BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर : पुलवामा में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, तीन आतंकियों को किया ढेर◾राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास की पहली बैठक आज◾केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह बोले - कश्मीरी पंडितों का पुनर्वास सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता◾पासवान ने केजरीवाल को साफ पानी मुहैया करवाने की याद दिलाई◾J&K में पंचायतों के उपचुनाव सुरक्षा कारणों से स्थगित किए गए : जम्मू कश्मीर CEO◾मारिया खुलासे को लेकर BJP ने विपक्ष पर बोला हमला ,पूछा - क्या भगवा आतंकवाद साजिश कांग्रेस व ISI की संयुक्त योजना थी ?◾कोरोना वायरस से प्रभावित वुहान से और भारतीयों को वापस लाने, दवाएं पहुंचाने के लिए C-17 विमान भेजेगा भारत◾INX मीडिया मामले में CBI को आरोपपत्र से कुछ दस्तावेज चिदंबरम, कार्ति को सौंपने के निर्देश ◾मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया का दावा : लश्कर की योजना मुंबई हमले को हिंदू आतंकवाद के तौर पर पेश करने की थी◾ट्रम्प यात्रा को लेकर कांग्रेस ने BJP पर साधा निशाना , कहा - गरीबी को दीवार के पीछे छिपाने का प्रयास कर रही है सरकार◾संजय हेगड़े , साधना रामचंद्रन और वजाहत हबीबुल्लाह जाएंगे शाहीन बाग, शुरू होगी मध्यस्थता की कार्यवाही◾झारखंड और दिल्ली विधानसभा चुनाव में हार के बाद चिंतित बीजेपी बदल सकती है रणनीति◾ट्रंप को साबरमती आश्रम के दौरे के समय महात्मा गांधी की आत्मकथा, चित्र और चरखा भेंट किये जाएंगे◾जामिया वीडियो वार : नए वीडियो से मामले में आया नया मोड़ ◾अमर सिंह ने अमिताभ बच्चन से मांगी माफी, आपत्त‍िजनक टिप्पणियों को लेकर जताया खेद ◾UP आम बजट को कांग्रेस ने बताया किसानों और युवाओं के साथ धोखा◾जामिया हिंसा मामले में पुलिस ने दायर की चार्जशीट, कुल 17 लोगों की हुई गिरफ्तारी◾उत्तर प्रदेश : योगी सरकार ने 5 लाख 12 हजार करोड़ का बजट किया पेश, जानें क्या रहा खास◾CAA-NRC दोनों अलग, किसी को चिंता करने की जरूरत नहीं : उद्धव ठाकरे◾संजय सिंह का बड़ा बयान, बोले-अमित शाह के तहत बिगड़ रही है कानून और व्यवस्था की स्थिति ◾

हड़ताल की वजह से बैंकिंग सेवायें आंशिक रूप से प्रभावित, कुछ शाखाओं में नहीं हुआ कामकाज

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की कुछ कर्मचारी यूनियनों के आह्वान पर मंगलवार को हुई एक दिन की हड़ताल से देश के कुछ हिस्सों में बैंकों के कुछ कामकाज पर असर देखा गया। कर्मचारी यूनियनों ने यह हड़ताल बैंकों के विलय और बचत खाते में ब्याज दर कम होने के विरोध में की है। 

देश के विभिन्न हिस्सों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार हड़ताल की वजह से बैंकों में काउंटर पर दी जाने वाली नकदी के लेनदेन जैसी सेवायें प्रभावित हुईं। बैंक चेक क्लीयरेंस पर भी हड़ताल का असर देखा गया। हालांकि, निजी क्षेत्र के बैंकों में कामकाज सामान्य ढंग से हुआ। उनमें हड़ताल का असर नहीं दिखाई दिया। 

देश के कई हिस्सों में सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की शाखायें बंद रही। इस हड़ताल में अधिकारी शामिल नहीं थे इसके बावजूद कई शाखाओं में कामकाज नहीं हुआ। 

आल इंडिया बैंक एम्पलाईज एसोसियसेन (एआईबीईए) और बैंक एम्पलाईज फेडरेशन आफ इंडिया (बीईएफआई) ने इस हड़ताल का आह्वान किया था। ये यूनियनें सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय और जमा की ब्याज दर कम होने का विरोध कर रहीं हैं। 

सरकार ने इस साल अगस्त में सार्वजनिक क्षेत्र के दस बैंकों का विलय कर चार बड़े बैंक बनाने की घोषणा की है। ऐसा विश्वस्तर के बड़े और मजबूत बैंक बनाने के मकसद से किया गया। 

एआईबीईए के महासिचव सी एच वेंकटचलम ने कहा, ‘‘सरकार पहले ही सहयोगी बैंकों का भारतीय स्टेट बैंक में विलय कर चुकी है। इसके बाद देना बैंक और विजय बैंक को बैंक आफ बड़ौदा में विलय किया जा चुका है। इस पूरी प्रक्रिया में 3,000 बैंक शाखायें बंद हो चुकी हैं। अब यदि इन (10 बैंकों) का विलय भी होता है तो 2,000 और बैंक शाखायें बंद हो सकतीं हैं।’’ 

यूनियनों का कहना है कि सरकार बड़े उद्योगपतियों के हितों के लिये बैंकों का विलय कर रही है। इन्ही उद्योगपतियों ने बैंकों को लूटा है। इन्होंने बैंकों से कर्ज लेकर उसका भुगतान नहीं किया। 

पिछले महीने बैंकों के अधिकारियों की यूनियनों ने 26 और 27 सितंबर को अखिल भारतीय स्तर पर बैंक हड़ताल का आह्वान किया था लेकिन सरकार के हस्तक्षेप के बाद यह हड़ताल वापस ले ली गई थी।