BREAKING NEWS

नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾हिंद महासागर में दिखा चीनी युद्धपोत जियान-32, अलर्ट पर भारतीय नौसेना◾कश्मीर में स्थिति सामान्य करने के लिए हरसंभव प्रयास करें केंद्र : सुप्रीम कोर्ट◾SC ने फारूक अब्दुल्ला को पेश करने संबंधी याचिका पर केंद्र को जारी किया नोटिस ◾जन्मदिन पर चिदंबरम को बेटे कार्ति का पत्र, लिखा-कोई 56 इंच वाला आपको रोक नहीं सकता◾Howdy Modi कार्यक्रम में शामिल होने के ट्रंप के फैसले की PM ने की प्रशंसा, ट्वीट कर कही यह बात◾अयोध्या विवाद में सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्वाणी अखाड़े ने सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थता पैनल को लिखा पत्र◾पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम तिहाड़ जेल में मनाएंगे अपना 74वां जन्मदिन◾‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम में शामिल होंगे ट्रम्प, भारतीय-अमेरिकी लोगों को एक साथ करेंगे संबोधित◾पुंछ: पाकिस्तान ने फिर किया संघर्ष विराम का उल्लंघन, तीन जवान घायल◾अखिलेश यादव बोले- तानाशाही से सरकार चलाकर अपना लोकतंत्र चला रही है भाजपा◾शरद पवार ने NCP छोड़ने वाले नेताओं को बताया ‘कायर’◾

व्यापार

IL&FS घोटाला : डेलॉयट, बीएसआर पर प्रतिबंध की अपील

मुंबई : कॉरपोरेट मामलों के मंत्रालय ने आईएलएंडएफएस फाइनेंशियल सर्विसेज की आडिटर डेलायट हास्किंस एंड सेल्स तथा बीएसआर एसोसिएट्स पर पांच साल तक आडिट करने पर प्रतिबंध के आग्रह को लेकर राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) में नई अपील की है। 

साथ ही मंत्रालय ने संकट में फंसी कंपनी के लिए नए आडिटर की नियुक्ति का भी आग्रह किया है। आईएलएंडएफएस फाइनेंशियल सर्विसेज संकटग्रस्त आईएलएंडएफएस समूह की 348 अनुषंगियों में से एक है। समूह पर ऋणदाताओं का 95,000 करोड़ रुपये का बकाया है। पिछले साल सितंबर को समूह की कई अनुषंगियों ने डिफाल्ट किया जिससे उसका संकट शुरू हुआ। 

उसी साल एक अक्टूबर को सरकार ने कंपनी के बोर्ड को भंग कर उसका नियंत्रण अपने हाथ में ले लिया। मंत्रालय ने अपनी अपील वरिष्ठ अधिवक्ता संजय शोरे के माध्यम से दायर की हैं मंत्रालय ने डेलॉयट के उद्यन सेन और बीएसआर के कल्पेश मेहता तथा संपत गणेश को प्रतिवादी भी बनाया है क्योंकि कंपनी की आडिट रिपोर्ट पर इन्हीं लोगों के हस्ताक्षर हैं।