देश के कई हिस्सों में गर्मी से बुरा हाल है। वही मौसम विभाग के डेटा के अनुसार देश के 25 प्रतिशत से कम हिस्से में अब तक सामान्य या अधिक बारिश हुई है। मानसून शनिवार से फिर सक्रिय हो गया है। यह धीरे-धीरे आगे बढ़ रहा है। अगले 48 घंटे में यह मध्य और उत्तर भारत तक पहुंच जाएगा। भीषण गर्मी का सामना कर रहे मध्य और उत्तर भारत के मैदानी इलाकों को अगले दो-तीन दिन में कुछ राहत मिलने की संभावना है।

विभाग के अतिरिक्त महानिदेशक मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि उत्तर-पश्चिमी भारत में 27 जून से मानसून-पूर्व मेघ गर्जना के साथ आंधी चलेगी और बारिश होगी। उन्होंने बताया कि 23 जून से फिर सक्रिय हुआ मानसून रविवार को गुजरात के सौराष्ट्र, वीरावल, अहमदाबाद, महाराष्ट्र के अमरावती व देश के पूर्वी हिस्से बंगाल व असम में सक्रिय रहा।

दिल्ली में मानसून के 29 जून को पहुंचने की उम्मीद है जो राष्ट्रीय राजधानी के लिए मानसून पहुंचने की सामान्य तिथि है। दक्षिण पश्चिमी मानसून निर्धारित सामान्य तिथि से तीन दिन पहले 29 मई को पहुंचा और केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र तथा दक्षिणी गुजरात के तटीय इलाकों में बारिश हुई। हालांकि कल तक कुल मिलाकर बारिश सामान्य से 10 प्रतिशत कम रही।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें।