BREAKING NEWS

शाहीन बाग में नहीं निकला कोई हल, महिलाएं वार्ताकारों की बात से नाखुश◾राम मंदिर निर्माण : अमित शाह ने पूरा किया महंत नृत्यगोपाल से किया वादा◾उद्धव ठाकरे शुक्रवार को नयी दिल्ली में प्रधानमंत्री से मिलेंगे ◾UP के 4 स्टेशनों के नाम बदले, इलाहाबाद जंक्शन हुआ प्रयागराज जंक्शन◾J&K प्रशासन ने महबूबा मुफ्ती के करीबी सहयोगी पर लगाया PSA◾ओवैसी के मंच पर प्रदर्शनकारी युवती ने लगाए 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, पुलिस ने किया राजद्रोह का केस दर्ज◾भारत में लोगों को Trump की कुछ नीतियां नहीं आई पसंद, लेकिन लोकप्रियता बढ़ी - सर्वेक्षण◾दिल्ली सहित उत्तर के कई इलाकों में बारिश , फिर लौटी ठंड , J&K में बर्फबारी◾Trump की भारत यात्रा के मद्देनजर दिल्ली पुलिस ने रूट पर CCTV कैमरे लगाने शुरू किए◾गांधी के असहयोग आंदोलन जैसा है सीएए, एनआरसी और एनपीआर का विरोध : येचुरी ◾AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी की मौजूदगी में मंच पर पहुंचकर लड़की ने लगाए पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे◾महिलाओं को सेना में स्थायी कमीशन मिलने से लैंगिक समानता लाने की दिशा में मिलेगी सफलता : सेना प्रमुख◾मुझे ISI, 26/11 आंतकी हमलों से जोड़ने वाले BJP प्रवक्ताओं के खिलाफ करुंगा मानहानि का दावा : दिग्विजय◾अमेरिकी राष्ट्रपति के बयान का संदर्भ व्यापार संतुलन से था, चिंताओं पर ध्यान देंगे : विदेश मंत्रालय◾राम मंदिर ट्रस्ट ने PM मोदी से की मुलाकात, अयोध्या आने का दिया न्योता◾अयोध्या में बजरंगबली की शानदार और भव्य मूर्ति बनाने के लिए ट्रस्ट से करेंगे अनुरोध - AAP◾अमित शाह सीएए के समर्थन में 15 मार्च को हैदराबाद में करेंगे रैली ◾AMU के छात्रों ने मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ निकाला विरोध मार्च ◾भाकपा ने किया ट्रंप की यात्रा के विरोध में ‘प्रगतिशील ताकतों’, नागरिक संस्थाओं से प्रदर्शन का आह्वान◾TOP 20 NEWS 20 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾

RBI ने PMC बैंक के ग्राहकों के लिए कैश निकालने की बढ़ाई लिमिट, जानिए कितना निकाल सकते हैं कैश

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने सहकारी बैंक पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक (पीएमसी) के जमाकर्ताओं के लिए कैश निकालने की लिमिट बढ़ा दी है. नए नियम के तहत अब पीएमसी बैंक के जमाकर्ताओं हर दिन 10 हजार रुपये कैश निकाल सकेंगे। पहले यह लिमिट सिर्फ 1000 रुपये की थी। 

मंगलवार को आरबीआई ने मुंबई स्थित पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड पर किसी भी प्रकार के व्यापारिक लेन-देन पर रोक लगा दी थी. आरबीआई ने यह कार्रवाई बैंकिग रेलुगेशन एक्ट, 1949 के सेक्‍शन 35ए के तहत की है.जिससे बैंक के निवेशकों और ग्राहक दोनों परेशान थे। 

बैंक के पास पर्याप्त नकदी, लोगों की पाई-पाई सुरक्षित 

पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक (पीएमसी) के निलंबित प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस ने दावा किया है कि ऋणदाता के पास अपनी देनदारियों को निपटाने के लिए पर्याप्त नकदी है और जनता की पाई-पाई सुरक्षित है। थॉमस ने बुधवार शाम को  साक्षात्कार में पीएमसी के जमाकर्ताओं और ग्राहकों की आशंकाओं को दूर करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि बैंक के सभी ऋण सुरक्षित हैं। सिर्फ एक बड़ा खाता एचडीआईएल मौजूदा संकट की एकमात्र वजह है। 

भारतीय रिजर्व बैंक ने मंगलवार को नियामकीय कार्रवाई करते हुए पीएमसी के प्रबंधन को भंग कर दिया है। केंद्रीय बैंक ने छह महीने के लिए पीएमसी के कामकाज के लिए प्रशासक नियुक्त किया है। कई बार प्रयास के बावजूद एचडीआईएल से संपर्क नहीं हो पाया। 

