BREAKING NEWS

IPL-13 : चेन्नई सुपर किंग्स ने राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ टॉस जीता, गेंदबाजी का फैसला◾एकजुटता दिखाते हुए विपक्ष ने लोकसभा का किया बहिष्कार, कृषि मंत्री बोले - कांग्रेस के भ्रम में न आये जनता◾सरकार ने बताया 'बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ' योजना के विज्ञापन पर 2014 से कितने करोड़ खर्च हुए◾IPL-13 के CSK vs MI के उद्घाटन मैच ने व्यूअरशिप में तोड़े रिकॉर्ड, इतने करोड़ लोगों ने मुकाबला ◾2015 से अबतक प्रधानमंत्री मोदी की 58 विदेश यात्राएं, विदेश मंत्रालय ने खर्च का किया खुलासा ◾सुशांत केस : रिया चक्रवर्ती की 6 अक्तूबर तक बढ़ी न्यायिक हिरासत, जमानत पर HC में सुनवाई कल ◾ IIT के दीक्षांत समारोह में पीएम मोदी ने कहा-NEP आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी ◾राज्यसभा से निलंबित सांसदों के समर्थन में आए NCP प्रमुख, बोले- मैं भी रखूंगा एक दिन का उपवास◾विपक्ष के बहिष्कार के बीच कृषि से जुड़ा तीसरा बिल पास, आवश्यक वस्तु संशोधन विधेयक पर संसद की मुहर◾UN में भारत की पाकिस्तान को दो टूक जवाब- कश्मीर की बजाय आतंकवाद खत्म करने पर ध्यान दें◾राज्यसभा से निलंबित सांसदों का धरना खत्म, अब मॉनसून सत्र का बहिष्कार करेगा पूरा विपक्ष ◾कृषि बिल : राहुल का मोदी सरकार पर वार- किसानों को करके जड़ से साफ, पूंजीपति ‘मित्रों’ का खूब विकास'◾सांसदों का निलंबन रद्द किए जाने तक राज्यसभा कार्यवाही का बहिकार करेगा विपक्ष : गुलाम नबी आजाद◾भारत और चीन के बीच मोल्डो में 13 घंटे तक चली कमांडर-स्तरीय हाई लेवल मीटिंग, LAC विवाद पर हुई चर्चा ◾राज्यसभा से निलंबित हुए सदस्यों को चाय पिलाने पहुंचे उपसभापति, पीएम मोदी ने की तारीफ ◾देश में कोरोना से 89 हजार के करीब लोगों ने गंवाई जान, पॉजिटिव केस 55 लाख के पार ◾World Corona : दुनियाभर में महामारी का हाहाकार, संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 12 लाख के पार◾जम्मू-कश्मीर : सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में एक आतंकवादी ढेर, सर्च ऑपरेशन जारी◾सुशांत सिंह की मौत के मामले की जांच कर रही CBI और मेडिकल बोर्ड की बैठक आज होगी ◾IPL-13: बेंगलोर का टूर्नामेंट में जीत से आगाज, हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

राफेल पर संप्रग ने जो किया उसे बयां नहीं किया जा सकता : सीतारमण

चेन्नई : रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने करीब 10 साल तक राफेल लड़कू विमान सौदे पर निर्णय नहीं करने को लेकर पिछली संप्रग सरकार की आज आलोचना की और कहा कि देर करने से क्या हुआ, उसे वह विस्तार से बयां नहीं कर सकती क्योंकि इसमें राष्ट्र की सुरक्षा शामिल है। रक्षा मंत्री ने कहा कि संप्रग शासन के दौरान 2004 और 2013 के बीच कई दौर की चर्चा के बाद भी कोई फैसला नहीं लिया गया। उन्होंने कहा, 10 साल तक सथा में रहने के बाद...आपने (कांग्रेस पार्टी नीत संप्रग) कोई फैसला नहीं लिया।

 मंत्री ने कहा कि निर्णय नहीं लेने के चलते क्या हुआ, उसे वह विस्तार से बयां नहीं कर सकती क्योंकि यह मुद्दा राष्ट्र की सुरक्षा से जुड़ हुआ है। उन्होंने कहा, राजग के 2014 में सथा में आने के बाद फ्रांस से 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए अंतर - सरकारी रास्ते का विकल्प चुना गया। दरअसल, इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द, मोदी की वायु सेना के साथ चर्चा हुई थी। उन्होंने कहा कि संप्रग सरकार खरीद पूरी नहीं कर सकी। वहीं, भाजपा नीत सरकार ने हमारी जरूरत और तात्कालिकता पर विचार करते हुए यह किया। उन्होंने सीआईआई के एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा कि खरीद का आर्डर उचित तरीके से किया गया।

सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की सहमति ली गई और सारी औपचाराकिताएं पूरी की गई। दरअसल, इस बारे में उनसे एक सवाल किया गया जिसके जवाब में उन्होंने यह कहा। यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस यह मुद्दा अब क्यों उठा रही है, रक्षा मंत्री ने कहा, यह सरकार बगैर किसी भ्रष्टाचार के काम कर रही है। उन्होंने कहा कि यह (लड़कू विमान खरीद) भ्रमित करने का एक बहाना बन गया है। गौरतलब है कि कल मंत्री ने दिल्ली में संवाददाताओं से बात करते हुए सौदे पर कांग्रेस पार्टी के आरोपों को शर्मनाक बताया था। उन्होंने कहा कि हथियार प्रणाली के साथ हर लड़कू विमान की कीमत उससे कम है, जो संप्रग सरकार ने बात की थी।

उन्होंने आरोप लगाया कि लड़कू विमान खरीदने के पिछली संप्रग सरकार के अनिर्णय ने संभवत: राष्ट्रीय सुरक्षा के हितों से समझौता किया। गौरतलब है कि भारत ने 36 राफेल विमानों की खरीद के लिए सितंबर 2016 में फ्रांस के साथ एक अंतर - सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। इससे करीब डेढ साल पहले प्रधानमंत्री मोदी ने पेरिस की एक यात्रा के दौरान इस प्रस्ताव की घोषणा की थी। कांग्रेस पार्टी ने हाल के समय में इस सौदे की कीमतों सहित कई चीजों पर सवाल उठाए हैं। उसने सरकार पर सांठगांठ वाले पूंजीवाद को बढ़वा देकर राष्ट्रीय हित और सुरक्षा से समझौता करने का आरोप लगाया। साथ ही, सरकारी खजाने को नुकसान पहुंचाने का भी आरोप लगाया है।