BREAKING NEWS

पश्चिम बंगाल : नारदा मामले में गिरफ्तारी के 7 घंटे बाद चारों टीएमसी नेताओं को CBI कोर्ट से मिली जमानत◾दिल्ली को कोरोना से मिली राहत, पिछले 24 घंटे में आए 4524 नए मामले, 340 की हुई मौत◾नारदा केस : TMC का प्रदर्शन, अभिषेक बनर्जी बोले- लॉकडाउन का करें पालन, लड़ाई कानूनी तरीके से लड़ेंगे◾ऑक्सीजन एक्सप्रेस का 13 राज्यों को मिला है लाभ, रेलवे ने अब तक पहुंचाई रिकॉर्ड 10000 टन जीवनदायी गैस◾सुरजेवाला ने केंद्र को बताया ‘जन लूट सरकार’, कहा- कोरोना काल में राहत देने की बजाय लाद रही टैक्स का बोझ ◾TMC नेताओं पर हुई CBI कार्रवाई के बाद ममता ने शुरू किया धरना, कहा- ये गिरफ्तारियां राजनीति से प्रेरित और अवैध◾डीआरडीओ की एंटी कोविड दवा 2-DG की पहली खेप जारी,राजनाथ सिंह ने बताया- 'उम्मीद की किरण' ◾गुजरात की ओर बढ़ रहा Cyclone Tauktae, सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाए गए एक लाख लोग ◾PMCares के वेंटिलेटर और पीएम में कई समानताएं, दोनों का हद से ज्यादा झूठा प्रचार, काम करने में फेल : राहुल ◾तेजस्वी यादव ने CM नीतीश पर साधा निशाना, बोले- 'कुर्सी छोडें, हम बताएंगे कैसे पहुंचाई जाती है लोगों को मदद◾नारदा केस: TMC के 2 मंत्रियों समेत 4 नेता अरेस्ट, CBI के दफ्तर पहुंची CM ममता, कहा- मुझे भी करो गिरफ्तार ◾कोरोना वायरस : देश में बीते 24 घंटे में आए 3 लाख से कम नए केस, 4106 लोगों ने गंवाई जान ◾कोरोना महामारी के बीच खुले केदारनाथ के कपाट, PM मोदी की ओर से की गई पहली पूजा◾तालाबंदी का हो रहा गहरा प्रभाव, कोरोना महामारी को मात देने में असरदार, आज से कई राज्यों में बढ़ा लॉकडाउन◾विश्व में कोरोना महामारी का प्रकोप जारी, अब तक 33.7 लाख लोगों ने गंवाई जान◾गुजरात की तरफ बढ़ा चक्रवात तौकते, मुंबई में तेज हवाओं के साथ हो रही है बारिश, अब तक 8 लोगों की मौत ◾ताउते तूफान : गुजरात,दीव के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी◾ऑक्सिजन कंसंट्रेटर्स की कालाबाजारी के मामले में दिल्ली के कारोबारी नवनीत कालरा को गुरुग्राम से किया गिरफ्तार◾DRDO की कोविड-19 रोधी दवा सोमवार को होगी लॉन्च◾चक्रवात तौकते को लेकर अमित शाह ने की गोवा के मुख्यमंत्री से बात◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

एसबीआई प्रमुख का बयान- जब तक संभव होगा नरम ब्याज दरें नरम बनाये रखेंगे

भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) अर्थव्यवस्था की वृद्धि को समर्थन देने के लिये ब्याज दरों को जितना संभव होगा नरम और अनुकूल बनाये रखेगा। बैंक के चेयरमैन दिनेश कुमार खारा ने यह कहा।कोविड- 19 महामारी की दूसरी लहर का बैंक की गैर- निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) पर पड़ने वाले असर के बारे में एसबीआई चेयरमैन ने कहा कि यह लॉकडाउन पूरे भारत में नहीं लगा है। ऐसे में हमें बैंकिंग क्षेत्र पर इसके पड़ने वाले असर की कुछ समय प्रतीक्षा करनी होगी उसका आकलन करना होगा।

उन्होंने कहा कि मुद्रास्फीति सहित कई चीजें हैं जिनका ब्याज दर पर असर होता है। ‘‘हमारा प्रयास आर्थिक वृद्धि के प्रयासों को समर्थन देना है। यह सुनिश्चित करने के लिये जितना संभव हो सकेगा हम ब्याज दरों को नरम बनाये रखने का प्रयास करेंगे।’’खारा ने कहा कि स्थानीय प्रतिबंधों के आधार पर बैंकों के एनपीए परिदृय को लेकर इस समय किसी भी तरह का आकलन किया जाना जल्दबाजी होगी। उन्होंने कहा, ‘‘अलग अलग राज्यों में लाकडाउन की स्थिति अलग है, ऐसे में हमें अर्थव्यवस्था और एनपीए की स्थिति को लेकर कोई भी टिप्पणी करने से पहले कुछ और समय तक देखना और प्रतीक्षा करनी चाहिये।’’

कोरोना वायरस महामारी की मौजूदा परिस्थितियों के बीच बैंक द्वारा किये जा रहे प्रयासों के बारे में खारा ने कहा कि बैंक ने देश के कुछ अधिक प्रभावित राज्यों में कोविड- 19 मरीजों के लिये गहन चिकित्सा सुविधा (आईसीयू) वाले अस्थाई अस्पताल बनाने का फैसला किया है।बैंक ने इस काम के लिये 30 करोड़ रुपये की राशि रखी है और वह आपात स्तर पर चिकित्सा सुविधायें स्थापित करने को लेकर कुछ गैर- सरकारी संस्थानों (एनजीओ) और अस्पताल प्रबंधन के साथ संपर्क में है।

उन्होंने कहा कि बेंक सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में कोविड- 19 मरीजों के इलाज के लिये एक हजार बिस्तरों की व्यवसथा करना चाहता है। इनमें 50 बिस्तरे आईसीयू सुविधा के साथ होंगे।खारा ने कहा कि स्टेट बैंक आक्सीजन सिलेंडर तथा दूसरी सुविधायें उपलब्ध कराने के लिये भी अस्पतालों और एनजीओ के साथ गठबंधन कर रहा है। ‘‘हमने एक कार्ययोजना तैयार की हे। हमने 70 करोड़ रुपये की व्यवस्था की है जिसमें कोविड- 19 से जुड़े पहलों के लिये 17 सर्किलों में 21 करोड़ रुपये दिये जा रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि बैंक के कर्मचारियों और उनके परिवारों की सुरक्षा के लिये बैंक ने देशभर में कुछ अस्पतालों के साथ समझौता किया है ताकि बीमार पड़ने वाले बैंक के कर्मचारियों को प्राथमिकता के आधार पर इलाज की सुविधा मिल सके।

बेंक ने अपने कर्मचारियों और उनके आश्रितों के टीकाकरण का खर्च भी खुद उठाने का फैसला किया है। बैंक के कुल ढाई लाख कर्मचारियों में से अब तक 70 हजार कर्मचारियों का टीकाकरण हो चुका है।