BREAKING NEWS

'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के लिए नेताओं के विवादित बयान ◾UP: विधानसभा Election को सियासी धार देने के लिए BJP करेगी छह चुनावी यात्राएं, ये वरिष्ठ नेता होंगे सम्मिलित ◾UP चुनाव को लेकर मायावती खेल रही जातिवाद का दांव, BJP पर लगाए मुसलमानों के उत्पीड़न जैसे कई आरोप ◾12 सांसदों के निलंबन पर राहुल का ट्वीट, 'किस बात की माफी, संसद में जनता की बात उठाने की' ◾ओमीक्रॉन को लेकर केंद्र ने अपनाया सख्त रवैया, सभी राज्यों को दिए जांच बढ़ाने समेत कई निर्देश, जानें क्या कहा ◾राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने ठुकराया 12 सांसदों का निलंबन रद्द करने का अनुरोध ◾

100 करोड़ टीकाकरण को पूरा कर मोदी सरकार रचेगी इतिहास, PM ने बदला ‘स्पीड-स्केल’ का सिद्धांत : ऋतुराज सिन्हा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार अगले एक-दो दिनों में कोरोना महामारी के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान के तहत 100 करोड़ भारतीयों को डोज लगाकर इतिहास रचने वाली है। ऐसे में भाजपा के युवा राष्ट्रीय नेता ऋतुराज सिन्हा ने केंद्र सरकार के इस ऐतिहासिक कृतिमान पर कहा कि मोदी सरकार की कार्यशैली का अध्ययन करने पर एक बात तो स्पष्ट ध्यान आती है कि ये चैलेंज लेने वाली सरकार है। ये बड़े लक्ष्य  तय कर के रिजल्ट का रिपोर्ट कार्ड देने वाली सरकार है। जहां एक टीका बनाने में 9-10 साल लगते थे, भारत ने महज नौ महीने में ही दो-दो स्वदेशी वैक्सीन का ईजाद कर दिया। 

भारत 100 करोड़ टीके लगाने के कीर्तिमान स्थापित करने के दहलीज पर है तो  इसकी सबसे बड़ी वजह है- आत्मविश्वास, और इस आत्मविश्वास का आधार बना है भारत और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रूप में उसका मौजूदा नेतृत्व जो चुनौतियों और समस्याओं से टकराने में विश्वास रखता है। ऋतुराज सिन्हा ने कहा कि जब 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई तब विशेषज्ञ यह बता रहे थे कि सिर्फ फ्रंटलाइन वर्कर्स तक ही पहुंचने में 8-9 महीने का समय लग जाएगा। लेकिन इतने ही समय में भारत ने 70 फीसदी से अधिक आबादी तक वैक्सीन को पहुंचा दिया है। 

देश को सुरक्षित करने का संकल्प और उसे पूरा करने का आत्मविश्वास इतना मजबूत था कि 10 करोड़ टीके लगने के बाद अगले पांच महीनों में टीकाकरण की गति छह गुना से भी अधिक बढ़ गई और यह दुनिया का सबसे तेज व सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान बन गया। ये माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदृष्टी और उनके कृतसंकल्प का परिणाम था। भाजपा नेता ऋतुराज सिन्हा ने आगे कहा कि इस कृतसंकल्प को पूरा करने में बिहार ने अपनी महती भुमिका निभाई है। बिहार की जनसंख्या भारत कुल जनसंख्या का 8.58% है। बिहार भारत का तीसरा सर्वाधिक जनसंख्या वाला राज्य है और क्षेत्रफल के मुताबिक देश में 13वां स्थान है। 

9 अक्टूबर तक प्रदेश में कुल 6,02,30,322 व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन दिया जा चुका है। इससे पहले, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन के मौके पर 17 सितंबर को बिहार ने एक नया रिकार्ड बनाया था। इस दिन 30 लाख 67 हजार 918 लोगों का टीकाकरण कर बिहार ने नया स्वर्णिम अध्याय लिखा है और देश में बिहार प्रथम स्थान पर है। अब इस साल के दिसम्बर तक 8 करोड़ का लक्ष्य रखा गया है। ऋतुराज सिन्हा ने पुरानी सरकारों पर तंज कसते हुए कहा कि पिछले 50-60 साल का इतिहास देखा जाए तो पता चलेगा कि भारत को विदेशों से वैक्सीन प्राप्त करने में दशकों लग जाते थे। 2014 में भारत में वैक्सीनेशन कवरेज 60 फीसदी तक था। 

जिस रफ्तार से टीकाकरण चल रहा था उससे 100 फीसदी कवरेज हासिल करने में 40 साल और लग जाते। लेकिन केंद्र सरकार के मिशन मोड में चले ‘इंद्रधनुष’ जैसे अभियान से सिर्फ 5-6 साल में ही वैक्सीनेशन कवरेज 60 से बढ़कर 90 फीसदी से भी ज्यादा हो गई। यानी आजादी के बाद लंबे समय तक जो सरकार चल रही थी उस पर “सौ दिन चले, ढाई कोस” वाली कहावत चरितार्थ होती थी। लेकिन, प्रधानमंत्री मोदी ने इस कहावत को अपने ‘स्पीड-स्केल’ के सिद्धांत से पूरी तरह बदल दिया है। इस टीकाकरण के महाअभियान ने बता दिया है कि अब नया भारत सौ दिन में ढ़ाई कोस नहीं, बल्कि ढ़ाई दिन में सौ कोस चलने की क्षमता रखता है।