रिजर्व बैंक ने छह महीने के लिए पीएमसी के खाताधारकों की निकासी की सीमा 1,000 रुपये तय की है। इसके अलावा इस अवधि में बैंक द्वारा नया कर्ज देने पर भी रोक लगाई गई है। हालांकि, थॉमस ने यह नहीं बताया कि एचडीआईएल पर पीएमसी का कितना कर्ज बकाया है। उन्होंने कहा कि एचडीआईएल बैंक का सबसे बड़ा और पुराना ग्राहक है। उन्होंने कहा कि बैंक के अन्य सभी खाते सुरक्षित हैं। 

भविष्य के चंद्र अभियान की योजनाओं पर चल रहा है काम : सिवन

थॉमस ने कहा कि सभी कर्ज पूरी तरह सुरक्षित हैं और ग्राहकों को घबराने की कोई जरूरत नहीं है। थॉमस ने कहा, ‘‘हमारे पास पर्याप्त नकदी है। साथ ही हमने जो कर्ज दिया है उसके एवज में वैकल्पिक प्रतिभूतियां हैं। हम बिना गारंटी कोई कर्ज नहीं देते और हमारा ऋण कवरेज अनुपात हमेशा 100-110 प्रतिशत रहा है। ’’ उन्होंने बताया कि बैंक के पास सांविधिक तरलता अनुपात (एसएलआर) और नकद आरक्षित अनपुात (सीआरआर) के रूप में 4,000 करोड़ रुपये की नकदी है। बैंक की देनदारियां करीब 11,600 करोड़ रुपये हैं। 

रिजर्व बैंक द्वारा पीएमसी पर कार्रवाई की प्रमुख वजह बैंक द्वारा अपने डूबे कर्ज को कम कर दिखाना है। सूत्रों का कहना है कि बैंक की गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) दहाई अंकों में ऊंचे स्तर पर हैं। वहीं वित्त वर्ष 2018-19 में बैंक के बही खाते में एनपीए को 2.19 प्रतिशत के निचले स्तर पर दिखाया गया है। इससे पिछले वित्त वर्ष 2017-18 में यह 1.05 प्रतिशत था। थॉमस ने स्वीकार किया कि एचडीआईएल के खाते में एनपीए को कम कर दिखाने की वजह से यह समस्या खड़ी हुई है। 

स्लम पुनर्विकास कंपनी पहले से नकदी संकट से जूझ रही है। अब यह दिवाला प्रक्रिया में है। पिछले कई साल से कंपनी भुगतान में देरी कर रही है। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि एचडीआईएल पर बैंक का कितना कर्ज बकाया है। उन्होंने कहा कि यह कर्ज पूरी तरह सुरक्षित या गारंटी वाला है। थॉमस ने कहा कि समस्या की प्रमुख वजह एचडीआईएल द्वारा भुगतान में देरी है। उन्होंने विश्वास जताया कि देर-सवेर बैंक में स्थिति सामान्य हो जाएगी। यह कर्ज पूरी तरह गारंटी में है। 

बैंक अब एचडीआईएल से उसकी संपत्तियों की बिक्री के लिए बात कर रहा है जिससे वह अपना बकाया वसूल सके। उन्होंने कहा, ‘‘हम पिछले कई माह से एचडीआईएल के साथ काम कर रहे हैं। हमें इस बात की जानकारी है कि कंपनी अपनी संपत्तियों के मौद्रिकरण के अग्रिम चरण में है। इसी वजह से हम कह रहे हैं कि जल्द समस्या दूर हो जाएगी।’’ 

एचडीआईएल को पुराना ग्राहक बताते हुए थॉमस ने कहा कि जब हम सिर्फ एक इकाई वाला बैंक थे तो उन्होंने हमें समर्थन दिया। जब हमें समस्या आई तब भी उनका सहयोग मिला। ‘‘बहुत साल पहले 1988 में जब कोई बैंक में एक पैसा भी जमा नहीं करा रहा था, उन्होंने 13 लाख रुपये जमा कराए थे।’’ थॉमस ने कहा कि बैंक का 40 से 50 प्रतिशत कारोबार सिर्फ एचडीआईएल से आता था। ‘‘हमने उनसे काफी मुनाफा कमाया है। ऐसा नहीं होता तो हमारा बैंक आगे कैसे बढ़ता और हम शीर्ष पांच में कैसे आते?’’