BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर सीएम नीतीश के सुशासन पर बोला हमला

लोकसभा चुनाव में राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की करारी हार के बाद से ही सक्रिय राजनीति से दूर रहे राजद नेता तेजस्वी यादव पटना लौटते ही एक्शन में आ गए हैं। उन्होंने शुक्रवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन पर हमला बोला है।

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कथित 'सुशासन' पर कटाक्ष करते हुए शुक्रवार को ट्वीट किया, "आदरणीय मुख्यमंत्री नीतीश जी, आप जानते हैं कि नहीं, 14 वर्ष से आपके अधीन बिहार पुलिस की न बंदूक चलती है और न जीप ही। अपराध खत्म करने की चिंता किसे है? जब पुलिस जानती है कि हमारे सीएम साहब और उनकी टोली के जुबानी सुशासनी हमले इतने तेज हैं कि उन्हीं से अपराधी थर-थर कांप जाते हैं।" 

गौरतलब है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्र की अंत्येष्टि के दौरान जब राज्य पुलिस के जवानों ने उन्हें बंदूकों की सलामी देनी चाही तो उनकी एक भी बंदूक चल नहीं पाई थी। तेजस्वी उसी का यहां जिक्र कर रहे थे। तेजस्वी यादव पूरे एक्शन में आ गए हैं, और एक बार फिर पार्टी में जान फूंकने में जुट गए हैं। इस संबंध में पार्टी की एक बैठक रविवार को बुलाई गई है, जिसमें तेजस्वी हिस्सा लेने वाले हैं। 

राजद प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने शुक्रवार को कहा, "25 अगस्त को पार्टी की बैठक बुलाई गई है, जिसमें पार्टी द्वारा चलाए रहे सदस्यता अभियान की समीक्षा की जाएगी। तेजस्वी यादव इसमें हिस्सा लेंगे।" तिवारी ने कहा कि पार्टी नेता तेजस्वी यादव कुछ निजी कामों से बाहर थे, परंतु उनके दिशानिर्देश पर ही पार्टी कार्य कर रही थी। 

सूत्रों के अनुसार, 25 अगस्त को बुलाई गई राजद विधायकों और प्रदेश पदाधिकारियों की बैठक में न केवल सांगठनिक चुनाव पर चर्चा की जानी है, बल्कि पार्टी की आगे की रणनीति भी तय की जानी है। उक्त बैठक पार्टी के राष्ट्रीय चुनाव पदाधिकारी जगदानंद सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर बुलाई है। 

गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के बाद से तेजस्वी यादव लगातार सक्रिय राजनीति से दूर थे। वह राजद के कार्यक्रमों में भी हिस्सा नहीं ले रहे थे। वह विधानसभा के मॉनसून सत्र में दो दिन सदन में जरूर उपस्थित हुए थे, परंतु किसी भी वाद-विवाद में हिस्सा नहीं लिए थे। जबकि वह सदन में नेता प्रतिपक्ष हैं। 

इस बीच, मंगलवार रात पटना लौटे तेजस्वी बुधवार को ही एक्शन में आ गए। उन्होंने अपने बड़े भाई तेज प्रताप यादव और राजद नेताओं के साथ पटना रेलवे स्टेशन के पास अतिक्रमण हटाओ अभियान के तहत दूध मार्केट तोड़े जाने के खिलाफ प्रदर्शन किया और करीब छह घंटे तक धरने पर बैठे रहे। 

उजाड़े गए दूध व्यवसायियों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था किए जाने के प्रशासन के आश्वासन के बाद ही तेजस्वी धरने से उठे। तेजस्वी की सक्रियता से ऐसा लगता है कि राजद चुनावी मोड में आ गया है। गौरतलब है कि अगले वर्ष होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव के लिए राजद ने तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार पहले ही घोषित कर रखा है। अब राजद के कुछ विधायक तेजस्वी को राजद का अध्यक्ष बनाना चाहते हैं।