BREAKING NEWS

दुनियाभर में कोरोना का प्रकोप लगातार जारी, मरीजों का आंकड़ा 9.55 करोड़ तक पहुंचा◾TOP 5 NEWS 19 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾विदेशी आतंकियों की मौजूदगी से आतंकवाद विरोधी प्रयास हो रहे कमजोर : टी. एस. तिरुमूर्ति◾गुजरात : सूरत में सड़क किनारे सो रहे प्रवासी मजदूरों को ट्रक ने कुचला, 13 लोगों की मौत ◾शुभेंदु अधिकारी ने ममता के गढ़ में चुनाव लड़ने का किया ऐलान बोले- 50 हजार वोटों से हारेंगी, नहीं तो छोड़ दूंगा राजनीति ◾किसान संगठनों और सरकार के बीच दसवें दौर की वार्ता अब बुधवार को होगी◾‘तांडव’ की टीम ने बिना शर्त माफी मांगी, कहा-भावनाएं आहत करने का कोई इरादा नहीं ◾सुशासन सरकार में पुलिस दोषियों के बजाये निर्दोष को जेल भेजने का काम करती है :तेजस्वी ◾आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह को मिली जिंदा जलाकर मारने की धमकी ◾एम्स निदेशक की जनता से अपील - मामूली साइड इफेक्ट से मत डरें, वैक्सीन आपको मारेगी नहीं ◾SC की टिप्पणी के बाद बोले किसान संगठन - ट्रैक्टर रैली निकालना किसानों का संवैधानिक अधिकार है◾बढ़ते क्राइम को लेकर तेजस्वी ने राज्यपाल से की मुलाकात, कहा- बिहारियों की बलि मत दिजीए CM नीतीश ◾नंदीग्राम से विधानसभा चुनाव लड़ेंगी ममता बनर्जी, कहा- दल बदलने वालों की नहीं है चिंता ◾केंद्र ने माल्या प्रत्यर्पण मामले में दी SC को सूचना, कहा- ब्रिटेन ने डिटेल सांझा करने से किया इंकार ◾'तांडव' वेब सीरीज विवाद को लेकर लखनऊ से मुंबई रवाना हुई UP पुलिस की टीम◾भारतीय किसान यूनियन के प्रधान गुरनाम सिंह चढूनी को संयुक्त किसान मोर्चा ने किया सस्पेंड◾SC की टिप्पणी पर बोले राकेश टिकैत-हम झगड़ा नहीं, गण का उत्सव मनाएंगे◾ट्रैक्टर रैली पर बोला SC- दिल्ली में किसे एंट्री देनी है, यह तय करना पुलिस का काम, बुधवार को अगली सुनवाई◾गुजरात को PM मोदी का एक और तोहफा, अहमदाबाद-सूरत मेट्रो प्रोजेक्ट का किया शिलान्यास◾कृषि कानून को लेकर 55वें दिन प्रदर्शन जारी, आंदोलन तेज करते हुए अन्नदाता आज मनाएंगे 'महिला किसान दिवस' ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

रेल टिकटों की कालाबाजारी रोकने के लिए टिकट एजेंट की व्यवस्था खत्म होगी- पीयूष गोयल

सरकार ने रेल टिकटों की कालाबाजारी को जड़ से समाप्त करने के लिए टिकट बुकिंग एजेंटों की नियुक्ति की व्यवस्था समाप्त करने का फैसला किया है और यात्री अपने मोबाइल फोन या निजी कंप्यूटर से अथवा कॉमन सर्विस सेंटर से टिकट बुक करा सकेंगे। 

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यहाँ लोकसभा में आम बजट 2020-21 के तहत रेल मंत्रालय की अनुदान माँगों पर गुरुवार को हुई चर्चा का उत्तर देने के दौरान यह घोषणा की। श्री गोयल ने कहा कि रेलवे टिकटों की कालाबात्रारी पर लगाम लगाने के उद्देश्य से उन्होंने ऐसे एजेंटों के खिलाफ एक गहन जाँच-पड़ताल के बाद मुहिम छेड़े। 

रेलवे के तत्काल टिकट को बुक करने वाले अवैध सॉफ्टवेयरों को पकड़ा है और दलालों के खिलाफ कार्रवाई की है। सॉफ्टवेयर बेचने वाले 104 लोगों और 5,300 दलालों को गिरफ्तार किया गया है। 884 वेंडरों को कालीसूची में डाला गया है। रेल मंत्री ने कहा कि सरकार ने इस पूरे गोरखधंधे को देखते हुए बुकिंग एजेंटों की नियुक्ति को बंद करने का फैसला किया गया है।

 आजकल सबके पास स्मार्टफोन होते हैं। लोग अपने फोन से बुकिंग कर सकते हैं। सरकार के कॉमन सर्विस सेंटरों से भी टिकट बुक कराया जा सकता है। उन्होंने लोगों से अपील की कि वे गारंटी वाले टिकटों के झाँसे में नहीं आयें और ईमानदारी से टिकट खरीदें। उन्होंने कहा कि हाल में चलाये गये अभियान में 10 करोड़ रुपये के ऐसे टिकट रद्द किये गये हैं जो अवैध सॉफ्टवेयर से बनाये गये थे। लोगों का पैसा भी डूबा और टिकट भी हाथ से गया। इसलिए लोग गलत चक्करों में नहीं आयें तथा ईमानदारी से टिकट खरीदें। 

श्री गोयल ने गाड़ियों के ठहराव के संबंध में सांसदों की माँगों पर जवाब देते हुए कहा कि बीते 50-60 वर्षों में अनेक प्रकार के दबावों में कई स्टेशनों पर मेल एक्सप्रेस गाड़ियों को ठहराव दिये गये जबकि वहाँ गाड़ियों में पाँच-दस-पंद्रह यात्री ही सवार होते हैं। ये ठहराव रेलवे के नेटवर्क को जाम करते हैं। रेलवे की सलाहकार समिति ने साहसिक निर्णय लिया और सभी ऐसे ठहरावों की वाणिज्यिक दृष्टि से जाँच करके पुनर्निर्धारित किया जायेगा। 

इससे समयबद्धता बढ़ेगी और सांसदों की मांग पर नये ठहराव दिये जा सकेंगे। समयबद्धता के बारे में रेलमंत्री ने बताया कि उन्होंने इस समस्या की जड़ पर प्रहार किया है और उपग्रहों के माध्यम से गाड़ियों की स्थिति को स्वचालित प्रणाली से जोड़ा जिससे सही तस्वीर सामने आयी और इसके बाद समयबद्धता पर फोकस किया गया। जो गाड़ियां आठ घंटे-छह घंटे की देरी से चलतीं थीं, उन्हें चिह्नित करके ध्यान दिया गया और 2019-20 में ऐसी गाड़ियां घटकर 47 रह गयीं हैं जबकि एक साल पहले ऐसी 87 गाड़ियां थीं।

 श्री गोयल ने बताया कि रेलवे ने 2017 से लेकर 2020 तक एक लाख 47 हजार 620 कर्मचारियों की भर्ती की है। इनमें 35 हजार 208 एनटीपीसी श्रेणी के, 1663 पृथक श्रेणी के और एक लाख तीन हजार 770 लेवल-1 के पद हैं। उन्होंने कहा कि रेलवे को बीते पाँच साल में जैसी गति मिली है उससे यात्री एवं मालवहन दोनों क्षेत्र में सुधार आया है। सुविधाओं को बढ़ने के साथ ही जब थोड़ा सा बोझ बढ़ाया तो जनता ने उसे स्वीकार किया है।