BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा: पिंक लाइन पर पांच मेट्रो स्टेशन बंद, चार स्टेशनों को खोला गया◾गाइड के कहने पर ताजमहल में पत्नी मेलानिया का हाथ थामकर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने की चहलकदमी◾कोर्ट ने उपमुख्यमंत्री सिसोदिया को क्लीनचिट देने वाली एटीआर की खारिज, नयी रिपोर्ट दाखिल करने के दिए निर्देश ◾राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सम्मान में आयोजित भोज में शामिल नहीं होंगे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह◾T20 महिला विश्व कप : भारत ने बांग्लादेश को 18 रन से हराया, लगातार दूसरी जीत दर्ज की ◾TOP 20 NEWS 24 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ताजमहल का दीदार करके दिल्ली पहुंचे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप◾महाराष्ट्र : मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे बोले- गठबंधन के भागीदारों के बीच कोई मतभेद नहीं◾जाफराबाद में CAA को लेकर पथराव, गाड़ियों में लगाई गई आग, एक पुलिसकर्मी की मौत◾मोटेरा स्टेडियम में दिखी ट्रंप और मोदी की दोस्ती, दोनों दिग्गज ने एक-दूसरे की तारीफ में पढ़ें कसीदे ◾दिल्ली के मौजपुर में लगातार दूसरे दिन CAA समर्थक एवं विरोधी समूहों के बीच झड़प ◾CM केजरीवाल और मनीष सिसोदिया ने दिल्ली विधानसभा की सदस्यता की शपथ ली◾ट्रम्प के स्वागत में अहमदाबाद तैयार, छाए भारत-अमेरिकी संबंधों वाले इश्तेहार◾दिल्ली और झारखंड में BJP विधानमंडल दल के नेता का आज होगा ऐलान ◾जाफराबाद में CAA को लेकर हुई पत्थरबाजी के बाद इलाके में तनाव, मेट्रो स्टेशन बंद◾Modi सरकार ने पद्म सम्मान के लिये ‘गुमनाम’ चेहरे खोजे : केंद्रीय मंत्री◾अब कुछ ही घंटो में भारत यात्रा के लिए अहमदाबाद पहुंचेंगे अमेरिकी राष्ट्रपति Trump , मोदी को बताया दोस्त◾मेलानिया का स्वागत करके खुशी होती, हमने अमेरिकी दूतावास की चिंताओं का किया सम्मान : मनीष सिसोदिया◾Trump की भारत यात्रा से किसी महत्वपूर्ण परिणाम के सकारात्मक संकेत नहीं हैं : कांग्रेस◾US राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत के लिए रवाना, कल सुबह 11.55 बजे पहुंचेंगे अहमदाबाद, जानिए ! पूरा कार्यक्रम◾

2018 में बढ़गी जीडीपी की वृद्धि दर, कच्चा तेल, मुद्रास्फीति दे सकते हैं झटका

नोटबंदी और माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की वजह से पैदा हुई अड़चनें अब धीरे-धीरे दूर हो रही हैं। ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि नए साल 2018 में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर रफ्तार पकड़ सकती है। हालांकि, कच्चे तेल के दाम और बढ़ती मुद्रास्फीति इस मोर्चे पर झटका भी दे सकते हैं। बहुत से लोगों का मानना है कि 2017 को भूल जाना ही बेहतर है क्योंकि इस साल नोटबंदी और जीएसटी की वजह से अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित रही। एक अनुमान के हिसाब से जीडीपी में दो प्रतिशत का नुकसान हुआ है। यह 2016-17 के 152.51 लाख करोड़ रुपये के जीडीपी के हिसाब से 3.05 लाख करोड़ रुपये बैठता है। हालांकि, यह भी माना जा रहा है कि बुरा समय अब बीत चुका है और सुधार के संकेत मिलने लगे हैं।

वित्त वर्ष 2015-16 की चौथी तिमाही में नौ प्रतिशत से नीचे आने बाद से लगातार पांच तिमाहियों तक जीडीपी की वृद्धि दर में गिरावट आई और यह 2017-18 की पहली तिमाही में 5.7 प्रतिशत के निचले स्तर पर आ गई। हालांकि जुलाई-सितंबर की तिमाही में यह बढ़कर 6.3 प्रतिशत रही। जीडीपी की वृद्धि दर के अलावा निर्यात के मोर्चे पर उत्साहजनक नतीजे दिख रहे हैं। निर्यात वृद्धि सकारात्मक रही है, जबकि आयात वृद्धि घटी है। नरेंद, मोदी सरकार ने 8 नवंबर, 2016 को बड़ मूल्य के नोट बंद करने के फैसले के बाद एक जुलाई, 2017 से जीएसटी लागू कर दिया है। इसके अलावा दिवाला एवं शोधन अक्षमता संहिता जैसे और सुधार भी किए हैं। साथ ही सरकार ने सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में पूंजी डालने की घोषणा की है जिससे उनके बही खाते को सुधारा जा सके और कृषि क्षेत्र की आमदनी बढ़ने पर काम किया जा सके। बीते साल नवंबर में मूडीज ने भारत की सावरेन रेटिंग को सुधार कर स्थिर परिदृश्य के साथ बीएए2 किया है। वहीं विश्व बैंक की कारोबार सुगमता रैंकिंग में भारत की स्थिति 30 पायदान सुधरी है।

स्टैंडर्ड चार्टर्ड ने अपनी आर्थिक परिदृश्य 2018 रिपोर्ट में कहा है कि जीडीपी के लिए बुरा समय बीत चुका है। हमारा अनुमान है कि अगली चार से छह तिमाहियों में वृद्धि दर सामान्य हो जाएगी। नोमूरा ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था में जनवरी-मार्च तिमाही में जोरदार सुधार की उम्मीद है। 2018 में जीडीपी की वृद्धि दर करीब 7.5 प्रतिशत रहेगी। हालांकि, बहुत से विश्लेषकों का मानना है कि भारत की वृद्धि दर को फिर से 7.5 प्रतिशत पर पहुंचने में कुछ साल लगेंगे। मार्च, 2016 में समाप्त साल में वृद्धि दर 7.9 प्रतिशत रही थी। इसकी वजह यह है कि निजी निवेश में सुधार में समय लगेगा। कच्चे तेल की कीमतों की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका होगी। पिछले तीन माह में कच्चे तेल के दाम 28 प्रतिशत बढ़कर 52.3 डॉलर प्रति बैरल से 67 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गए हैं। मुद्रास्फीति के भी तय दायरे से रूपर रहने की संभावना है। कच्चे तेल के रूंचे दाम भी मुद्रास्फीति को बढ़एंगे।

अधिक लेटेस्ट खबरों के लिए यहां क्लिक  करें।