BREAKING NEWS

LIVE: BJP मुख्यालय लाया गया अरुण जेटली का पार्थिव शरीर, राजनाथ-शाह समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾

व्यापार

धन की कमी रोजगार निर्माण में प्रमुख चुनौती : सुभाष गर्ग

नई दिल्ली : तेज आर्थिक प्रगति बिना नौकरियों के सृजन के हाासिल नहीं की जा सकती। आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग ने यह बात कही और कहा कि देश में वास्तव में पूंजी की कमी नौकरियों की कमी से कहीं ज्यादा है। सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि हालांकि ज्यादातर भारतीयों के पास नौकरी है और वे कुछ ना कुछ कमा रहे हैं, लेकिन समस्या यह है कि उनमें से कई काफी कम मजदूरी प्राप्त कर रहे हैं या फिर उन्हें उनकी योग्यता से कम का काम मिला है।

सुभाष चंद्र गर्ग ने कहा कि हमारे पास पूंजी की अधिकता न होने की वजह से हम रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने में सक्षम नहीं हैं। सरकार 3.5 लाख करोड़ की राशि पूंजीगत व्यय में निवेश कर चुकी है, अगर हमारे पास पैसा होता तो हम और भी निवेश कर सकते थे। उन्होंने कहा कि रोजगार सृजन आर्थिक गतिविधि से संबंधित है।

उत्पाद और सेवाओं में वृद्धि होने से रोजगार के अवसरों में भी बढ़ोतरी होगी जिससे आर्थिक प्रगति होगी। ऐसे में देश में निवेश कार्यक्रमों में वृद्धि को सरकार सुनिश्चित करे। उन्होंने कहा कि गांवों में सरकार द्वारा तमाम कार्यक्रमों में निवेश किया गया है जिनमें प्रधानमंत्री आवास योजना एक है।

इन योजनाओं के तहत करोड़ों की संख्या में घरों का निर्माण किया जा रहा है, कच्ची सड़कों की जगह पक्के रोड बनाए जा रहे हैं, राष्ट्रीय राजमार्ग बन रहे हैं। ईंधन वितरण और एलपीजी कनेक्शन से संबंधित भी कई योजनाएं बनाई गई हैं।