BREAKING NEWS

विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾

व्यापार

NBFC को नकदी संकट से मिलेगी राहत

मुंबई : भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) को नकदी संकट के समय राहत दिलाने के लिये एक जाखिम प्रबंधन मसौदा जारी किया है। रिजर्व बैंक की योजना है कि बड़ी एनबीएफसी कंपनियां सरकारी बॉन्ड या जमा योजनाओं में निवेश करें ताकि नकदी संकट के समय एक माह के भुगतान के लिये उनके पास पर्याप्त पूंजी उपलब्ध हो। आरबीआई ने शुक्रवार को एनबीएफसी के लिए नकदी जोखिम प्रबंधन रूपरेखा का मसौदा जारी किया है। केंद्रीय बैंक की ओर से यह कदम ऐसे समय उठाया गया है कि जब कई बड़ी एनबीएफसी कंपनियां नकदी संकट से जूझ रही हैं। जिसके चलते उन्हें कोष जुटाने के लिये भारी मशक्कत करनी पड़ रही है। 

प्रस्ताव के मुताबिक 5,000 करोड़ रुपये और उससे अधिक परिसंपत्ति की जमा राशि स्वीकार करने वाले सभी एनबीएफसी और ऐसे वित्तीय संस्थान जो जमा स्वीकार नहीं करते हैं उन सभी के लिये एक तरलता कवरेज अनुपात (एलसीआर) व्यवस्था लागू की जायेगी। यह व्यवस्था चरणबद्ध तरीके से लागू होगी। एलसीआर व्यवस्था को चार साल की अवधि में आगे बढ़ाया जायेगा। 

वित्तीय कंपनियों में अप्रैल, 2020 से अप्रैल, 2024 के दौरान इसे क्रियान्वित किया जाएगा। एलसीआर दिशानिर्देशों के तहत, वित्तीय कंपनियों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनकी उधारी मोटे तौर पर उनके कर्ज की परिपक्वता से मेल खाती हो। मसौदे में कहा गया है कि एनबीएफसी को चरणबद्ध तरीके से अपनी पूंजी में 'उच्च गुणवत्ता की नकदी परिसंपत्तियों' का हिस्सा बरकरार रखना होगा।