BREAKING NEWS

राजस्थान : कांग्रेस विधायक दल की दूसरी बैठक आज, सचिन पायलट को किया आमंत्रित ◾नेपाल के पीएम ओली का बेतुका बयान, कहा - भगवान राम नेपाली है और भारत की अयोध्या है नकली◾दिल्ली में कोरोना का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1.13 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 1,246 नए केस◾राजस्थान में जारी सियासी उठापटक पर भाजपा ने कहा- विधायकों की गिनती के लिए सड़क या होटल नहीं, विधानसभा उपयुक्त स्थान ◾महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 2.60 लाख के पार, मरने वालों का आंकड़ा 10,482 पहुंचा◾पायलट को मनाने में लगे राहुल और प्रियंका, कई वरिष्ठ नेताओं ने भी किया संपर्क ◾एलएसी विवाद : कल होगी भारत-चीन के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की चौथी बैठक◾बौखलाए चीन ने निकाली खीज, अमेरिका के शीर्ष अधिकारियों - नेताओं पर वीजा प्रतिबंध लगाया ◾कांग्रेस विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पारित, हाईकमान के नेतृत्व में जताया विश्वास ◾बच गई राजस्थान की कांग्रेस सरकार, मुख्यमंत्री गहलोत ने विधायकों के संग दिखाया शक्ति प्रदर्शन◾सीबीएसई बोर्ड की 12वीं कक्षा के परिणाम घोषित, 88.78% परीक्षार्थी रहे उत्तीर्ण ◾श्रीपद्मनाभ स्वामी मंदिर प्रबंधन पर शाही परिवार का अधिकार SC ने रखा बरकरार◾सियासी संकट के बीच CM गहलोत के करीबियों पर IT का शकंजा, राजस्थान से लेकर दिल्ली तक छापेमारी◾राहुल ने केंद्र पर साधा सवालिया निशाना, कहा- क्या भारत कोरोना जंग में अच्छी स्थिति में है?◾जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग में सुरक्षा बलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़ जारी, एक आतंकवादी ढेर ◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख 78 हजार के पार, साढ़े पांच लाख से अधिक लोगों ने महामारी से पाया निजात ◾दुनियाभर में कोरोना संक्रमितों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी, मरीजों की संख्या 1 करोड़ 29 लाख के करीब ◾CM शिवराज ने किया मंत्रिमंडल में विभागों का बंटवारा, नरोत्तम मिश्रा बने MP के गृह मंत्री◾असम में बाढ़ और भूस्खलन में चार और लोगों की मौत, करीब 13 लाख लोग प्रभावित◾चीन से तनाव के बीच सेना के आधुनिकीकरण के तहत अमेरिका से 72,000 असॉल्ट राइफल खरीद रहा भारत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

जेपी इन्फ्राटेक के ऋणदाताओं ने समाधान योजना पर की चर्चा

नई दिल्ली : जेपी इन्फ्राटेक के ऋणदाताओं ने सोमवार को कर्ज के बोझ से दबी इस कंपनी के अधिग्रहण के लिए एनबीसीसी लि. और सुरक्षा रीयल्टी द्वारा जमा कराई गई बोलियों पर विचार विमर्श किया। सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए कहा कि ऋणदाताओं की नवंबर के आखिरी सप्ताह में फिर बैठक होगी जिसमें दोनों बोली जमा कराने वाली कंपनियों से बातचीत की जाएगी। सूत्रों ने बताया कि ऋणदाताओं की समिति (सीओसी) सोमवार को हरियाणा के गुरुग्राम में बैठक हुई। 

इसमें एनबीसीसी और सुरक्षा रीयल्टी द्वारा रविवार को सौंपी गई समाधान योजना पर चर्चा हुई। जेपी इन्फ्राटेक के अंतरिम समाधान पेशेवर (आईआरपी) ने उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर सार्वजनिक क्षेत्र की एनबीसीसी और मुंबई की कंपनी सुरक्षा रीयल्टी से बोलियां जमा कराने को कहा था। यह तीसरे दौर की निविदा प्रक्रिया है। सूत्रों ने कहा कि एनबीसीसी और सुरक्षा रीयल्टी के वरिष्ठ अधिकारियों ने सीओसी के समक्ष प्रस्तुतीकरण दिया और अपनी समाधानइ योजना की मुख्य बातों को रखा। 

सूत्रों ने कहा कि ऋणदाता संभवत: दोनों बोलियां जमा कराने वाली कंपनियों से कुछ स्पष्टीकरण मांग सकते हैं। सीओसी की अगली बैठक नवंबर के अंतिम सप्ताह में संभवत: 28 नवंबर को हो सकती है। सूत्रों ने बताया कि स्पष्टीकरण और बातचीत के बाद एनबीसीसी और सुरक्षा रीयल्टी को अपनी अंतिम योजना सौंपने को कहा जा सकता है। मतदान की प्रक्रिया 10 दिसंबर से पहले हो सकती है। बैठक में मौजूद कुछ खरीदारों ने जेपी इन्फ्राटेक के फॉरेंसिक आडिट की मांग की ताकि कोष को इधर उधर करने का पता लग सके। 

सीओसी में 13 बैंकों और 23,000 फ्लैट खरीदारों के पास मतदान का अधिकार है। खरीदारों के पास 60 प्रतिशत मत हैं। बोलियों को मंजूरी के लिए कम से कम 66 प्रतिशत मतों की जरूरत है। बैंकों का करीब 9,800 करोड़ रुपये का बकाया चुकाने को एनबीसीसी ने 5,000 करोड़ रुपये की 1,426 एकड़ जमीन जमीन, 858 एकड़ जमीन का करीब 75 प्रतिशत जेपी इन्फाटेक को स्थानांतरित करने और 3,000 बेनामी या बिना दावे वाले फ्लैटों की बिक्री से प्राप्त 50 प्रतिशत राशि की पेशकश की है। 

सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी ने नोएडा को आगरा से जोड़ने वाले यमुना एक्सप्रेसवे को ऋणदाताओं को स्थानांतरित करने का प्रस्ताव किया है। एनबीसीसी चाहती है कि इससे पहले वह एक्सप्रेस वे के नाम पर करीब 2,500 करोड़ रुपये का कर्ज जुटाए जिससे अगले चार साल में 20,000 फ्लैटों का निर्माण पूर कर उन्हें उपभोक्ताओं को सौंपा जा सके। इस बीच, सुरक्षा रीयल्टी ने 7,857 करोड़ रुपये की 1,934 एकड़ जमीन ऋणदाताओं को देने की पेशकश की है। कंपनी ने अगले तीन साल में निर्माण पूरा करने के लिए 2,000 करोड़ रुपये की कार्यशील पूंजी लाने तथा यमुना एक्सप्रेसवे को अपने पास ही रखने की पेशकश की है।