BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश में COVID-19 से चौथी मौत, आगरा में 76 साल की महिला ने तोड़ा दम◾गृह मंत्रालय ने भी राज्यों को लिखा पत्र, कहा- जमाखोरों, कालाबाजारी करने वालों पर हो सख्त कार्रवाई◾कोविड-19 की जांच को लेकर SC ने कहा-प्राइवेट लैब में मुफ्त हो कोरोना टेस्ट ◾देश में लॉकडाउन से उत्पन्न हालात पर विचार विमर्श के लिए PM मोदी ने की राजनीतिक दलों के नेताओं से चर्चा ◾ब्राजील के राष्ट्रपति ने कोरोना को लेकर PM मोदी को लिखी चिट्ठी, भारत की मदद को बताया संजीवनी◾हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वाइन के निर्यात को मंजूरी मिलने के बाद बदले ट्रंप के सुर, PM मोदी को बताया महान◾देश में कोरोना वायरस से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 5194 हुई, अबतक 149 लोगों की मौत ◾कोरोना वायरस को लेकर CM केजरीवाल राज्यसभा और लोकसभा सांसदों के साथ करेंगे बैठक◾PM मोदी ने भारतीय-अमेरिकी पत्रकार ब्रह्मा कांचीबोटला के निधन पर जताया शोक, कोविड-19 से हुआ निधन◾Covid-19 : PM मोदी आज लोकसभा और राज्यसभा के फ्लोर लीडर्स के साथ करेंगे बातचीत ◾अमेरिका में कोरोना के प्रकोप के बीच डोनाल्ड ट्रम्प ने की WHO के वित्त पोषण पर रोक लगाने की घोषणा◾Coronavirus : चीन के वुहान में 76 दिन के बाद खत्म हुआ लॉकडाउन ◾लॉकडाउन: दिल्ली पुलिस ने शब-ए-बारात के मद्देनजर मौलवियों, धार्मिक नेताओं से संपर्क साधा ◾ISIS आतंकी समूह ने सीआरपीएफ पर हुए ग्रेनेड हमले की जिम्मेदारी ली ◾कांग्रेस आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति में शामिल, सोनिया कर रहीं जनता को गुमराह: भाजपा ◾नोएडा सेक्टर 8 में कोरोना संदिग्ध मिलने के चलते 28 परिवारों के 240 से ज्यादा लोग एहतियातन क्वारंटाइन किए गए ◾कोविड-19 : महाराष्ट्र में कोरोना से संक्रमित लोगों का आंकड़ा 1 हजार के पार◾दिल्ली राज्य कैंसर संस्थान को किया गया बंद, अस्पताल के कई कर्मचारी COVID-19 से संक्रमित◾हरियाणा में कोरोना के 23 नए मामलें आये सामने, राज्य में संक्रमितों कि संख्या बढ़कर 119 हुई ◾जम्मू-कश्मीर में COVID-19 से एक और व्यक्ति की मौत, अब तक125 लोग संक्रमित◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

‘मेक इन इंडिया’ को मिलेगा बल

नई दिल्ली : सरकार ने उच्च आर्थिक वृद्धि दर हासिल करने तथा रोजगार सृजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के महत्वकांक्षी कार्यक्रम ‘मेक इन इंडिया’ की एक कार्य योजना बनाई है जिसमें नीतिगत पहल, वित्तीय प्रोत्साहन, बुनियादी ढांचा, सुगम कारोबार, नवाचार और अनुसंधान एवं विकास तथा कौशल विकास जैसे 21 प्रमुख क्षेत्रों की पहचान की गई है। कार्य योजना के अनुसार सरकार ने इन क्षेत्रों के लिए पूंजी उपलब्ध कराने के लिए प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति और प्रक्रिया को सरल बनाया है और इसका उदारीकरण किया है। रक्षा, खाद्य प्रसंस्करण, दूरसंचार, कृषि, फार्मा, नागरिक उड्डयन, अंतरिक्ष, निजी सुरक्षा एजेंसियों, रेलवे, बीमा और पेंशन तथा चिकित्सा उपकरणों जैसे प्रमुख क्षेत्रों को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए खोल दिया गया है।

हाल में ही केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने चैम्पियन क्षेत्रों के संवर्धन और उनकी सामर्थ्य को समझने के उद्देश्य से 12 निर्धारित चैम्पियन सेवा क्षेत्रों पर विशेष रूप से ध्यान देने के लिए वाणिज्य मंत्रालय के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इनमें सूचना प्रौद्योगिकी और सूचना प्रौद्योगिकी सक्षम सेवाओं (आईटी और आईटीईएस), पर्यटन और आतिथ्य सेवाएं, चिकित्सा मूल्यांकन भ्रमण, परिवहन और लॉजिस्टिक सेवाएं, लेखा और वित्त सेवाएं, दृश्य श्रव्य सेवाएं, कानूनी सेवाएं, संचार सेवाएं, निर्माण और उससे संबंधित इंजीनियरिंग सेवाएं, पर्यावरण सेवाएं, वित्तीय सेवाएं और शिक्षा सेवाएं शामिल हैं। सरकार ने इन क्षेत्रों से संबद्ध मंत्रालयों और विभागों को निर्देश दिया है कि निर्धारित चैम्पियन सेवा क्षेत्रों के लिए कार्य योजनाओं को अंतिम रूप देने और उनके कार्यान्वयन के लिए उपलब्ध क्षेत्रीय मसौदा योजनाओं का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। चैम्पियन क्षेत्रों की क्षेत्रीय कार्य योजनाओं को सहायता देने के लिए 5000 करोड़ रुपये का एक कोष बनाने का भी प्रस्ताव है।

सूत्रों के अनुसार सरकार का मानना है कि योजनाओं के कार्यान्वयन की निगरानी से सेवा क्षेत्रों में की प्रतिस्पर्धा बढ़गी और अर्थव्यवस्था में इजाफा होगा। लोगों को अधिक नौकरियां मिलेगीं और वैश्विक बाजारों के लिए निर्यात बढ़ेगा। भारतीय सेवा क्षेत्र की हिस्सेदारी वैश्विक सेवाओं के निर्यात में 2015 में 3.3 प्रतिशत थी जिसे वर्ष 2022 के लिए बढ़कर 4.2 प्रतिशत का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। सचिवों के समूह ने प्रधानमंत्री को भेजी गई सिफारिशों में 10 चैम्पियन क्षेत्र निर्धारित किए। इनमें सात निर्माण संबंधी क्षेत्र और तीन सेवा क्षेत्र हैं। चैम्पियन क्षेत्रों के संवर्धन और उनकी सामथ्र्य को हासिल करने के लिए यह फैसला किया गया कि ‘मेक इन इंडिया’ का प्रमुख विभाग -औद्योगिक नीति और संवर्द्धन विभाग (डीआईपीपी) निर्माण में चैंपियन क्षेत्रों की योजनाओ में प्रमुख भूमिका निभाएगा।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।