BREAKING NEWS

आज का राशिफल (06 जुलाई 2022)◾Jharkhand : उच्च न्यायालय ने मानहानि मामले में राहुल गांधी की याचिका खारिज करते हुए कहा ..... ◾NDA की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू 06 जुलाई को असम में राजग सांसदों, विधायकों से मिलेंगी◾Eng vs Ind 5th Test Match : इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट में भारत पर धीमी ओवरगति के लिये जुर्माना◾मैने भाजपा नेतृत्व को एकनाथ शिंदे को महाराष्ट्र सीएम बनाने का प्रस्ताव दिया था : फडणवीस◾फ्रांसीसी रक्षा कंपनी सैफरान ग्रुप हैदराबाद, बेंगलुरु में लगाएगा संयंत्र ◾ Spice Jet flight News: स्पाइस जेट विमान के विंडशील्ड में आई दरार, 17 दिन में तकनीकी खराबी की 7वीं घटना ◾Maharashtra: उद्धव का छलका दर्द! बोले- सियासी राजनीति से हुआ दुखी, अपनों ने छोड़ा साथ, जल्द करूंगा वापसी◾ भाजपा का अखिलेश पर तंज- जनाब तुम्हारी साइकिल 2024 के लोकसभा चुनाव तक नहीं पहुंच पाएगी, मुंह की खाओगे◾ BJP धमकी देती है कि हमारे पास ED है और IT है...दीवार फिल्म के मशहूर डायलॉग से केजरीवाल का भाजपा पर हमला◾Karnataka News: कर्नाटक में मौत का खैल ! मशूहर ‘सरल वास्तु’ गुरुजी की चाकू मारकर हत्या की गई◾जीएसटी को‘गब्बर सिंह टैक्स‘करार दिया..........., राहुल गांधी का केंद्र सरकार पर तीखा वार◾योगी सरकार के 100 दिन.... या अंधकार का कार्यकाल: गरीबी, बेरोजगारी और महंगाई सातवें आसमान पर, मायावती का तंज ◾ Corona News: कोलकाता में कोरोना ने फिर बढ़ाई टेंशन! 12 साल से कम उम्र के बच्चे हुए कोविड पॉजिटिव◾झारखंड : आबादी का हवाला देते हुए स्कूल में बदलवाई प्रार्थना, शिक्षा मंत्री ने दिए जांच के आदेश◾Maharashtra News: मोदी और शाह अपनी दया दृष्टि महाराष्ट्र पर बनाए रखेंगे......., बोले मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे◾ओवैसी का केंद्र पर तंज- देश में बढ़ती महंगाई का कारण मोदी नहीं मुगल, ताजमहल नहीं बनता तो पैट्रोल 40 रूपए में बिकता ◾आजम खान को नहीं मिल रही राहत, ED ने पत्नी और बेटे को पूछताछ के लिए किया तलब◾Punjab Board Result 2022: इंतजार हुआ खत्म! पंजाब बोर्ड 10वीं का रिजल्ट घोषित, देखें- चेक करने के आसान टिप्स◾जम्मू-कश्मीर में पकड़े गए लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों में से एक भाजपा का पदाधिकारी : पवन खेड़ा◾

बिहार में शुरू हुई जोड़-तोड़ की राजनीति, RLSP और JDU नेताओं की बढ़ी नजदीकियां, विलय तय!

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में अलग-अलग गठबंधनों के साथ चुनाव मैदान में उतरी राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) और जनता दल (यूनाइटेड) के साथ आने की संभावना बढ़ गई है। रालोसपा के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने इसी महीने पार्टी के राज्य परिषद की बैठक बुलाई है, जिसके बाद माना जा रहा है कि रालोसपा के जदयू में विलय की औरपचारिक घोषणा कर दी जाएगी। रालोसपा के जदयू में विलय की अटकलों के बीच सोमवार को एकबार फिर जदयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बीच चर्चा हुई है। ये दोनों नेता पटना के एक अस्पताल में साथ ही कोरोना का टीका लेने पहुंचे थे।

सूत्रों का कहना है कि दोनों नेताओं के बीच आधे घंटे तक राजनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा हुई है। इन दोनों नेताओं की बढ़ी नजदीकियों और कोरोना का टीका लेने के बाद दोनों नेताओं के बयानों से स्पष्ट है कि दोनों दल धीरे-धीरे एक-दूसरे की ओर बढ़ रहे हैं। दोनों नेताओं ने अपने-अपने बयानों में इशारा करते हुए कहा है कि दोनों कभी अलग हुए ही नहीं हैं। ऐसे में तय है कि अब रालोसपा का जदयू में विलय की केवल औपचारिकता निभाई जानी शेष है। उपेंद्र कुशवाहा के नजदीकी एक नेता ने बताया, रालोसपा के शीर्ष नेतृत्व ने जदयू के साथ पार्टी का विलय करने का मन बना लिया है। पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य परिषद की बैठक में कुछ औपचारिकताएं 13 मार्च को पूरी होंगी और इसके बाद किसी भी समय पार्टी का जदयू में विलय हो जाएगा।

बता दें कि रालोसपा प्रमुख ने 13 और 14 मार्च को पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य परिषद की एक बैठक पटना में बुलाई है, जिसमें संभावना जताई जा रही है कि भविष्य को लेकर चर्चा की जाएगी। उल्लेखनीय है कि पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव के बाद कुशवाहा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी दो बार मिल चुके हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में रालोसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी, जबकि जदयू राज्य में तीसरे नंबर की पार्टी बन गई है। जदयू नेतृत्व विधानसभा चुनाव के बाद से ही अपने कुनबे को बढ़ाने और जातीय समीकरण दुरूस्त करने में जुटी है। रालोसपा के विलय को लेकर भी जदयू कोईरी वोट को साधने में जुटी है। कहा जाता है कि कुशवाहा के अपने जातीय मतदाताओं पर अच्छी पकड़ है और जदयू के निशाने पर यही मतदाता हैं। 

रालोसपा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष संतोष कुशवाहा ने कहा, पार्टी ने 13 मार्च और 14 मार्च को पटना में अपने सभी वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई है। संभावना है कि भविष्य को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता विचार करेंगे और आगे की रणनीति तय की जाएगी। वैसे, रालोसपा प्रमुख के इस निर्णय का पार्टी में विरोध भी हो रहा है। पार्टी के प्रदेश महासचिव और पार्टी के संस्थापक सदस्य विनय कुशवाहा जदयू में विलय के मिल रहे संकेतों के बीच इसका विरोध करते हुए पार्टी छोड़कर अलग हो गए हैं।बहरहाल, तमाम अटकलों के बीच रालोसपा और जदयू के नेताओं के बीच बढ़ रही नजदीकियों से स्पष्ट है कि रालोसपा का जदयू में विलय तय है, क्योकि दोनों को एक-दूसरे की आवश्यकता हैं।