BREAKING NEWS

दिल्ली सरकार ने जारी किया बुलेटिन ; दिल्ली में बचा है कोविड टीके का आठ दिन का स्टॉक◾महाराष्ट्र में कोरोना वायरस के 3,586 नए मामले आए सामने , 67 लोगों की हुई मौत◾टीके लेने वाले यात्रियों के लिए ब्रिटेन ने नियमों में छूट दी, भारत-ब्रिटेन मार्ग पर भी कुछ छूट◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 71 साल के हुए ; देश-विदेश के नेताओं ने दीं शुभकामनाएँ◾कोविड टीकाकरण में बना विश्व रिकॉर्ड, एक दिन में लगे सवा दो करोड़ से ज्यादा टीके◾उप्र में पांच साल में बेरोजगारी दर 17 प्रतिशत से घटकर चार-पांच प्रतिशत रह गई : योगी◾जीएसटी काउंसिल बैठक: कई दवाईयां GST मुक्त, पेट्रोल-डीजल पर लिया ये फैसला◾बिना समझौते के बनी तालिबान सरकार, दुनिया सोच-समझकर फैसला ले : PM मोदी◾बंटवारे के समय बरती जाती सावधानियां तो करतापुर साहिब पाकिस्तान में नहीं भारत में होता: राजनाथ सिंह ◾शोएब ने न्यूजीलैंड पर खेल की हत्या करने का लगाया आरोप, बाबर आजम बोले- श्रृंखला रद्द होने से निराश हूं◾प्रियंका की यूपी सरकार से मांग, कहा- मूसलाधार बारिश से नुकसान झेलने वाले किसानों को मिले मुआवजा◾नितिन गडकरी हर महीने यूट्यूब से चार लाख रुपये कमा रहे, बताया कैसे मिल रहा फायदा◾दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 33 नए मामले सामने आए, 56 लोग ठीक हुए और 1 की मौत◾स्मृति ईरानी का कांग्रेस पर तंज, कहा- उन्होंने कभी अमेठी का भला नहीं किया ◾अब्बास नकवी ने विपक्ष पर साधा निशाना, कहा- UP में अपराधियों की हिरासत” बनाम “अपराध की हिफाज़त” बड़ा मुद्दा◾न्यूजीलैंड ने की पाकिस्तान की फजीहत, मैच से ठीक पहले कीवी टीम ने रद्द किया दौरा◾बिहार चुनाव में EVM और DM ने की बेईमानी, UP में रहना होगा सावधान : अखिलेश यादव◾PM मोदी के जन्मदिन को लेकर कांग्रेस का तंज- कौन सी उपलब्धि का मनाया जाए जश्न ◾PM मोदी के जन्मदिन पर मेगा वैक्सीनेशन अभियान, दोपहर तक लगी 1 करोड़ से ज्यादा डोज ◾सचिन वाजे का खुलासा- तबादले के आदेश रुकवाने के लिए देशमुख और अनिल परब को मिले 40 करोड़ रुपए ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पेट्रोल-डीजल को क्यों GST में नहीं डाला जा सकता? सुशील मोदी ने राज्यसभा में बताया कारण

राज्यसभा में बुधवार को वित्त विधेयक 2021 पर बहस करते हुए भाजपा सांसद सुशील मोदी ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में न डाले जाने के पीछे के कारण को स्पष्ट किया। उन्होंने बताया कि अगले आठ से दस वर्षों तक अभी पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में नहीं डाला जा सकता।

सुशील मोदी ने आरोप लगाया कि विपक्ष के नेता जीएसटी का बाहर तो खूब विरोध करते हैं, लेकिन, जब जीएसटी काउंसिल की बैठक होती है तो एक भी मुख्यमंत्री या वित्तमंत्री ने इसके स्ट्रक्च र का कभी विरोध नहीं किया। भाजपा सांसद सुशील मोदी ने कहा कि अगर डीजल-पेट्रोल से होने वाली आमदनी को देश के विकास में खर्च किया जा रहा है तो फिर दिक्कत क्या है? सुशील मोदी ने बताया कि सौ रुपये का पेट्रोल-डीजल है तो 60 रुपये टैक्स मिलता है। जिसमें 35 रुपया केंद्र को मिलता और 25 रुपये स्टेट को मिलता है।

भाजपा के राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने बुधवार को सदन में कहा, "बार-बार एक बात आती है कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में डाल दिया जाए। अगर जीएसटी में पेट्रो उत्पादों को डाल दिया गया तो राज्यों को हर साल दो से ढाई लाख करोड़ से ज्यादा के नुकसान की भरपाई कहां से होगी? पेट्रोल-डीजल से केंद्र और राज्यों को करीब 60 प्रतिशत रेवेन्यू और लगभग पांच लाख करोड़ रुपये प्रति वर्ष मिलते हैं।"

उन्होंने बताया कि जीएसटी की उच्चतम दर 28 प्रतिशत है, जबकि अभी पेट्रोल-डीजल पर 60 प्रतिशत टैक्स लिया जा रहा है। ऐसे में अगर पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में डाल दिया गया तो दो से ढाई लाख करोड़ की भरपाई कहां होगी? सुशील मोदी ने बताया कि जीएसटी में डाल देने से सौ रुपये के पेट्रोल-डीजल पर केंद्र और राज्य को केवल 12 रुपये टैक्स प्राप्त होगा। इस प्रकार 48 रुपये का जो नुकसान होगा, उसकी भरपाई कहां से होगी? 

भाजपा सांसद सुशील मोदी ने कहा, "कांग्रेस या बीजेपी की सरकार हो, कोई सरकार ढाई लाख करोड़ रुपये नुकसान की भरपाई करने को तैयार नहीं है। यह संभव नहीं है कि आने वाले 8-10 साल साल में पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में डाला जा सके।"

सुशील मोदी ने जीएसटी का विरोध करने पर विपक्ष पर निशाना भी साधा। उन्होंने कहा, "कुछ लोग जीएसटी को गब्बर सिंह टैक्स कहकर खिल्ली उड़ाते हैं। हिम्मत है तो जीएसटी काउंसिल की बैठक में इसका विरोध करें। जहां सभी राज्यों के लोग आते हैं। अब तक जीएसटी काउंसिल की बैठक में किसी सीएम, वित्त मंत्री ने इसके स्ट्रक्च र का विरोध नहीं किया है। जीएसटी लागू करने के लिए नरेंद्र मोदी जैसी हिम्मत चाहिए।"

जीएसटी के फायदे गिनाते हुए सुशील मोदी ने राज्यसभा में कहा कि आज बॉर्डर पर कोई चेक पोस्ट नहीं है। टाइम सेविंग हुई है। जीएसटी लागू होने के दौरान विपक्ष ने बहुत विरोध किया था। कनाडा का उदाहरण देते हुए कहा गया कि वहां 1992 में जीएसटी लागू होने का विपक्ष ने खूब विरोध किया था और चुनाव होने पर सत्ताधारी दल हार गया था। कहा गया था कि नरेंद्र मोदी सरकार को ऐसा भुगतना पड़ेगा। लेकिन, जीएसटी के बाद हुए चुनाव में मोदी सरकार और प्रचंड बहुमत से लौट आई। सूरत में जहां जीएसटी का सबसे ज्यादा विरोध हुआ, वहां कांग्रेस एक सीट भी जीत नहीं पाई।

लालू परिवार के निशाने पर आए नीतीश, राबड़ी बोलीं- सत्ता आनी-जानी है लेकिन इतिहास तुम्हें कभी क्षमा नहीं करेगा