BREAKING NEWS

उज्जीवन स्मॉल फाइनेंस बैंक ने किया ब्याज दरों में इजाफा, वरिष्ठ नागरिकों के लिए दर 0.50 प्रतिशत से बढ़कर 0.75◾राजस्थान में बिगड़ती कानून व्यवस्था के लिए कौन जिम्मेदार? जानिए क्या कहती है जनता◾कार्तिकेय सिंह के अरेस्ट वारंट पर बोले CM नीतीश, मुझे मामले की जानकारी नहीं◾Mann Ki Baat :PM मोदी ने 'मन की बात' की 28वीं कड़ी के लिए मांगे सुझाव, 28 अगस्त को होगा प्रसारण◾दलित छात्र की मौत को लेकर पायलट ने अपनी ही सरकार को दी नसीहत, BJP ने पूर्व उपमुख्यमंत्री का किया समर्थन◾बिलकिस बानो केस के दोषियों की रिहाई को लेकर राहुल का तंज, कहा-PM की कथनी और करनी को देख रहा है देश◾Yamuna Water Level : दिल्ली में यमुना नदी का जल स्तर एक बार फिर खतरे के पार पहुंचा◾Assembly Elections : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आज से गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों की करेंगे समीक्षा◾Central University Admission : CUET-ग्रेजुएट का चौथा चरण आज से शुरू हो गया ◾संगीत सोम का मंच से धमकी भरा बयान, कहा-'मैं अभी गया नहीं, अब भी 100 विधायकों के बराबर हूं'◾बीजेपी के निशाने पर कांग्रेस, सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए आतंकवाद, भ्रष्टाचार और परिवारवाद का लगाया आरोप ◾एक्सप्रेस ट्रेन और मालगाड़ी में जोरदार टक्कर,चार पहिए पटरी से उतरे, मची अफरा-तफरी ◾महाराष्ट्र : आज से शुरू होगा विधानसभा का मानसून सत्र, पहली बार विपक्ष में बैठेंगे आदित्य ठाकरे◾Coronavirus : 24 घंटे में दर्ज हुए 9 हजार केस, 2.49% रहा डेली पॉजिटिविटी रेट◾Jammu Kashmir: सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड फेंक फरार हुए आतंकी, सर्च अभियान में हथियार-गोलाबारूद बरामद◾मुश्किलों में फंस सकते है कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, सीबीआई कसेगी शिकंजा ◾आज का राशिफल (17 अगस्त 2022)◾बिहार में मिशन 35 प्लस के लक्ष्य के साथ नीतीश-तेजस्वी सरकार के खिलाफ मैदान में उतरेगी भाजपा◾PM मोदी और मैक्रों ने भू-राजनीतिक चुनौतियों, असैन्य परमाणु ऊर्जा सहयोग पर चर्चा की◾अपने अंतिम दिनों में, ठाकरे सरकार ने जल्दबाजी में लिए फैसले : CM शिंदे◾

शाहीन बाग में बड़ी संख्या में जुटे प्रदर्शनकारी, लेकिन आपसी मतभेद ज्यादा, प्रदर्शन कम

शाहीनबाग में रविवार को बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारी जुटे। सभी प्रदर्शनकारी ने तय किया कि वे केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आवास पर जानकार उनसे सीएए और एनआरसी को लेकर बात करेंगे, लेकिन इजाजत न मिलने की वजह से प्रदर्शनकारी शाहीनबाग से आगे नहीं बढ़ पाए। बाद में प्रदर्शनकारियों के बीच मतभेद दिखने लगा और मीडिया में दिखने की होड़ मच गई। 

शाहीनबाग में और कुछ लोग अपनी राजनीति चमकाने में लगे हुए हैं, जिस कारण दो महीने से ज्यादा समय से यहां धरना दे रहीं प्रदर्शनकारी महिलाओं को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है। 

रविवार को तय किया गया था कि सभी प्रदर्शनकारी गृहमंत्री अमित शाह के आवास की ओर कूच करेंगे, लेकिन इजाजत नहीं मिलने से आखिरी वक्त में यह नामुमकिन हो गया। उस दौरान वहां पहुंचे मीडिया के कैमरों में दिखने की होड़ मच गई। प्रदर्शनकारी आपसी तालमेल न होने की बात कहते हुए एक-दूसरे से कई बार लड़ते देखे गए। 

आखिरकार यह तय हुआ कि वहां मौजूद डीसीपी आर.पी. मीणा और एडिशनल डीसीपी कुमार ज्ञानेश से सिर्फ 'दादियां' बात करेंगी। एक दादी का नाम सरवरी और दूसरी का नाम बिल्किस है। उन्होंने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से मार्च निकालने की इजाजत के बाबात बात की। 

अधिकारियों ने कहा, 'हमने आपकी अर्जी दिल्ली पुलिस हेडक्वॉर्टर को भेज दी है, चीजें प्रक्रिया में हैं। वहां से इजाजत आएगी तो हम आपको बता देंगे और आपको सुरक्षा मुहैया कराके ले जाएंगे।'

 

प्रदर्शनकारियों में कई लोग ऐसे भी थे जो इस बात पर जोर दे रहे थे कि एक कमेटी होनी चाहिए जो हर चीज तय करे। फिलहाल शाहीनबाग में सभी प्रदर्शनकारी अपनी जगह शांतिपूर्ण तरीके से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं और सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार कर रहे हैं।