BREAKING NEWS

महंगाई : महीने की शुरुआत में कॉमर्श‍ियल सिलेंडर की कीमतों में हुआ इजाफा, रेस्टोरेंट का खाना हो सकता है मंहगा◾UPTET 2021 पेपर लीक मामले में परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय उपाध्याय गिरफ्तार◾कोरोना के नए वेरिएंट के बीच भारतीय एयरलाइन कंपनियों ने दोगुनी की कीमतें, जानिए कितना देना होगा किराया ◾IPL नीलामी से पहले कोहली, रोहित, धोनी रिटेन ; दिल्ली की कमान संभालेंगे ऋषभ पंत, पढ़ें रिटेंशन की पूरी लिस्ट ◾गृह मंत्री अमित शाह दो दिन के राजस्थान दौरे पर जाएंगे, BSF जवानों की करेंगे हौसला अफजाई◾पंजाबः AAP नेता चड्ढा ने सभी राजनीतिक दलों पर लगाया आरोप, कहा- विधानसभा चुनाव में केजरीवाल बनाम सभी पार्टी होगा◾'ओमिक्रॉन' के बढ़ते खतरे के बीच क्या भारत में लगेगी बूस्टर डोज! सरकार ने दिया ये जवाब ◾2021 में पेट्रोल-डीजल से मिलने वाला उत्पाद शुल्क कलेक्शन हुआ दोगुना, सरकार ने राज्यसभा में दी जानकारी ◾केंद्र सरकार ने MSP समेत दूसरे मुद्दों पर बातचीत के लिए SKM से मांगे प्रतिनिधियों के 5 नाम◾क्या कमर तोड़ महंगाई से अब मिलेगाी निजात? दूसरी तिमाही में 8.4% रही GDP ग्रोथ ◾उमर अब्दुल्ला का BJP पर आरोप, बोले- सरकार ने NC की कमजोरी का फायदा उठाकर J&K से धारा 370 हटाई◾LAC पर तैनात किए गए 4 इजरायली हेरॉन ड्रोन, अब चीन की हर हरकत पर होगी भारतीय सेना की नजर ◾Omicron वेरिएंट को लेकर दिल्ली सरकार हुई सतर्क, सीएम केजरीवाल ने बताई कितनी है तैयारी◾NIA की हिरासत मेरे जीवन का सबसे ‘दर्दनाक समय’, मैं अब भी सदमे में हूं : सचिन वाजे ◾भाजपा की चिंता बढ़ा सकता है ममता का मुंबई दौरा, शरद पवार संग बैठक के अलावा ये है दीदी का प्लान ◾ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे पर गृह मंत्रालय का एक्शन - कोविड प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स 31 दिसंबर तक बढा़ई ◾निलंबन वापसी पर केंद्र करेगी विपक्ष से बात, विधायी कामकाज कल तक टालने का रखा गया प्रस्ताव, जानें वजह ◾राहुल के ट्वीट पर पीयूष गोयल ने निशाना साधते हुए पूछा तीखा सवाल, खड़गे द्वारा लगाए गए आरोपों की कड़ी निंदा की ◾कश्मीर में सामान्य स्थिति लाने के लिए बहाल करनी होगी धारा 370 : फारूक अब्दुल्ला◾स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने बताया - भारत में अब तक ओमिक्रॉन वेरिएंट का कोई मामला नहीं मिला◾

अपारदर्शी और अदूरदर्शिता का मिश्रण था प्रधानमंत्री का वक्तव्य:मंजूबाला

 पटना, (पंजाब केसरी) : महिला कांग्रेस की पूर्व उपाध्यक्ष  मंजूबाला पाठक ने कहा कि कांग्रेस के  महत्वपूर्ण सुझाव के बाद प्रधानमंत्री का पैकेज की घोषणा करना स्वागत योग्य कदम है, फिर भी प्रधानमंत्री का अपारदर्शी घोषणा बहुत बड़ा भ्रम पैदा करता है। 2019-20 बजट के अनुसार देश का कुल बजट ही जब 27.86 लाख करोड़ का है, उसमें से 20 लाख करोड़ का पैकेज देना बहुत बड़ा भ्रम फैलाता है। मोदी जी को समय सीमा भी बताना चाहिए था कि ये 20 लाख करोड़ का पैकेज कितने वर्षों तक बंटेगा और  कैसे ये आम जनमानस तक पहुंचेगा। इसके अलावा कितने विभागों के पूर्व में खर्च हो चुके बजट को इसमें जोड़ा गया है। भारत की जनता आशा भरी नजरो से मोदी जी की तरफ  देख रही थी ऐसे में अपारदर्शी घोषणाओं से जनता को भरमाना प्रधानमंत्री पद को शोभा नहीं देता।  इसके अलावा उन्होंने कहा कि  कोरोना महामारी के समय भी प्रधानमंत्री सिर्फ  सस्ती राजनीति ही कर रहे है।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  जनता के मन मस्तिष्क के साथ खेलने का काम कर रहें हैं।  नरेंद्र मोदी ने गरीबों-मजदूरों तथा कोरोना के आपदा के शिकार कमजोर वर्ग के लोगों के लिए कुछ भी स्पष्ट तौर पर नहीं कहा उन्होंने ये भी साफ  नही किया कि मजदूरों को कैसे उनके घर पहुंचाया जाएगा। कैसे उनके रोजी रोटी की व्यवस्था की जाएगी। इसके अलावा लॉकडाउन के अलावा कोरोना से लडऩे के लिए उनकी सरकार और क्या प्रयास कर रही है। अगर राज्य सरकारों पर ही लॉकडाउन का फैसला छोडऩा था तो ये तीन चरणों मे राज्य की सरकारों से ब्लू प्रिंट तैयार क्यों नही कराया गया बिहार की सरकार तो खुद ही भृम में है। अब बिहार सरकार को अपने  मजदूरों के एकाउंट में पैसे डालने चाहिए जिससे उनके जीवन का वहन हो सके।