबंधन के लोग बैठेंगे और सूची तय हो जाएगी।

इधर, जदयू के एक नेता ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बताया कि इसके लिए जदयू में सूची तैयार की जा रही है। इस सूची में उन लोगों को तवज्जो दिया गया है जो जदयू के हर एक निर्णय में उसके साथ रहे हों साथ ही संगठन विस्तार को लेकर हमेशा काम करते रहे हैं। सूत्रों का कहना है कि पार्टी वैसे लोगों पर भी नजरें इनायत कर सकती है, जो चुनाव में टिकट नहीं मिलने के कारण पार्टी से नाखुश चल रहे हैं। बहरहाल, राजग में आयोग, बोर्ड और निगम के रिक्त पदों को लेकर एकबार फिर सियासी पारा गर्म होगा।