BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾विधानसभा चुनावः दिल्लीवासियों से केजरीवाल ने चार राज्यों में प्रचार के लिए मांगी मदद ◾MP में नए 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' ने दी दस्तक, इंदौर में 21 मामले आए सामने, फेफड़ों पर हो रहा संक्रमण का असर ◾राकेश टिकैत ने हिंदू-मुस्लिम और जिन्ना को बताया सरकारी मेहमान, बोले-सरकार के प्रवचन में नहीं आना◾भगवा खेमे का अभेद्य किला बनी हुई है 'गोरखपुर सीट', अखिलेश ने शिवप्रताप को दिया खुला ऑफर, जानें रणनीति ◾अखिलेश के बयान पर भाजपा ने घेरा, पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानने का लगाया आरोप ◾

बिहार में शुरू हुई जोड़-तोड़ की राजनीति, RLSP और JDU नेताओं की बढ़ी नजदीकियां, विलय तय!

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में अलग-अलग गठबंधनों के साथ चुनाव मैदान में उतरी राष्ट्रीय लोकसमता पार्टी (रालोसपा) और जनता दल (यूनाइटेड) के साथ आने की संभावना बढ़ गई है। रालोसपा के प्रमुख और पूर्व केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा ने इसी महीने पार्टी के राज्य परिषद की बैठक बुलाई है, जिसके बाद माना जा रहा है कि रालोसपा के जदयू में विलय की औरपचारिक घोषणा कर दी जाएगी। रालोसपा के जदयू में विलय की अटकलों के बीच सोमवार को एकबार फिर जदयू के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह और रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा के बीच चर्चा हुई है। ये दोनों नेता पटना के एक अस्पताल में साथ ही कोरोना का टीका लेने पहुंचे थे।

सूत्रों का कहना है कि दोनों नेताओं के बीच आधे घंटे तक राजनीतिक मुद्दों पर भी चर्चा हुई है। इन दोनों नेताओं की बढ़ी नजदीकियों और कोरोना का टीका लेने के बाद दोनों नेताओं के बयानों से स्पष्ट है कि दोनों दल धीरे-धीरे एक-दूसरे की ओर बढ़ रहे हैं। दोनों नेताओं ने अपने-अपने बयानों में इशारा करते हुए कहा है कि दोनों कभी अलग हुए ही नहीं हैं। ऐसे में तय है कि अब रालोसपा का जदयू में विलय की केवल औपचारिकता निभाई जानी शेष है। उपेंद्र कुशवाहा के नजदीकी एक नेता ने बताया, रालोसपा के शीर्ष नेतृत्व ने जदयू के साथ पार्टी का विलय करने का मन बना लिया है। पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य परिषद की बैठक में कुछ औपचारिकताएं 13 मार्च को पूरी होंगी और इसके बाद किसी भी समय पार्टी का जदयू में विलय हो जाएगा।

बता दें कि रालोसपा प्रमुख ने 13 और 14 मार्च को पार्टी की राष्ट्रीय और राज्य परिषद की एक बैठक पटना में बुलाई है, जिसमें संभावना जताई जा रही है कि भविष्य को लेकर चर्चा की जाएगी। उल्लेखनीय है कि पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव के बाद कुशवाहा बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से भी दो बार मिल चुके हैं। पिछले विधानसभा चुनाव में रालोसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी, जबकि जदयू राज्य में तीसरे नंबर की पार्टी बन गई है। जदयू नेतृत्व विधानसभा चुनाव के बाद से ही अपने कुनबे को बढ़ाने और जातीय समीकरण दुरूस्त करने में जुटी है। रालोसपा के विलय को लेकर भी जदयू कोईरी वोट को साधने में जुटी है। कहा जाता है कि कुशवाहा के अपने जातीय मतदाताओं पर अच्छी पकड़ है और जदयू के निशाने पर यही मतदाता हैं। 

रालोसपा के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष संतोष कुशवाहा ने कहा, पार्टी ने 13 मार्च और 14 मार्च को पटना में अपने सभी वरिष्ठ नेताओं की बैठक बुलाई है। संभावना है कि भविष्य को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेता विचार करेंगे और आगे की रणनीति तय की जाएगी। वैसे, रालोसपा प्रमुख के इस निर्णय का पार्टी में विरोध भी हो रहा है। पार्टी के प्रदेश महासचिव और पार्टी के संस्थापक सदस्य विनय कुशवाहा जदयू में विलय के मिल रहे संकेतों के बीच इसका विरोध करते हुए पार्टी छोड़कर अलग हो गए हैं।बहरहाल, तमाम अटकलों के बीच रालोसपा और जदयू के नेताओं के बीच बढ़ रही नजदीकियों से स्पष्ट है कि रालोसपा का जदयू में विलय तय है, क्योकि दोनों को एक-दूसरे की आवश्यकता हैं।